गुरुग्राम व फरीदबाद सहित हरियाणा में छठी से आठवीं तक की कक्षाएं भी आज से शुरू, काेरोना के मद्देनजर खास ऐहतियात

Schools Open in Haryana हरियाणा में अब सरकारी स्‍कूलों में आज से छठी से लेकर आठवीं तक की कक्षाएं भी शुरू हो गई। इस तरह अब स्‍कूलों में छठी से लेकर 12वीं तक की कक्षाएं शुरू हो गई हैं।

Sunil Kumar JhaFri, 23 Jul 2021 12:14 PM (IST)
हरियाणा में आज से छठी से आठवीं तक की कक्षाएं भी शुरू हो गईं। जुलाना का एक स्‍कूल। (जागरण)

चंडीगढ़, जेएनएन। Haryana Schools open : हरियाणा में गुरुग्राम और फरीदाबाद सहित सभी जिलों में कोरोना की दहशत कम होने के साथ ही स्‍कूलों में पढ़ाई सामान्‍य हो रही है। राज्‍य में आज से छठी कक्षा से आठवीं कक्षा तक की आफलाइन क्‍लास शुरू हो गए। स्‍कूलों में नौवीं से 12वीं तक की कक्षाएं पहले से ही चल रही हैं। इस तरह स्‍कूलों में अब छठी से लेकर 12वीं तक की कक्षाएं शुरू हो गई हैं।

कोराेना संक्रमण कम होने से छात्रों और अभिभावकों का भय कम हुआ, लगातार बढ़ रही स्कूलों में उपस्थिति

आज सुबह हरियाणा में  छठी से आठवीं कक्षाओं में भी आफलाइन पढ़ाई शुरू होने के बाद विद्यार्थियों और अभिभावकों में उत्‍साह नजर आया। नौवीं से बारहवीं तक के लिए कक्षाओं में भी कोरोना संक्रमण कम होने से छात्रों और अभिभावकों का भय कम होने के कारण  उपस्थिति लगातार बढ़ती जा रही है।

स्‍कूलों में आज छठी से आठवीं तक की कक्षाएं शुरू होने पर खास ऐहतियात बरती गई। स्‍कूलों के गेट पर ही विद्यार्थियों की थर्मल स्‍केनिंग की गई और बच्‍चों की सेनटाइजिंग की गई। बच्‍चों के बीच शारीरिक दूरी का भी विशेष ध्‍यान रखा गया। स्‍कूलों में इस दौरान लंच ब्रेक नहीं हुआ और बच्‍चों को पानी के लिए कक्षाओं से बाहर जाने की भी अनुमति नहीं दी गई। कक्षाओं में भी बच्‍चों के बीच शारीरिक दूरी का ध्‍यान रखा गया। एक बेंच पर एक ही विद्यार्थी को बिठाया गया। बच्‍चों के लिए मास्‍क लगाना भी अनिवार्य था।

हरियाणा सरकार ने छठी से आठवीं तक के बच्चों के लिए भी गाइडलाइन जारी किया है। बच्‍चों को स्कूल आने के लिए अभिभावकों से लिखित अनुमति लेनी होगी। इसके साथ ही स्‍कूलों में आनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगेी और विद्यार्थी पहले की तरह आनलाइन पढ़ाई भी जारी रख सकते हैं।

अभी प्रदेश में एजुसेट, दूरवर्ती शिक्षा और ई-लर्निंग अवसर एप के जरिये आनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही हैं। स्कूल में कक्षाएं मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) के साथ लगेंगी। विद्यार्थियों को संक्रमण से बचाने के लिए थर्मल स्कैनिंग के बाद ही उन्हें स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा। कक्षा में एक बेंच पर सिर्फ एक बच्चा बैठ सकेगा।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.