पोस्टर लगी कार के मतदान केंद्र में पहुंचने पर हुआ खूब हंगामा

संवाद सहयोगी, पिहोवा: हलके के एक प्रत्याशी के पोस्टर लगी एक कार पिहोवा के मतदान केंद्र राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय (ब्वायज) के बूथ नंबर 132 तक पहुंचने को लेकर दूसरे उम्मीदवारों ने जमकर विरोध जताया और करीब 35 मिनट तक हंगामा किया। अपनी गलती का एहसास होते ही पुलिसकर्मियों की सांसें भी फूलने लगी और किसी तरह उस कार को मतदान केंद्र से बाहर निकलाने में जुट गए। जजपा के प्रत्याशी प्रो. रणधीर सिंह, आजाद उम्मीदवार संदीप ओंकार की तरफ से बलराज शर्मा सहित उनके समर्थकों ने खूब हंगामा किया और पुलिस प्रशासन की कार्रवाई पर सवालिया निशान उठा दिए। समर्थकों का गुस्सा इस कद्र बढ़ गया कि उन्होंने कार को मतदान केंद्र से बाहर ही नहीं निकलने दिया और तुरंत कार्रवाई की मांग की। हालांकि एसएचओ मलकीत सिंह ने गुस्साए लोगों को कार्रवाई का आश्वासन देकर मतदान में बाधा न पहुंचाने की अपील भी की, लेकिन समर्थक अपनी जिद पर अड़े रहे और कार को चारों तरफ से घेर लिया। भारी मशक्कत के बाद पुलिस ने गुस्साई भीड़ पर काबू किया और कार को पुलिस थाने ले गए। जजपा प्रत्याशी प्रो. रणधीर सिंह ने आरोप लगाए कि प्रशासन चुनाव आयोग के नियमों की अवहेलना कर रहा है। पार्टी विशेष के उम्मीदवार का प्रचार करने वाली कार को मतदान केंद्र तक किसी भी सूरत में लाना गलत है। गौरतलब है कि बूथ नंबर 132 में वार्ड नंबर-15 निवासी दिव्यांग अशोक कुमार वोट डालने के लिए उस कार में आया था। तब लोगों ने कार को लेकर विरोध करना शुरू कर दिया। लगभग आधे घंटे तक प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। घटना की सूचना मिलते ही एसएचओ मलकीत सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और स्थिति पर काबू पाने का प्रयास किया, लेकिन कार्यकर्ताओं ने गाड़ी को घेर लिया। उसे जब्त करने की मांग की। एसएचओ ने गाड़ी को अपने कब्जे में लेकर स्वयं चलाकर थाने में पहुंचाया। एसएचओ ने बताया कि वे पुलिस टीम के साथ गांव गुमथला गढू से बूथों को चैक करते हुए पिहोवा आ रहे थे। उन्होंने देखा कि कुछ लोग स्कूल के अंदर घुसे हुए थे। कुछ लोग एक गाड़ी को रोके खड़े थे, जिसमें एक दिव्यांग बुजुर्ग व्यक्ति बैठा था। गाड़ी पर चारों ओर पार्टी विशेष के पोस्टर चिपके थे। जब उन्होंने रास्ता देने के लिए बोला तो उन लोगों ने उनका रास्ता रोका और सरकारी काम में बाधा पहुंचाई। जिससे कुछ समय के लिए मतदान भी प्रभावित हुआ। इस बारे उच्च अधिकारियों से बात कर आगामी कार्यवाही अमल में लाएंगे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.