दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

एनआइटी ने पानी और कचरा प्रबंधन में प्रस्तुत किया उदाहरण, 70 एकड़ में विकसित हुआ वन

एनआइटी ने पानी और कचरा प्रबंधन में प्रस्तुत किया उदाहरण, 70 एकड़ में विकसित हुआ वन

एनआइटी (राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान) कुरुक्षेत्र में दूषित पानी और कचरे का प्रबंधन कर प्रदेश ही नहीं देश के सामने अनूठा उदाहरण पेश किया है। संस्थान में एक बूंद दूषित पानी और कचरा बाहर नहीं फेंका जा रहा है।

JagranSun, 18 Apr 2021 06:13 PM (IST)

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : एनआइटी (राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान) कुरुक्षेत्र में दूषित पानी और कचरे का प्रबंधन कर प्रदेश ही नहीं देश के सामने अनूठा उदाहरण पेश किया है। संस्थान में एक बूंद दूषित पानी और कचरा बाहर नहीं फेंका जा रहा है। अहम पहलू यह है कि संस्थान के अधिकारियों ने प्रागंण को पर्यावरण की ²ष्टि से स्वच्छ और सुंदर बनाने में भी पहल की है। प्रांगण में दूषित पानी को ट्रीट कर एक झील तैयार की है और यहां से पानी लेकर 70 एकड़ में वन भी विकसित किया है। यह झील और जंगल अब प्रवासी पक्षियों का ठिकाना बन गया है।

थानेसर के विधायक सुभाष सुधा ने शनिवार को राष्ट्रीय प्रोद्योगिकी संस्थान का अवलोकन किया और संस्थान के प्रयासों को खूब सराहा। इससे पहले विधायक सुभाष सुधा ने एनआइटी के निदेशक पदमश्री डा. सतीश कुमार व रजिस्ट्रार डा. सुरेंद्र देसवाल के साथ गंदे पानी के प्रबंधन प्रोजेक्ट के बारे में विस्तार से चर्चा की। डा. सतीश कुमार ने बताया कि गीले व सूखे कचरे से खाद तैयार की जाती है। इसके अलावा वेस्ट मैटीरियल से ईको मार्ग, दूषित पानी को ट्रीट कर बनाई झील बनाई गई है। विधायक ने संस्थान प्रबंधन के कार्य की सराहना की और बाकी संस्थानों को भी प्रेरणा लेने की कही। 70 एकड़ में वन तैयार

संस्थान ने दूषित पानी को ट्रीट कर दो तालाबों में इकट्ठा किया है। इसको एक झील का रूप दिया है। इस पानी का प्रयोग बागवानी और वन क्षेत्र को विकसित करने के लिए किया जाता है। आज एनआइटी में 70 एकड़ में वन विकसित है। यहां प्रवासी पक्षियों ने भी अपना डेरा जमा लिया है। कुछ पक्षियों ने तो यहां प्रजनन केंद्र भी बना लिया है। इसके साथ संस्थान में गीले और सूखे कचरे का भी प्रबंधन किया है। यहां वर्मी कम्पोस्ट बनाई जाती है। इस खाद का बागवानी व वन क्षेत्र के लिए प्रयोग किया जाता है। वेस्ट मैटीरियल से छह किमी. का ईको मार्ग

झील के चारों तरफ विद्यार्थियों, कर्मचारियों और अन्य लोगों के सैर का प्रबंध किया गया है। यहां करीब छह किलोमीटर लंबा ईको मार्ग तैयार किया है। इस मार्ग को वेस्ट मैटीरियल से तैयार किया गया है। इसके बीच में आने वाले नाले पर पुल और रेलिग भी वेस्ट मैटीरियल से बनाई है। यहां लोगों के बैठने की व्यवस्था भी की गई है। जामुन और दशहरी आमों का बाग भी तैयार किया है। सोलर ईको वाहन संस्थान के एल्युमनी विद्यार्थियों ने भेंट किया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.