उप्र के ध्यानार्थ.. बदमाशों ने चालक को बंधक बना धान से लदा ट्रैक्टर-ट्रॉली लूटा

जागरण संवाददाता, करनाल : पिस्तौल के बल पर बदमाशों ने चालक को बंधक बना धान से लदे ट्रैक्टर-ट्रॉली लूट लिया। चालक को बदमाश गाड़ी में डालकर ले गए और मारपीट कर बेहोशी की हालत में सोनीपत के खुबड़ू गांव के समीप जंगल में फेंक दिया। बकारका, थाना चिलकाना जिला सहारनपुर वासी मुस्ताक किराए पर ट्रैक्टर-ट्रॉली चलाकर परिवार का पालन पोषण कर रहा है। वह वीरवार को सायं सहारनपुर की अनाज मंडी से मैसर्स संतलाल परसराम फर्म से अपने ट्रैक्टर-ट्राली में चार लाख 28 हजार कीमत की मुच्छल धान लोड कर करनाल के नगला चौक स्थित आयुष फूड एंड हर्ष लिमिटेड के लिए चला था। मुस्ताक ने बताया कि सहारनपुर से चलते ही कुछ दूरी पर शाहजहांपुर के पास उसका ट्रैक्टर खराब हो गया। उसने जानकार से दूसरा महेंद्र ट्रैक्टर मंगवाया। इसके बाद वह धान से लदी ट्रॉली लेकर करनाल आ रहा था। रंभा से समोरा के बीच वह शुक्रवार रात साढ़े 12 बजे पहुंचा, जहां अचानक ही उसके ट्रैक्टर को ओवरटेक कर आगे एक कार रुकी और उसमें से छह बदमाश उतरे। इनमें से तीन के पास पिस्तौल थी। उसे ट्रैक्टर से खींचकर उतार लिया और पिटाई की। इसके बाद उसके परने से हाथ बांधकर अपनी कार में डाल लिया। कार में भी उसकी जमकर पिटाई की और दो युवक ट्रैक्टर-ट्रॉली ले गए। उन्होंने उससे पर्स व मोबाइल भी छीन लिया तो इसके बाद भी पिस्तौल के बट्टों से उसकी पिटाई करते रहे। इससे टै्रक्टर चालक बेहोश हो गया। जब उसे होश आया तो वह सोनीपत के गांव खुबड़ू के पास जंगलों में पाया। सूचना पर परिजन मौके पर पहुंचे और उसने अस्पताल पहुंचाया। पुलिस ने अज्ञात युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

बदमाश उप्र के होने की आशंका

बदमाश उत्तरप्रदेश से ही होने की आशंका जताई जा रही है। उन्होंने सफेद रंग की दो कारों में ट्रैक्टर-ट्रॉली का पीछा किया। आशंका जताई जा रही है कि बदमाशों को लोकेशन की भी पूरी जानकारी थी और रंभा व समोरा के बीच रात को साढ़े 12 बजे लूट की।

सीआइए वन को सौंपी जांच

पुलिस अधीक्षक एसएस भौरिया ने मामला संज्ञान में आने पर जांच के लिए सीआइए वन को सौंपा, जिसके बाद एक टीम दिन भर छापेमारी करती रही तो वहीं रंभा चौकी की टीम भी बदमाशों की तलाश करती रही है।

रंभा चौकी इंचार्ज मंजीत सिंह ने बताया कि बदमाशों की दोनों टीमें गहनता से तलाश में जुटी है और जल्द ही उन्हें काबू कर लिया जाएगा।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.