top menutop menutop menu

महंत राघव दास की सुरक्षा के लिए रखा जाएगा बॉडीगार्ड

जागरण संवाददाता, कैथल : शहर के बीचों-बीच स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर के महंत राघव दास शास्त्री को जान से मारने की सुपारी देने के मामले के बाद महंत की सुरक्षा को लेकर मंदिर समिति के लोगों की चिता बढ़ गई है। समिति सदस्यों ने महंत की जान को खतरा बताते हुए वीरवार को मंदिर परिसर में बैठक की। इसमें 11 सदस्य मौजूद रहे। बैठक में सर्व-सम्मति से दो प्रस्ताव पारित किए गए। एक तो मंदिर में अच्छी क्वालिटी के छह सीसीटीवी कैमरे लगाने और दूसरा महंत राघव दास शास्त्री की सुरक्षा को लेकर बॉडीगार्ड रखने बारे विचार-विमर्श किया गया। बॉडीगार्ड ऐसा रखा जाएगा जो पूरी तरह से विश्वसनीय हो।

हनुमान मंदिर सेवा समिति की बैठक महंत राघव दास शास्त्री की अध्यक्षता में हुई। इसमें समिति प्रधान चंद्र गुप्ता शोरेवाला, हरिकेशन, राम किशन, श्यामलाल वर्मा सहित 11 सदस्यों ने शिरकत की। सदस्यों ने कहा कि मंदिर वर्षो पुराना है। महंत की हत्या की सुपारी देने के मामले के बाद सभी सदस्यों में भय का माहौल है। इसलिए सभी ने मंदिर में कैमरे लगाने और महंत की सुरक्षा को लेकर बॉडीगार्ड रखने के लिए फैसला लिया है। कुछ लोग मंदिर की प्रोपर्टी पर गलत नजर रखे हुए हैं, जिसका खुलासा पूर्व में हुआ था। इसलिए मंदिर में आने-जाने वाले लोगों पर विशेष नजर रखी जाएगी। महंत से मिलने वालों की पहचान के लिए रिकार्ड भी रखा जाएगा।

हत्या के मुख्य आरोपित

की नहीं हुई गिरफ्तारी

सांघन गांव डेरा के महंत रामभज दास की हत्या करने वाले मुख्य आरोपित नरवाना निवासी अजय मेहरा सहित तीन अन्य बदमाशों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। रामभज दास ने हनुमान मंदिर के महंत राघव दास को मारने के लिए अजय को पांच लाख रुपये में सुपारी दी थी। इस काम के लिए 50 हजार रुपये एडवांस में दे दिए थे, लेकिन बदमाश ज्यादा पैसा मांग रहे थे। जब पैसा नहीं दिया तो बदमाशों ने रामभज दास पर ही हमला कर उसकी हत्या कर दी। रामभज दास महंत राघव दास को मारकर स्वयं मंदिर की गद्दी पर बैठना चाहता था, और इसका आरोप टटियाना डेरे के महंत छवि राम पर लगाना चाहता था, ताकि वे जेल में चला जाए, और उसकी गद्दी का रास्ता साफ हो जाए। रामभज दास के हत्यारों की गिरफ्तारी को लेकर सीआइए वन पुलिस जांच कर रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.