हरियाणा में बढ़ेगा IAS-IPS लाबी का टकराव, विज व विजयवर्धन की आपत्ति के बाद भी IPS को परिवहन विभाग का जिम्मा

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज व मुख्य सचिव विजयवर्धन की आपत्ति के बावजूद आइपीएस कला रामचंद्रन को परिवहन विभाग में प्रधान सचिव पर नियुक्त कर दिया गया है। विज व विजयवर्धन ने आइएएस के पदों पर IPS की नियुक्ति के फैसले का विरोध किया था।

Kamlesh BhattSun, 05 Sep 2021 03:53 PM (IST)
हरियाणा में आइएएस व आइपीएस अफसरों में टकराव। सांकेतिक फोटो

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। हरियाणा में IAS और IPS अफसरों की लाबी एक बार फिर आमने-सामने है। IAS कैडर के पदों पर IPS अधिकारियों की नियुक्ति से अधिकारियों में यह टकराव बढ़ रहा है। परिवहन विभाग के प्रधान सचिव पद से अलग कर IPS अधिकारी शत्रुजीत कपूर को प्रदेश सरकार वापस पुलिस सेवाओं में भेज चुकी और इस पद पर दोबारा IPS अधिकारी कला रामचंद्रन को नियुक्त कर दिया है।

प्रदेश सरकार ने यह नियुक्ति गृह मंत्री व मुख्य सचिव की आपत्ति के बाद भी की है, जिस कारण राज्य की IAS और IPS लाबी में टकराव कम होने के बजाय अब अधिक बढ़ने के आसार पैदा हो गए हैं। हरियाणा सरकार हालांकि यह प्रयोग भारतीय सेवा के अधिकारियों के बीच काम की स्वस्थ प्रतिस्पर्धा पैदा करने, उच्च स्तरीय पदों पर IAS अधिकारियों की मनमानी पर अंकुश लगाने तथा बड़े पदों पर होने वाले भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए कर रही है, लेकिन IAS अधिकारियों की लाबी को हरियाणा सरकार का यह प्रयोग रास नहीं आ रहा है। इसकी एक वजह यह है कि IAS लाबी नहीं चाहती कि IPS अधिकारी उनसे ऊपर होकर काम करें और आदेश दें।

तीन माह बाद रिटायर हो जाने वाले मुख्य सचिव विजयवर्धन ने एडीजीपी कला रामचंद्रन को परिवहन विभाग का प्रधान सचिव बनाए जाने से पहले आपत्ति दर्ज कराते हुए सरकार को लिखा था कि पहले केंद्र सरकार के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग से मंजूरी ली जानी चाहिए। विजयवर्धन के इस कदम से प्रदेश सरकार तो हैरान है, लेकिन IAS अफसरों की लाबी काफी खुश है।

विजयवर्धन से पहले गृह मंत्री अनिल विज IAS कैडर के पदों पर IPS अधिकारियों की नियुक्ति का खुला विरोध कर चुके हैं। हरियाणा में IAS अधिकारियों के आठ पदों पर गैर IAS अधिकारी फिलहाल सेवाएं दे रहे हैं। इनमें चार IPS अधिकारी, तीन आइएफएस और एक आइआरएस अधिकारी शामिल हैं। IPS शत्रुजीत कपूर को IPS कैडर की सेवाओं में वापस भेजा जा चुका है। इससे पहले वह IAS कैडर के पद परिवहन विभाग के प्रधान सचिव के पद पर कार्यरत थे, जिसका IAS लाबी में पहले ही विरोध हो चुका है।

इसके अलावा परिवहन विभाग में जिला यातायात अधिकारी के तौर पर सरकार एचसीएस के स्थान पर एचपीएस अधिकारियों को नियुक्त कर चुकी है, जिसका एचसीएस लाबी में प्रबल विरोध है। एचसीएस अधिकारियों की एसोसिएशन ने सरकार के इस फैसले के विरोध में मोर्चा खोला था, लेकिन उसे खास फायदा नहीं मिल पाया।

IAS कैडर के पदों पर आठ गैर IAS अफसरों की नियुक्ति

हरियाणा में कई महत्वपूर्ण पदों पर गैर IAS अधिकारियों की नियुक्तियां हो रखी हैं। आइएफएस अधिकारी एमडी सिन्हा पर्यटन विभाग के प्रधान सचिव हैं। आइएफएस अधिकारी नीरज कुमार को सरकार ने पर्यटन विभाग के प्रबंध निदेशक की जिम्मेदारी सौंप रखी है। आइएफएस अधिकारी डा. अनंत प्रकाश पांडे विदेश सहयोग विभाग के महानिदेशक और आइआरएस अधिकारी योगेंद्र चौधरी इसी विभाग के प्रधान सचिव हैं। योगेंद्र चौधरी मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव भी हैं।

IPS अधिकाी हनीफ कुरैशी नवीनीकरण एवं अक्षय ऊर्जा विभाग के महानिदेशक हैं, जबकि IPS अधिकारी अमिताभ ढिल्लो परिवहन आयुक्त के पद पर कार्यरत हैं। वह खनन विभाग के महानिदेशक भी रह चुके हैं। IPS शशांक आनंद उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के एमडी और IPS पंकज नैन खेल विभाग के निदेशक पद पर कार्यरत हैं। IPS शत्रुजीत कपूर को सरकार बिजली निगमों का चेयमरैन भी नियुक्त कर चुकी है। बिजली विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास ने कपूर का इस पद पर नियुक्ति का विरोध किया था। IAS कैडर के पदों पर IPS अधिकारियों की नियुक्ति का विरोध सीनियर IAS अधिकारी डा. अशोक खेमका भी कर चुके हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.