हरियाणा में ब्लैक फंगस के मामलों ने बढ़ाई सरकार की चिंता, लगातार आ रहे इस रोग के मरीज

हरियाणा में ब्‍लैक फंगस के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। (सांकेतिक फोटो)

Black Fungus In Haryana हरियाणा में ब्‍लैक फंगस के बढ़ते मामलों ने हरियाणा सरकार को चिंता में डाल दिया है। राज्य में इसके मरीज लगातार सामने आ रहे हैं। अब तक ब्‍लैक फंगस के करीब चार दर्जन मामले सामने आ चुके हैं।

Sunil Kumar JhaSat, 15 May 2021 06:07 AM (IST)

चंडीगढ़, जेएनएन। Black Fungus In Haryana: हरियाणा में कोरोना के साथ-साथ अब ब्‍लैक फंगस रोग राज्‍य सरकार और लोगों की परेशानी बढ़ा रहे हैं। राज्‍य में कोरोना महामारी के बीच ब्लैक फंगस (Black Fungus) बीमारी पैर पसार रही है। राज्य में अभी तक ब्लैक फंगस की बीमारी से जुड़े चार दर्जन से ज्यादा मामले सामने आ चुकी हैं। प्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमित मरीजों को उपचार के बाद सजगता बरतने की सलाह देते हुए कहा कि चिकित्सकों की मदद से इस बीमारी का इलाज संभव है। हरियाणा कांग्रेस ने ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई है।

 प्रदेश कांग्रेस ने लगाए सरकार पर लापरवाही बरतने के आरोप

हरियाणा कांग्रेस की अध्यक्ष एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी सैलजा ने कहा कि प्रदेश में ब्लैक फंगस बीमारी से ग्रस्त मरीजों को इलाज नहीं मिल पा रहा है। इस बीमारी के इलाज में उपयोग होने वाली दवाइयों की भी कालाबाजारी शुरू हो गई है। सरकार डाक्टरों की एक प्रदेश स्तरीय कमेटी का गठन करे, जो सभी जिलों के हालात पर नजर रख सके और ऐसे मरीजों की पहचान कर उन्हें जल्द से जल्द ईलाज उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीजों के इलाज और दवाइयों का पूरा खर्च उठाए।

ब्लैक फंगस के चार दर्जन मामले, दवाइयों की कालाबाजारी भी

प्रदेश में बृहस्पतिवार तक ब्लैक फंगस बीमारी के 40 मामले रिकार्ड किए जा चुके हैं। हर रोज इनकी संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। अकेले फरीदाबाद में 12 लोग इस बीमारी का ईलाज करा रहे हैं। गुरुग्राम में 14 मामले सामने आ चुके हैं। करनाल और फतेहाबाद समेत अन्य जिलों से भी ब्लैक फंगस नामक बीमारी की सूचनाएं सामने आ रही हैं। चिंताजनक बात यह है कि स्वास्थ्य विभाग के पास अभी तक ऐसा कोई डाटा नहीं है कि हरियाणा के किस जिले में ब्लैक फंगस के कितने मरीज मिले हैं। दिन-प्रतिदिन कोरोना संक्रमण के साथ इस बीमारी के बढ़ने से प्रदेशवासी चिंतित हैं।

कुमारी सैलजा ने कहा कि ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाला सवा दो हजार रुपये का इंजेक्शन छह हजार रुपये में बिक रहा है। हरियाणा सरकार इस कालाबाजारी की रोकथाम में बिल्कुल भी गंभीर दिखाई नहीं दे रही है। कोरोना महामारी लोगों की जान ले रही है और इसके साथ ब्लैक फंगस से खतरा और बढ़ रहा है। कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों में हो रही यह बीमारी तेजी से बढ़ रही है। ऐसे मरीजों की सही समय पर पहचाान कर उनका समय पर इलाज बेहद जरूरी है।

दूसरी ओर, हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज का कहना है कि उन्हें भी ब्लैक फंगस नामक बीमारी के बारे में सूचनाएं मिली हैं, लेकिन यह बीमारी ऐसी नहीं है कि इसका इलाज न हो सके। डाक्टरों की मदद से इस बीमारी का आसानी से ईलाज संभव है। इसलिए यदि कोई व्यक्ति ब्लैक फंगस नामक बीमारी से पीड़ित है तो उसे तुरंत इलाज के लिए आगे आना चाहिए।     

यह भी पढ़ें: Black Fungus: हरियाणा में ब्लैक फंगस का कहर, मई में अब तक मिले 30 मरीज, एक की मौत

 

यह भी पढ़ें:  Punjab Congress Discord: पंजाब कांग्रेस में चरम पर कलह, अब मंत्री भी अपनी सरकार पर उठा रहे सवाल, पार्टी नेतृत्व मौन

 

यह भी पढ़ें: मुश्किल में फंसी 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' की बबीता जी, हरियाणा में पुलिस में दी गई शिकायत

 

हरियाणा की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.