हरियाणा से दिल्‍ली जाना है तो सही मार्ग अपनाएं बस सेवाएं भी प्रभावित, जानें किस रूट से जाएं राजधानी

हरियाणा से दिल्‍ली जाने के लिए पुलिस ने ट्रैवल एडवाइजरी जारी की है। (फाइल फोटो)

Delhi Haryana Singhu Tehri Border News यदि आपको हरियाणा से दिल्‍ली जाना है ताे मार्ग का चयन साेच-समझकर करें। हरियाणा पुलिस ने इस संबंध में एडवाजरी जारी की है। पुलिस एडवाजरी में कहा गया है कि सिंघु बार्डर और टिकरी बार्डर का इस्‍तेमाल न करें।

Publish Date:Wed, 02 Dec 2020 08:51 AM (IST) Author: Sunil Kumar Jha

चंडीगढ़/पानीपत, जेएनएन। Delhi Haryana Singhu & Tehri Border News: अगर आपकाे हरियाणा से दिल्‍ली जाना है या वहां से वापस हरियाणा आना है तो रूट का चयन ठीक से करें, अन्‍यथा बुरी तर‍ह फंस सकते हैं। आप अभी सिघु बार्डर और टिकरी बार्डर का इस्‍तेमाल करने से बचें। हरियाणा पुलिस ने हरियाणा से दिल्‍ली जाने वालों के लिए ट्रैवल एडवाजरी जारी की है। पुलिस ने हरियाणा और दिल्‍ली के बीच यात्रा के लिए वैकल्पिक मार्ग सुझाए हैं। इनका इस्‍तेमाल कर आप सुविधाजनक तरीके से यात्रा कर सकते हैं।

दिल्ली जाने के लिए हरियाणा पुलिस ने जारी की ट्रैफिक एडवाइजरी

हरियाणा पुलिस ने दिल्ली जाने वाले लोगों के लिए ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की है। हरियाणा पुलिस की आइजी (ट्रैफिक एवं हाइवे) डा. राजश्री सिंह के अनुसार किसानों द्वारा राई और कुंडली के बीच एकत्र होने के कारण यात्रियों को राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 44 (अंबाला-दिल्ली) पर स्थित सिंघु बार्डर से राष्ट्रीय राजधानी जाने से बचना चाहिए। एडवाइजरी में अंबाला की ओर से दिल्ली जाने के इच्छुक लोगों को पानीपत-रोहतक-झज्जर-गुरुग्राम-दिल्ली मार्ग से जाने की सलाह दी गई है।

झज्जर व सोनीपत से दिल्ली जाने वालों को खास सावधानी की जरूरत

डा. राजश्री के अनुसार झज्जर जिले के बहादुरगढ़ की ओर से टीकरी सीमा पर किसानों के बड़े पैमाने पर जमावड़े की खबर है। इसे ध्यान में रखते हुए स्थानीय पुलिस ने भी दिल्ली पहुंचने के लिए कई वैकल्पिक मार्गो का सुझाव दिया है क्योंकि टिकरी सीमा पर यातायात बाधित है।

हिसार से दिल्‍ली जाने के लिए इस मार्ग का कर सकते हैं प्रयोग

एडवाइजरी में कहा गया है कि हिसार की ओर से दिल्ली जाने वालों को रोहतक-झज्जर- गुरुग्राम से होते हुए दिल्ली जा सकते हैं। हालांकि, राज्य भर में अन्य सभी मार्गो पर यातायात की सुचारू आवाजाही जारी है। डीजीपी मनोज यादव ने बताया कि कानून व्यवस्था को बनाए रखना हमारी पहली प्राथमिकता है। वर्तमान स्थिति में प्रदेश के नागरिकों व बाहर से आने वाले यात्रियाें की सुविधा को देखते हुए हरियाणा पुलिस लगातार दिल्ली पुलिस के संपर्क में है तथा सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

दिल्‍ली की बस सेवाएं भी बुरी तरह प्रभावित

किसानों के हरियाणा- दिल्‍ली सीमाओं पर डटे होने के कारण हरियाणा से राष्‍ट्रीय राजधानी की बस सेवाएं भी प्रभावित हाे रही हैं। किसान आंदोलन के कारण 26 नवंबर से पानीपत से दिल्ली और पंजाब की बस सेवा पूरी तरह से बंद चल रही है। सोनीपत तक ही बसें जा पा रही हैं। पानीपत रोडवेज उत्तर प्रदेश ही बसें भेज रहा है। पहले बार्डर तक बसें जाती थीं। अब सोनीपत तक ही बसें जा रही हैं। इससे दिल्ली जाने वाले यात्रियों को जहां परेशानी झेलनी पड़ रही है वहीं रोडवेज को लाखों रुपये का घाटा उठाना पड़ रहा है।

