बारिश में शहर जलमग्न हुआ तो सामने आई कमियां, विधायकसफाई का एक और प्रोजेक्ट लाए

दिव्य कुरुक्षेत्र का सपना दिखाने वाले अधिकारी शहर के पानी निकासी तक के पुख्ता प्रबंध नहीं कर पाए। बारिश से पहले डीसी ने दौरा कर पानी निकासी के प्रबंधों का जायजा लिया तो अधिकारियों ने काम करने की बजाय उन्हें भी भरोसे का चश्मा पहना दिया।

JagranFri, 30 Jul 2021 07:02 AM (IST)
बारिश में शहर जलमग्न हुआ तो सामने आई कमियां, विधायकसफाई का एक और प्रोजेक्ट लाए

-शहर में बरसाती पानी के निकासी के दावे करने वाले अधिकारी अब चुप्पी साधे बैठे

-कमियां : अधिकारियों को जो काम एक महीने पहले कर लेना था, वह अब कर रहे हैं

-लापरवाही : विधायक को अधिकारियों के कामों की पहले मानिटरिग करते तो आज यह स्थिति पैदा नहीं होती

---नंबरगेम---

-3 से 4 फीट तक बाहरी क्षेत्रों में भरा है पानी

-2 दर्जन प्वाइंटों पर पंप लगाने की जरूरत

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : दिव्य कुरुक्षेत्र का सपना दिखाने वाले अधिकारी शहर के पानी निकासी तक के पुख्ता प्रबंध नहीं कर पाए। बारिश से पहले डीसी ने दौरा कर पानी निकासी के प्रबंधों का जायजा लिया तो अधिकारियों ने काम करने की बजाय उन्हें भी भरोसे का चश्मा पहना दिया। अब बरसात के शुरुआती दिनों में ही धर्मनगरी की सड़कें जलमग्न हो गई। इसमें सबकी कमियां सामने आ गई। नगरपरिषद, पीडब्ल्यूडी, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण व जन स्वास्थ्य विभाग करोड़ों खर्च करने के बाद भी कमियों को दूर करने की बजाय एक-दूसरे पर ठिकरा फोड़ने लगे। अधिकारी पानी निकासी की पुरानी योजनाओं को मूर्त रूप में नहीं ला सके। इन सबके के बीच विधायक सुभाष सुधा पानी निकासी का एक और प्रपोजल तैयार कर लिया। अब देखना है कि अधिकारी इस पर कितना अमल करते हैं।

सावन लगते ही बारिश शुरू हो गई थी। गत दिनों ने सावन की झड़ी चल रही है। वीरवार सुबह भी हल्की से मध्यम बारिश हुई। इतनी कम बारिश में भी शहर की कई सड़कों पर पानी जमा हो गया। थानेसर में 35 एमएम बारिश दर्ज की गई। वहीं सबसे अधिक पिहोवा में 54 एमएम बारिश हुई। लाडवा में सबसे कम 18 एमएम बारिश हुई।

नालों की नहीं की सफाई अब प्रीलास्ट स्लैब डालने की तैयारी विधायक सुभाष सुधा ने वीरवार को भी अधिकारियों के साथ शहर के सेक्टरों, कालोनियों, बाजारों का निरीक्षण किया। इसके बाद अधिकारियों को पानी निकासी के आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। विधायक ने सेक्टर-7 आवास कार्यालय पर लोगों से भी बातचीत की और पानी निकासी को लेकर लंबी चर्चा भी की है। विधायक ने कहा कि रेलवे रोड पर पानी की निकासी के लिए सड़क के दोनों तरफ बने नालों को 100-100 फीट पर प्रीलास्ट स्लैब डालने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि नाला दोनों तरफ से पूरा ढका हुआ है। जिस कारण सफाई नहीं हो पाती। 100-100 फीट पर स्लैब होने के बाद सफाई आसान होगी।

तीन कालोनियों का होगा सर्वे

बिरला मंदिर और जाट धर्मशाला के आसपास पानी निकासी नहीं हो पाती। विधायक ने केडीबी के अधिकारियों को ब्रह्मासरोवर के आसपास से आने वाले बरसाती पानी को बिरला मंदिर से पहले डायवर्ट करने के आदेश दिए। इसके साथ एकता विहार, गीता कालोनी व विष्णु कालोनी का क्षेत्र काफी नीचा है। विधायक ने नगर परिषद के अधिकारियों को इन कालोनियों और आसपास के क्षेत्रों का तकनीकी रूप से सर्वे करने के आदेश दिए। इन कालोनियों में बरसाती पानी की निकासी के लिए अमरूत योजना के माध्यम एक प्रोजेक्ट तैयार किया जाए। इसमें भी कोई तकनीकी खामियां आती है तो इस क्षेत्र के पानी की निकासी के लिए एक बड़ा कुआं बनाया जाए। इस कुएं में लिफ्टिग के जरिये पानी की निकासी संभव हो सके।

पैनोरमा के नजदीक पानी निकासी ठप

जोगी मोहल्ला और पैनोरमा के आसपास के क्षेत्र से पानी निकासी ठप है। यहां पानी जमा हो जाता है। पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को सड़क के बीच से पानी निकासी के लिए पाइप डालनी होगी। इसके बाद क्षेत्र से पानी की निकासी संभव हो पाएगी। तब तक अस्थायी रूप से पंप लगाने होंगे। जन स्वास्थ्य विभाग और हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट को सुचारु करने होंगे।

कहां कितनी बारिश

थानेसर-35

पिहोवा- 54

शाहाबाद- 51

लाडवा-18

इस्माईलाबाद- 45

बाबैन-22

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.