मिल प्रशासन से परेशान नौकरी या खुदकुशी की मांग को लेकर मां-बेटा फिर बैठे धरने पर

शुगर मिल में नौकरी या फिर खुदकुशी दोनों में से एक की स्वीकृति की मांग को लेकर बृहस्पतिवार को शाहाबाद के अजय कुमार अपनी माता के साथ शुगरमिल गेट के आगे धरने पर बैठे गए हैं। अजय ने कहा कि पिछली बार उन्होंने 5 फरवरी को मिल गेट के आगे धरना दिया था। तब मिल एमडी सुशील कुमार ने उन्हें आश्वासन दिया था कि जल्द ही उनकी मांग पूरी की जाएगी लेकिन मिल बोर्ड की बैठक में उनकी मांग को लेकर किसी तरह का कोई प्रस्ताव नहीं रखा गया है।

JagranFri, 01 Mar 2019 07:14 AM (IST)
मिल प्रशासन से परेशान नौकरी या खुदकुशी की मांग को लेकर मां-बेटा फिर बैठे धरने पर

संवाद सहयोगी, शाहाबाद : शुगर मिल में नौकरी या फिर खुदकुशी, दोनों में से एक की स्वीकृति की मांग को लेकर बृहस्पतिवार को शाहाबाद के अजय कुमार अपनी माता के साथ शुगरमिल गेट के आगे धरने पर बैठे गए हैं। अजय ने कहा कि पिछली बार उन्होंने 5 फरवरी को मिल गेट के आगे धरना दिया था। तब मिल एमडी सुशील कुमार ने उन्हें आश्वासन दिया था कि जल्द ही उनकी मांग पूरी की जाएगी, लेकिन मिल बोर्ड की बैठक में उनकी मांग को लेकर किसी तरह का कोई प्रस्ताव नहीं रखा गया है। इसलिए उन्होंने धरने के साथ-साथ भूख आंशिक भूख हड़ताल शुरू कर दी है और जब तक मिल प्रशासन उनके परिवार के एक सदस्य को नियुक्ति पत्र नहीं देता तब तक आंशिक भूख हड़ताल खत्म नहीं की जाएगी। अजय ने बताया कि उसके पिता जयकिशन 1985 से शुगरमिल में मशीनिस्ट के पद पर कार्यरत थे और उनकी मृत्यु 7 फरवरी 2011 को हो गई थी। इसके बाद उन्होंने मिल प्रशासन से मांग की कि एक्सग्रेशिया की स्कीम के तहत उनके परिवार के एक व्यक्ति को नौकरी दी जाए। अजय ने कहा कि मिल को नोटिस के बाद मिल प्रशासन ने कहा कि एक्सग्रेशिया में नौकरी देने का प्रावधान नहीं है लेकिन अब उसकी जगह 5 लाख रुपये दिए जाएंगे। अजय ने कहा कि मिल उनके घर पर मिल की तरफ से पत्र व फार्म मिला। जिसमें कहा गया था कि फार्म को यथाशीघ्र कर भर कर भेजें ताकि एक्सग्रेशिया के तहत 5 लाख रूपए दिए जा सकें लेकिन फार्म में नौकरी का कहीं जिक्र नहीं था। जिस पर उन्होंने मिल से मांग की कि अगर एक्स-ग्रेशिया में नौकरी का प्रावधान नहीं है तो 2006 के तहत उन्हें प्रतिमाह वेतन दिया जाए। अजय ने कहा कि जबकि मिल में एक्सग्रेशिया के प्रावधान आज भी है और करीब 15 पद इस योजना के तहत आज भी मिल में खाली पड़े हैं। संयम जरूरी, नौकरी मिलेगी

मिल के एमडी सुशील कुमार ने कहा कि अजय की मांग को लेकर आलाधिकारियों को पत्र भेजा गया है। आलाधिकारियों से अनुमति मिलते ही नौकरी दे दी जाएगी। प्रक्रिया जारी है और ऐसे में संयम जरूरी है। भेजे गए पत्र की कॉपी भी अजय को दिखाई गई थी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.