जिले में अपराध नहीं होगा बर्दाश्त : वरुण सिगला

नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक वरुण सिगला ने कहा जिले में अपराध को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पुलिस पब्लिक के साथ तालमेल कर अपराध करने वालों पर शिकंजा कस उन्हें हवालात दिखाएगी।

JagranPublish:Thu, 28 Oct 2021 10:18 PM (IST) Updated:Thu, 28 Oct 2021 10:18 PM (IST)
जिले में अपराध नहीं होगा बर्दाश्त : वरुण सिगला
जिले में अपराध नहीं होगा बर्दाश्त : वरुण सिगला

संवाद सहयोगी, नूंह: नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक वरुण सिगला ने कहा जिले में अपराध को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पुलिस पब्लिक के साथ तालमेल कर अपराध करने वालों पर शिकंजा कस उन्हें हवालात दिखाएगी। यह बात उन्होंने बृहस्पतिवार को मीडिया से बातचीत में कही।

पुलिस अधीक्षक ने दीपावली के त्योहार को भाईचारे से मनाने की लोगों से अपील की। उन्होंने कहा कि अपराध और अपराधियों पर नकेल कसने के लिए बेहतर तरीके से कार्य करने की जरूरत है। जिले के प्रत्येक डीएसपी और थाना प्रभारियों को सख्त दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। अपने अपने क्षेत्र में अपराध और अन्य गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जाए। हर पीड़ित व्यक्ति को न्याय दिलाने का कार्य किया जाएगा। यदि कोई पीड़ित व्यक्ति थाने आता है तो तुरंत मामला दर्ज कर कार्रवाई होगी। उन लोगों को भी नहीं छोड़ा जाएगा जो किसी को फंसाने के लिए झूठी शिकायत देते हैं। किसानों की पुलिस से धक्का-मुक्की

जागरण संवाददाता, नूंह: नूंह की अनाज मंडी में किसानों के लिए खाद वितरण किया जा रहा था। इसी बीच गुस्साएं किसानों ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की की। वहा पर मौजूद पुलिस कर्मचारियों ने भारी पुलिस बल बुलाकर शाति से खाद वितरण कराया। पुलिस की मौजूदगी में देर रात तक खाद का वितरण किया गया।

बता दें कि इन दिनों किसानों को गेहूं की बिजाई के लिए खाद की आवश्यकता है। लेकिन खाद समय पर किसानों को नहीं मिल पा रही है। घटों लाइन में लगने के बाद भी किसानों का नंबर खाद के लिए नहीं आता है। जिले में सभी स्थानों पर पुलिस की मौजूदगी में खाद दिया जा रहा है। तस्करों के कब्जे से दो गाय मुक्त कराई

संस, तावडू : गांव चीला की पहाड़ी से तस्करों द्वारा बंधक बनाई गई दो गाय को पुलिस ने मुक्त कराया है। पुलिस ने जब छापेमारी की तो तस्कर आबिद और उसका साथी भाग निकले। सदर थाना पुलिस दोनों की तलाश कर रही है। बुधवार शाम जब पुलिस ने छापेमारी की तो आरोपित गायों को मारने की तैयारी कर रहे थे। गायों को कई दिन से भूखा रखा गया था। मुख्य सिपाही खेमचंद ने बताया कि आरोपितों के बारे में गांव के ही लोगों ने गुप्त सूचना दी थी।