नवंबर में 6000 करोड़ पहुंचा जीएसटी कलेक्शन : दुष्यंत चौटाला

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हरियाणा प्रदेश जीएसटी प्राप्ति में प्रदेश अभूतपूर्व तरक्की कर रहा है।

JagranPublish:Thu, 02 Dec 2021 07:35 PM (IST) Updated:Thu, 02 Dec 2021 07:35 PM (IST)
नवंबर में 6000 करोड़ पहुंचा जीएसटी कलेक्शन : दुष्यंत चौटाला
नवंबर में 6000 करोड़ पहुंचा जीएसटी कलेक्शन : दुष्यंत चौटाला

जागरण संवाददाता, नारनौल: हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि हरियाणा प्रदेश जीएसटी प्राप्ति में प्रदेश अभूतपूर्व तरक्की कर रहा है। पिछले वर्ष नवंबर में 5900 करोड रुपए जीएसटी कलेक्शन हुआ था जबकि इस बार नवंबर में 6000 करोड़ तक पहुंच गया हैं। 100 करोड़ रुपये जीएसटी में बढ़ोतरी हो गई है। इसी प्रकार वैट कलेक्शन में भी कोई गिरावट नहीं है। यह प्रदेश की इकानामी के लिए बहुत अच्छे संकेत हैं।

दुष्यंत चौटाला बृहस्पतिवार शाम को नूनी शेखपुरा मोड नसीबपुर में मल्टी स्पेशलिस्ट चतुर्भुज मेमोरियल (सीबीएम) अस्पताल के उद्घाटन अवसर पर प्रेस कांफ्रेंस में पत्रकारों से बातचीत रहे थे। उन्होंने कहा कि एविएशन के क्षेत्र में भी प्रदेश में ऐतिहासिक कार्य हो रहे हैं। प्रदेश में विमानन फ्यूल पर टैक्स 21 फीसदी से घटाकर एक फीसद कर दिया गया है। आने वाले वर्षों में इस क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर उपलब्ध होंगे। बाछौद हवाई पट्टी पर भी जल्द ही फ्लाइंग स्कूल का कार्य शुरू हो जाएगा। डीजीसीए से परमिशन मांगी गई है। परमिशन मिलते ही एजेंसी छात्रों के एडमिशन शुरू कर देगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार देने के लिए 15 जनवरी से निजी क्षेत्रों में 75 फीसदी आरक्षण का नियम लागू करने जा रही है। प्रदेश के कौशल युक्त युवाओं को कहीं भी नौकरी के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा।

पंचायती चुनाव के संबंध में उन्होंने कहा कि यह मामला कोर्ट में विचाराधीन है और उम्मीद है कि इस संबंध में जल्द से जल्द कोई फैसला आएगा। इस मौके पर भाजपा के जिला प्रधान राकेश शर्मा, पूर्व सीपीएस अनीता यादव, सीबीएम अस्पताल के फाउंडर मनीष शर्मा, राजबीर फौगाट के अलावा पार्टी के अन्य पदाधिकारी भी मौजूद थे।

प्रदेश के हर ब्लाक में लगेगा एक बड़ा उद्योग

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश सरकार ने नई पालिसी बनाई है। वन ब्लाक वन प्रोडक्ट स्कीम के तहत प्रदेश के सभी 140 ब्लाक में अलग-अलग प्रोडक्ट के उद्योग लगाए जाएंगे। इन उद्योग को लगाने पर सब्सिडी भी दी जाएगी। जाहिर है कि इससे प्रदेश में 140 प्रकार के प्रोडक्ट का उत्पादन शुरू होगा।