कुरुक्षेत्र से 30 बसें दिल्ली, गुरुग्राम, मथुरा और जयपुर जाती हैं। फिलहाल सभी बसें बंद हैं। वैसे कुरुक्षेत्र से पंजाब के रूटों पर बसें पिछले दिनों ही शुरू हो गई हैं। करनाल डिपो से बस सेवाएं प्रभावित हुई हैं। रोडवेज महाप्रबंधक अजय गर्ग ने बताया कि यहां से दिल्ली के लिए कुल 12 बसें नियमित रूप से परिचालित होती हैं, जिन्हें कुछ दिन पूर्व लॉकडाउन के बाद स्थिति सामान्य होने पर आइएसबीटी दिल्ली तक चलाया जा रहा था लेकिन किसानों के दिल्ली कूच के चलते इन बसों को केवल दिल्‍ली बॉर्डर तक चलाया जा रहा है। फिलहाल करनाल से सोनीपत के भालगढ़ तक बसें परिचालित हो रही हैं। हालांकि, सवारियां कम होने के कारण आवागमन प्रभावित है। आवश्यकता के अनुसार ही बसों का परिचालन किया जा रहा है और स्थिति पर भी लगातार नजर रखी जा रही है। इसी आधार पर आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

यमुनानगर से 20 बसें दिल्ली जाती थीं। किसानों के आंदोलन के कारण अब सभी बंद हैं। अभी बसें पानीपत तक जा रही है। अंबाला रोडवेज डिपो से किसान आंदोलन से पूर्व करीब 25 से 30 बसें रोजाना दिल्ली आईएसबीटी जाती थीं। किसान आंदोलन के बाद अब ये बसें सिंधु बॉर्डर तक ही जा पा रही हैं लेकिन इस आंदोलन में अंबाला डिपो की कोई भी बस नहीं फंसी है।

कैथल से दिल्ली के लिए रोज 24 बसें चलती हैं। इनमें से 10 किलोमीटर स्कीम की बसें है। जो किसानों के दिल्ली कूच से पहले चल रही थी।  फिलहाल बसें केवल पानीपत तक जा रही हैं। कैथल डिपो की दिल्ली कोई बस नहीं रूकी हुई है। जींद से दिल्ली के लिए रोहतक और सोनीपत से होकर 10 बसें चलती थी लेकिन किसान आंदोलन के कारण सभी बसें रोहतक से ही वापसी कर रही हैं। आंदोलन में जींद डिपो की कोई बस नहीं फंसी है। गुरुग्राम जाने वालर बसों को रोहतक से झज्जर होते हुए भेजा जा रहा है। दिल्ली को छोड़ बाकी सभी रूटों पर बसें सामान्य दिनों की तरह चल रही हैं।

हिसार से दिल्ली जाने वाली 15 बसें बहादुरगढ़ तक ही जा रहीं है। वहीं सिरसा से भी बसें केवल बहादुरगढ़ तक जा रही है। झज्जर से एक भी बस दिल्‍ली नहीं जा रही है। रोहतक से दिल्ली कोई बस नहीं जा रही है और इनका आवागमन बहादुरगढ़ तक ही हो रहा है। बहादुरगढ़ से दिल्‍ली के लिए मेट्रो ही चल रही है। यहां के लोग मेट्रो चलने के बाद ज्यादा परेशान नहीं हैा। जिन्हें इसका पता नहीं वो बॉर्डर पैदल क्रॉस करके दिल्ली से वाहन पकड़ रहे हैं। झाड़ौदा बॉर्डर भी दिल्ली पुलिस और हरियाणा पुलिस ने बंद कर दिया है। भिवानी से दिल्ली के लिए 16 बसें चलती हैं यह बसें बहादुरगढ़ तक ही जा रही हैं। वहीं फतेहाबाद से चलने वाली बसें बस रोहतक तक ही जा रही हैं।

यह भी पढ़ें: पंजाब की बुजुर्ग महिला का कंगना को जवाब- काम नहीं है तो मेरे खेतों में कर सकती हो मजदूरी

यह भी पढ़ें: Big Boss 14 : बहू रूबीना के बेटे से तलाक की बात सुन लुधियाना में रहते सास-ससुर के उड़े हाेश, कही यह बात

यह भी पढ़ें: हरियाणा में दिख रहे कोरोना वायरस के नए लक्षण, ठीक होने के बाद भी रहें सावधान


यह भी पढ़ें: किसानों के कूच के दौरान हरियाणा में लगे पाकिस्तान समर्थक नारे, BJP ने कहा- अब तो इशारे समझो


यह भी पढ़ें: फिर मसीहा बने सोनू सूद, 12 वर्ष की पीड़ा हुई खत्म और अमन को हरियाणा में मिली नई जिंदगी


यह भी पढ़ें: क्रिकेट के मैदान में स्पिन बाॅलिंग पर खूब जड़े छक्‍के, सियासत की पिच पर फिरकी में बुरे फंसे सिद्धू

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.