पूर्व सीएम हुड्डा का हरियाणा सरकार पर हमला, कहा- नई शिक्षा नीति के नाम पर हो रही बस इवेंटबाजी

हरियाणा के पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने हरियाणा सरकार पर कड़ा हमला किया है। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में नई शिक्षा नीति के नाम पर बस इवेंटबाजी हाे रही है। हरियाणा में शिक्षा का बुरा हाल है और इसका स्‍तर लगातार गिरता जा रहा है।

Sunil Kumar JhaSat, 31 Jul 2021 07:57 PM (IST)
हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा और राज्‍य के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल। (फाइल फोटो)

चंडीगढ़, राज्‍य ब्‍यूरो। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने शिक्षा को लेकर राज्‍य की मनोहरलाल सरकार पर निशाना साधा है। हुड्डा ने कहा कि नई शिक्षा नीति के नाम पर राज्‍य में बस इवेंटबाजी हाे रही हैै। प्रदेश में शिक्षा का स्तर लगातार गिर रहा है। प्रदेश सरकार नए स्कूल खोलने की बजाय हजार से ज्यादा स्कूलों को बंद कर रही है। सात साल में जेबीटी की कोई भर्ती नहीं निकाली। इसके उलट पीटीआइ और ड्राइंग टीचर्स की नौकरी छीन ली गई और पीजीटी संस्कृत, टीजीटी इंग्लिश जैसी भर्तियों को रद कर दिया गया।

कहा, शिक्षकों के 50 हजार पद खाली, इन्हें भरे बगैर नहीं सुधरेगा शिक्षा का स्तर

पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा ने कहा कि हरियाणा में स्‍कूली शिक्षा का तो बुरा हाल है। राज्‍य के स्कूलों में शिक्षकों के 50 हजार पद खाली हैं। प्रदेश के 50 फीसद स्कूलों में तो हेड टीचर तक नहीं हैं। ऐसे हालात में शिक्षा का स्तर कैसे सुधरेगा। अपनी सरकार में खुले शिक्षण संस्थानों के नाम गिनाते हुए हुड्डा ने कहा कि उस दौरान प्रदेश में एक केंद्रीय विश्वविद्यालय, सात राजकीय विश्वविद्यालय, 23 डीम्ड विश्वविद्यालय, 35 राजकीय महाविद्यालय, 481 तकनीकी संस्थान, छह मेडिकल कालेज, 132 औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, 2623 स्कूलों के साथ ही राजीव गांधी एजुकेशन सिटी स्थापित की गई।

कांग्रेस सरकार में स्थापित शिक्षा संस्थानों के नाम गिनाए, कहा-अब सिस्टम बेपटरी हो गया है

उन्‍होंने कहा कि आल इंडिया इंस्टिट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज इंस्टीट्यूट, राष्ट्रीय कैंसर संस्थान, आइआइटी दिल्ली का विस्तार परिसर, आइआइएम, देश का दूसरा राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान, केंद्रीय प्लास्टिक इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, आइआइआइटी एवं निफ़्टम, राष्ट्रीय फैशन प्रोद्योगिकी संस्थान, विश्व का पहला ग्लोबल सेंटर फार न्यूक्लियर एनर्जी पार्टनरशिप जैसे दुनिया के प्रतिष्ठित संस्थान हरियाणा में आए।

हुड्डा ने कहा कि भाजपा सरकार के सात साल के शासन में एक भी ऐसी परियोजना या संस्थान हरियाणा में नहीं आया। इसके विपरीत कांग्रेस सरकार के दौरान मंजूरशुदा संस्थानों के काम को लटकाने और कैंसिल करने का कार्य हुआ। ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए शुरू हुए किसान माडल स्कूलों को बंद कर दिया गया। आरोही स्कूल भी बंद होने के कगार पर हैं।

उन्‍होंने कहा कि ऐसे में नई शिक्षा नीति का ढिंढोरा पीटना महज इवेंटबाजी है। बिना शिक्षा के आधारभूत ढांचे को मजबूत किए शिक्षा का स्तर नहीं बढ़ाया जा सकता। उन्होंने दावा किया कि खुद नीति आयोग की रिपोर्ट बताती है कि हरियाणा शिक्षा के क्षेत्र में पड़ोसी राज्यों से पिछड़ गया है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.