top menutop menutop menu

निष्ठा प्रशिक्षण में मिले अनुभवों को विद्यालयों में लागू करने की जरूरत

जागरण संवाददाता, नारनौल : राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय नारनौल में गत 2 दिसंबर से 6 दिसंबर तक चली पांच दिवसीय निष्ठा कार्यशाला का समापन हो गया। समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में खंड शिक्षा अधिकारी कृष्ण सिंह बालवान ने शिरकत की। धौलेड़ा स्कूल के प्राचार्य डॉ. अश्विनी राव विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थे।

बीइओ केएस बलवान ने शिक्षकों से आह्वान किया कि निष्ठा कार्यशाला के दौरान जो प्रशिक्षण उन्होंने प्राप्त किया है, वह विद्यालय कार्य को महत्वपूर्ण ढंग से करने में सहायक सिद्ध होगा और इसे लागू करने का प्रयास करें। विशिष्ट अतिथि डॉ. अश्विनी राव ने सामाजिक सहभागिता के माध्यम से विद्यालय में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा विद्यालय में जो भी कार्य हम करें समाज की भूमिका सुनिश्चित करें। कार्यशाला प्रभारी डॉ. सुरेंद्र सिंह वरिष्ठ प्रवक्ता डाइट महेंद्रगढ़ कार्यशाला के सभी प्रतिभागियों के मृदुल व्यवहार की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि हम सब अंतिम रूप से विद्यार्थी को श्रेष्ठतम शिक्षा देने के लिए प्रयासरत हैं। हमें उस दिशा में पूर्ण निष्ठा से कार्य करना चाहिए। कार्यक्रम का संचालन डॉ. पंकज गौड़ ने किया। डॉ. विक्रम सिंह ने इस अवसर पर कहा कि शिक्षक स्वत:स्फूर्त प्रेरणा से कार्य करने वाले हैं। उन्हें उसी सिद्धांत के आधार पर राष्ट्र के लिए श्रेष्ठतम योगदान देना चाहिए। इस अवसर पर श्रेष्ठ कार्य करने के लिए विद्यालय के प्राचार्य ओपी मोरवाल, मास्टर ट्रेनर डॉ. पंकज गौड़ तथा गजानंद एसएस अध्यापक को सम्मानित किया गया। निष्ठा कार्यशाला प्रभारी सुरेंद्र कुमार एवं उनकी टीम की ओर से खंड शिक्षा अधिकारी कृष्ण सिंह बलवान को निरंतर प्रेरणा एवं मार्गदर्शन के लिए विशेष सम्मान किया गया। इस अवसर पर मास्टर ट्रेनर नरेश कुमार, डॉ. मंगतराम, संदीप कुमार, मनेंद्र कुमार व अजीत कुमार आदि मौजूद थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.