सिविल सर्जन डा. संतलाल वर्मा सेवानिवृत, छह साल में 11 बार तबादला

जिला सिविल सर्जन के पद पर पदोन्नत होने के बाद छह साल में 11 बार ट्रांसफर होने वाले सीएमओ (चीफ मेडिकल आफिसर) डा. संत लाल वर्मा मंगलवार को सेवानिवृत हो गए।

JagranPublish:Wed, 01 Dec 2021 12:01 AM (IST) Updated:Wed, 01 Dec 2021 12:01 AM (IST)
सिविल सर्जन डा. संतलाल वर्मा सेवानिवृत, छह साल में 11 बार तबादला
सिविल सर्जन डा. संतलाल वर्मा सेवानिवृत, छह साल में 11 बार तबादला

-सेवानिवृत होने पर जाते-जाते चिकित्सकों को पढ़ाया ईमानदारी व समय के पाबंद होने का पाठ

-जिले में सात माह में दो बड़े प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ा गए डा. संत लाल वर्मा

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : जिला सिविल सर्जन के पद पर पदोन्नत होने के बाद छह साल में 11 बार ट्रांसफर होने वाले सीएमओ (चीफ मेडिकल आफिसर) डा. संत लाल वर्मा मंगलवार को सेवानिवृत हो गए। उन्हें स्वास्थ्य विभाग के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी से लेकर डिप्टी सिविल सर्जन ने अपने तरीके से विदाई दी। किसी ने गुलाब का फूल दिया तो कोई उनके लिए कागज पर कुछ शब्द लिखकर आए। उनसे मिलने के लिए दिन भर कर्मचारियों व अधिकारियों में होड़ लगी रही। जाते-जाते भी वे चिकित्सक और स्टाफ को ईमानदारी से काम करने का और समय के पाबंद होने की नसीहत देकर गए।

सात माह में दो बड़े प्रोजेक्ट पूरे कर गए

तीन साल से अटकी वाटर टेस्टिग लैब को डा. संत लाल वर्मा ने न केवल सात माह में तैयार करवाया बल्कि उसे शुरू भी करवा दिया। वहीं कोविड-19 के सैंपलों की जांच के लिए जो टेस्ट दूसरे जिलों या निजी संस्थानों में जांच के लिए भेजने पड़ते थे। डा. संतलाल वर्मा ने महज सात माह में कोरोना वायरस की आरटीपीसीआर टेस्टिग लैब को एलएनजेपी अस्पताल में स्थापित करवाया है। इस लैब को शुरू करने के लिए अब बस माइक्रोबायोलाजिस्ट की जरूरत है, जिसकी भर्ती की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। यह दोनों ही प्रोजेक्ट जिले के लिए बड़े प्रोजेक्ट माने जा रहे हैं। अलग रही कार्यप्रणाली

डा. संत लाल वर्मा की कार्यप्रणाली अलग रही। ईमानदारी से कार्य करने के लिए जाने जाते हैं। यही वजह रही कि उन्हें छह साल में 11 बार ट्रांसफर भी झेलनी पड़ी। कंसलटेंट नहीं बनूंगा, समाज के प्रति दायित्व निभाना पहला कार्य

डा. संत लाल वर्मा ने कहा कि अभी मैं स्वास्थ्य विभाग में कंसलटेंट नहीं बनूंगा। समाज के प्रति जो दायित्व हैं उन्हें करने का प्रयास करूंगा। स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर स्वास्थ्य जांच शिविर लगाने का लक्ष्य है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक कर सकूं। यह रहे सेवानिवृति के दौरान

जिला सिविल सर्जन डा. संत लाल वर्मा को विदाई देने के लिए पहले तो तृतीय श्रेणी कर्मचारियों ने एलएनजेपी अस्पताल में कार्यक्रम रखा। इसके बाद डिप्टी सिविल सर्जन और वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारियों ने निजी होटल में कार्यक्रम रखकर उन्हें विदाई दी। कार्यक्रम में डिप्टी सिविल सर्जन डा. अनुपमा सिंह, डा. ललित कल्सन, पीएनडीटी नोडल अधिकारी डा. आरके सहाय, डा. संदीप अग्रवाल, डा. सुदेश सहोता, स्वास्थ्य कर्मचारी संघ कैशियर पंकज आत्रेय ने शुभकामनाएं दी। डा. सुखबीर आज कर सकते हैं ज्वाइन

जिला सिविल सर्जन डा. संत लाल वर्मा की सेवानिवृत होने के बाद बुधवार को अंबाला अस्पताल के पीएमओ डा. सुखबीर माहला पदभार संभाल सकते हैं। उनके आर्डर पहले ही जारी हो चुके हैं।