top menutop menutop menu

रोहेडियां गांव में पानी की निकासी न होने से सड़क पर जमा हुआ पानी

जागरण संवाददाता, कैथल:

रोहेड़ियां गांव में पानी की निकासी न होने के कारण कैथल से बात्ता और कलायत जो जोड़ने वाली मुख्य सड़क तालाब बन गई है। यहां गांव का दूषित गंदा पानी जमा होने के कारण सड़क टूट गई है ओर गहरे गड्ढों से हादसे हो रहे हैं।

रविवार सुबह हुई बरसात के बाद तो यहां पानी ज्यादा मात्रा में जमा होने के कारण लोगों को आने-जाने के लिए दूसरे लिक मार्गों से गुजरना पड़ा। लोगों ने बताया कि गांव में पानी की निकासी के लिए जो तालाब है वे पूरी तरह से ओवरफ्लो हो चुका है। निकासी को लेकर लगाया गया बोर कई दिनों से बंद होने के कारण अब पानी सड़कें पर जमा हो रहा है। इससे सड़क तो टूट रही है, गंदा पानी खेतों में जाने से किसानों को भी नुकसान हो रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि गंदा पानी मुख्य मार्ग पर जमा होने के कारण बीमारियां फैल रही है। तीन गांव के लोगों को आना-जाना होने के कारण लोग काफी परेशान हैं और रजवाहा की पटरी से होकर आने-जाने को मजबूर हो रहे हैं।

वहीं, गांव में दूसरी समस्या बंदरों की है। छतों पर बंदर बैठे रहते हैं और काफी नुकसान कर चुके हैं। कई बुजुर्ग और बच्चों को भी काट चुके हैं। जिला प्रशासन से मांग है कि इन दोनों समस्याओं का जल्द से जल्द हल करवाया जाए।

सड़कों के पास नाली बनवाने की मांग

ग्रामीण पवन कुमार ने बताया कि बरसात होने के बाद सड़क पर पानी जमा हो जाता है। दोपहिया वाहन चालक गिरकर घायल हो रहे है। प्रशासन को कई बार पानी निकासी के लिए सड़कों के पास नाले बनवाने की मांग कर चुके है लेकिन समाधान नहीं हो रहा है। उन्होंने मांग की है कि जल्द से जल्द नालों को बनाया जाए ताकि समस्या से राहत मिल सके।

पानी निकासी का प्रबंध करें

ग्रामीण सुनील ने बताया कि कैथल व कलायत को जोड़ने वाला प्रमुख रास्ता है। बरसात के समय पानी जमा होने के बाद आस पास कीचड़ फैल जाता है। गंदा पानी से निकलना मुश्किल हो रहा है। गांव के चारों तरफ की सड़कों के पास पानी निकासी का प्रबंध किया जाए ताकि राहगीरों को परेशानी का सामना न करना पड़े।

बाक्स :

यह है गांव का इतिहास :

रोहेड़ियां गांव में प्राचीन बाबा मस्तनाथ का प्राचीन स्थान है। मंगलवार के दिन यहां पूजा-अर्चना के लिए लोग पहुंचते हैं। गांव में भगवान शिव का भी मंदिर है। इसके अलावा गांव में अन्य धार्मिक स्थल भी हैं, जिनकी काफी मान्यता है। गांव की आबादी दो हजार के करीब है। 900 के करीब मतदाता हैं, 60 प्रतिशत जनसंख्या साक्षर हैं।

जल्द समस्या दूर होगी

गांव के सरपंच रामफल सैनी ने बताया कि पानी निकासी की गांव में मुख्य समस्या है। निकासी को लेकर विभाग के अधिकारियों को अवगत करवाया गया है, उम्मीद है कि जल्द ही समस्या दूर हो जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.