शहीदी पर्व पर गुरुद्वारा बैकुंठ धाम में ठंडे मीठे जल की लगाई छबील

कुरुक्षेत्र श्री गुरु अर्जुन देव महाराज के शहीदी पर्व पर गुरुद्वारा बैकुंठ धाम सेक्टर-8 में ठंडे मीठे जल की छबील लगाई गई। इसका शुभारंभ शिरोमणि अकाली दल हरियाणा के प्रदेश प्रवक्ता कवलजीत सिंह अजराना श्री अकाल उत्सव ट्रस्ट के चेयरमैन व अंतरराष्ट्रीय गुरबाणी कथावाचक ज्ञानी तेजपाल सिंह ने किया।

JagranTue, 15 Jun 2021 07:10 AM (IST)
शहीदी पर्व पर गुरुद्वारा बैकुंठ धाम में ठंडे मीठे जल की लगाई छबील

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : श्री गुरु अर्जुन देव महाराज के शहीदी पर्व पर गुरुद्वारा बैकुंठ धाम सेक्टर-8 में ठंडे मीठे जल की छबील लगाई गई। इसका शुभारंभ शिरोमणि अकाली दल हरियाणा के प्रदेश प्रवक्ता कवलजीत सिंह अजराना, श्री अकाल उत्सव ट्रस्ट के चेयरमैन व अंतरराष्ट्रीय गुरबाणी कथावाचक ज्ञानी तेजपाल सिंह ने किया।

कवलजीत सिंह अजराना ने बताया कि गुरु साहिब ने हमें परमात्मा की रजा में जीवन यापन करने की प्रेरणा दी है। इतना ही नहीं, परमात्मा का हर हुकम सिर झुका कर मानने का संदेश भी दिया है। ज्ञानी तेजपाल सिंह ने गुरु साहिब के शहीदी इतिहास पर विस्तार से जानकारी दी। इससे पहले गुरुद्वारा साहिब के हेड ग्रंथी भाई गुलजार सिंह ने गुरु चरणों में सरबत के भले के लिए अरदास की। कार्यक्रम में शिरोमणि अकाली दल हरियाणा महिला विग की प्रदेश अध्यक्ष बीबी रविदर कौर खालसा ने विशेष रूप से शिरकत की। उन्होंने कहा कि सिखी के प्रचार और प्रसार में महिलाएं अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं, इसलिए हमें अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए आगे आना होगा। इस अवसर पर ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री मस्तगढ़ साहिब शाहाबाद लोकल गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व सदस्य जरनैल सिंह अजराना, गुरुद्वारा बैकुंठ धाम सेवा ट्रस्ट के चेयरमैन लखविदर सिंह संधू, प्रधान जसबीर सिंह वड़़ैच, जसबीर सिंह दुग्गल, हरपिदर सिंह विर्क, पूर्ण सिंह हुंदल, रतन सिंह, सुखविदर सिंह, साहिब सिंह, बिदर कौर व रजवंत कौर मौजूद रही।

वात्सल्य वाटिका में मनाया गुरु अर्जुन देव का शहीदी दिवस

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : अमीन रोड स्थित वात्सल्य वाटिका प्राथमिक पाठशाला में गुरु अर्जुन देव का शहीदी दिवस मनाया गया। वाटिका के संस्थापक स्वामी हरिओम दास ने गुरु अर्जुन देव के चित्र पर पुष्प अर्पित किए।

स्वामी हरिओम दास ने कहा कि गुरु अर्जुन देव शहीदों के सरताज व शांतिकुंज है और अध्यात्मिक जगत में गुरु को सर्वोच्च स्थान प्राप्त है, उन्हें ब्रह्मज्ञानी भी कहा जाता है, गुरु ग्रंथ साहिब में तीस रागों में गुरु जी की वाणी संकलित है। प्रिसिपल गौरव चौधरी ने गुरु अर्जुन देव की जीवन के बारे में बताया। इस मौके पर वाटिका ट्रस्ट कोषाध्यक्ष संत राजेंद्र सिंह, प्रबंध समिति के अध्यक्ष राकेश मेहता, प्रबंधक सुरेश जोशी, सोमदत्त, प्रांत प्रतिनिधि चेतराम शर्मा, सदस्य शिवदत्त, सदस्य जितेंद्र ढींगरा, महिला प्रतिनिधि अनीता रानी, शिवानी शर्मा व पूनम सलूजा मौजूद रही।

गुरुद्वारा मंढोखरा साहिब में गुरु अर्जुन देव का मनाया शहीदी दिवस

संवाद सूत्र, बाबैन : श्री गुरुद्वारा मंढोखरा साहिब नौवीं पातशाही में गुरु अर्जुन देव का शहीदी दिवस मनाया गया। कोरोना वायरस के बचाव के लिए बाबा सुरेंद्र सिंह ने अरदास की।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार गुरु अर्जुन देव मानव जाति के कल्याण के लिए शहीद हुए। उन्होंने धैर्य व शांत रहते हुए अनेक असहनीय कष्टों को सहन किया और भारतीय परंपरा में यह पहली शहादत दी। जब किसी महापुरुष ने धर्म के लिए धर्म के लिए शहादत दी, इसलिए शहीद गुरु अर्जुन देव को शहीदों का सरताज कहा जाता है। उन्होंने कहा कि हमारा भी यह दायित्व बनता है की गुरु अर्जुन देव के चरणों में अपना तन-मन-धन अर्पण कर सिख सिद्धांतों का प्रचार करें। उन्होंने श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की शिक्षाओं के अनुसार जीवन यापन करने का आह्वान किया। इस मौके पर बार एसोसिएशन के प्रधान गुरतेज सेखों, हरप्रीत चीमा, गुरदीप सिंह व बलकार सिंह मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.