ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर टीमें करेंगी स्वास्थ्य जांच, गांवों में बनेंगे आइसोलेशन सेंटर

ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर टीमें करेंगी स्वास्थ्य जांच, गांवों में बनेंगे आइसोलेशन सेंटर

डीसी निशांत कुमार यादव ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत तथा संक्रमण चेन को तोड़ने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर सर्वे करने तथा स्वास्थ्य चेकअप के लिए ग्राम स्तर पर फील्ड स्तर पर व हैड क्वार्टर लेवल पर टीमों का गठन किया गया है। इन टीमों में आशा वर्कर आंगनवाड़ी वर्कर स्कूली अध्यापक के साथ-साथ गांव के गणमान्य व समाज सेवियों को शामिल किया गया है।

JagranFri, 14 May 2021 06:18 AM (IST)

जागरण संवाददाता, करनाल: डीसी निशांत कुमार यादव ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत तथा संक्रमण चेन को तोड़ने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर सर्वे करने तथा स्वास्थ्य चेकअप के लिए ग्राम स्तर पर फील्ड स्तर पर व हैड क्वार्टर लेवल पर टीमों का गठन किया गया है। इन टीमों में आशा वर्कर, आंगनवाड़ी वर्कर, स्कूली अध्यापक के साथ-साथ गांव के गणमान्य व समाज सेवियों को शामिल किया गया है।

ये टीमें लोगों के स्वास्थ्य की जांच करेगी। अगर किसी व्यक्ति को कोरोना के सामान्य लक्षण होंगे तो उसे गांव में ही बनाए गए आइसोलेशन सेंटर पर दाखिल किया जाएगा। यदि ऑक्सीजन की कमी मरीज को है तो उसे संबंधित सीएचसी में दाखिल किया जाएगा। यदि मरीज गंभीर है तो उसे इस टीम की सिफारिश पर केसीजीएमसी में दाखिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिले के ग्रामीण क्षेत्र में 60 आइसोलेशन सेंटर बनाए जाएंगे। ये सेंटर उन गांवों में बनाए जाएंगे, जहां मरीजों की संख्या ज्यादा है। डीसी लघु सचिवालय सभागार में कोविड-19 के दृष्टिगत संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दे रहे थे। इससे पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीसी के माध्यम से कोरोना महामारी में जिले की तैयारियों के बारे में समीक्षा की और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

डीसी ने निर्देश देते हुए कहा कि सर्वे के दौरान अगर किसी व्यक्ति को आइसोलेशन की जरूरत पड़ती है और उसके घर में जगह नहीं है तो गांवों में ही आइसोलेशन सेंटर बनाए जाएं। इनमें सभी मूलभूत सुविधाएं मुहैया हों। इस कार्य के लिए जिला स्तर पर सीईओ जिला परिषद गौरव कुमार को नोडल व ब्लॉक स्तर पर बीडीपीओ व पंचायती राज के कार्यकारियों को नोडल बनाया गया है। प्रत्येक गांव में गणमान्य व्यक्तियों, समाज सेवियों, महिलाओं को इस कार्य में जोड़ा जाए। जिन गांवों में पॉजिटिव केस अधिक आते हैं तो उन गांवों में विशेष निगरानी करके जरूरी कदम उठाए जाएं। जो व्यक्ति होम आइसोलेशन में रह कर ठीक हो चुके हैं। वे व्यक्ति स्वास्थ्य विभाग द्वारा मुहैया करवाए गए ऑक्सीमीटर को वापस करें ताकि किसी दूसरे व्यक्ति को उसका लाभ दिया जा सके।

उन्होंने कहा कि शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में निरंतर सैनिटाइज किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि इस कार्य में जो भी कदम उठाने हैं, उसे पूरी जिम्मेदारी से करें ताकि जिला को कोरोना मुक्त बनाया जा सके। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक गंगाराम पूनिया, आयुक्त नगर निगम विक्रम, एसीयूटी प्रदीप सिंह, एडीसी वीना हुड्डा, सीईओ जिला परिषद गौरव कुमार, एसडीएम आयुष सिन्हा, नगर निगम के संयुक्त आयुक्त गगनदीप सिंह, एसडीएम इंद्री सुमित सिहाग, केसीजीएमसी के निदेशक डा. जगदीश दुरेजा, सीएमओ डा. योगेश शर्मा, डीआईओ महीपाल सीकरी, डीडीपीओ राजबीर खुंडिया व सभी बीडीपीओ उपस्थित रहे।

-------------

जिले के इन गांवों में बनेंगे आइसोलेशन सेंटर

जिले के नीलोखेड़ी पीएचसी में ओल्ड नीलोखेड़ी, गांव सीकरी, समानाबाहु, बराना, नीलोखेड़ी टाउन, संधीर, घरौंडा में सीएचसी सेंटर, बरसत, चौरा, कालरम, बसताड़ा, असंध में अंसध पीएचसी, जयसिंहपुरा, राहड़ा, बिलौना, अरड़ाना, बाहरी, चोचड़ा, कबुलपुर खेड़ा, पंघाला, अलावला, निसिग में ओंगद, गोंदर, डेरा मेहताब, ब्रास, बड़ौता, नरूखेड़ी, सिरसी, पिचौलिया, जुंडला, कतलाहड़ी, इंद्री में गुढ़ा, नौरता, राजेपुर, उमरपुर, खेड़ा, मुरादगढ़, बीबीपुर जाटान, गढ़ी गुजरान, मधुबन पीएचसी में बजीदा, मधुबन, ऊंचा समाना, कुंजपुरा पीएचसी में बड़ागांव, कुंजपुरा, घीड़ में खेड़ी मानसिंह, तरावड़ी में गांगर, शामगढ़, नड़ाना, भैनीखुर्द, तखाना, भैनीकलां व निगदू में ये सेंटर बनेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.