दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

एसडीएम ने गांवों में बनाए आइसोलेशन वार्ड का दौरा कर जांची व्यवस्था

एसडीएम ने गांवों में बनाए आइसोलेशन वार्ड का दौरा कर जांची व्यवस्था

प्रदेश सरकार ने गांवों में बढ़ते कोरोना संक्रमित मरीजों के बेहतर इलाज के डोर टू डोर टीम का गठन किया है। ताकि जो भी संक्रमित मरीज मिलता है तो उसका उपचार किया जा सके। गांवों में आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं जहां संक्रमित मरीजों को परिवार से अलग रखा जा सके। नरवाना ब्लॉक में 10 व उझाना ब्लॉक में 10 आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं। जिसमें नरवाना ब्लॉक में गांव अमरगढ़ फुलिया कलां ईस्माइलपुर कर्मगढ़ सुलहेड़ा दनौदा कलां भाणा ब्राह्मण दबलैन जाजनवाला खरडवाल सच्चाखेड़ा में बनाए गए हैं।

JagranSat, 15 May 2021 06:27 AM (IST)

संवाद सूत्र, नरवाना : प्रदेश सरकार ने गांवों में बढ़ते कोरोना संक्रमित मरीजों के बेहतर इलाज के डोर टू डोर टीम का गठन किया है। ताकि जो भी संक्रमित मरीज मिलता है, तो उसका उपचार किया जा सके। गांवों में आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं, जहां संक्रमित मरीजों को परिवार से अलग रखा जा सके। नरवाना ब्लॉक में 10 व उझाना ब्लॉक में 10 आइसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं। जिसमें नरवाना ब्लॉक में गांव अमरगढ़, फुलिया कलां, ईस्माइलपुर, कर्मगढ़, सुलहेड़ा, दनौदा कलां, भाणा ब्राह्मण, दबलैन, जाजनवाला, खरडवाल, सच्चाखेड़ा में बनाए गए हैं। उझाना ब्लॉक में लौन, गढ़ी, बेलरखां, धमतान, धनौरी, उझाना, हमीरगढ़, पीपलथा, रसीदां, कालवन में आइसोलेशन वार्ड बनाए हैं। आइसोलेशन वार्ड में क्या-क्या व्यवस्था की गई हैं और टीम कैसे कार्य करेगी, इसके लिए एसडीएम सुरेंद्र बैनीवाल ने शुक्रवार को ईस्माइलपुर, कर्मगढ़, फुलियां कलां, सुलहेड़ा और अमरगढ़ गांव का दौरा किया। उन्होंने बताया कि आइसोलेशन वार्ड स्कूल में बनाए गए हैं, जहां प्रत्येक वार्ड में 10-10 बेड की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि डोर-टू-डोर सर्वे टीम को कोरोना महामारी से निपटने के लिए दिशा-निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही टीम वर्क के रूप में काम करने की बात कही गई है। वहीं ग्रामीणों को घर पर रहने के लिए जागरूक करने के लिए कहा गया है। उन्होंने बताया कि आइसोलेशन वार्ड में पूरी व्यवस्था ठीक पाई गई है और इसमें कोताही बरतने पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

कोविड संबंधी इमरजेंसी से निपटने के लिए नियुक्ति किए 16 अधिकारी

जागरण संवाददाता, जींद : कोरोना महामारी में इमरजेंसी की स्थिति से निपटने के लिए अलग-अलग क्षेत्र में 16 अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। यह अधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि कोरोना सैंपलिग और वैक्सीनेशन अभियान सही तरीके से चल रहा है या नहीं। किसी भी तरह की इमरजेंसी से निपटने के लिए यह टीम काम करेगी। पीसीआर इनोवा गाड़ी को हेल्थ केयर सर्विस के रूप में बेहतर बनाने का प्रयास किया जाएगा।

जिला उपायुक्त डा. आदित्य दहिया ने इमरजेंसी की स्थिति से निपटने के लिए एचसीएस अनिल कुमार को कोरोना संबंधी इमरजेंसी कॉल सेंटर की स्थिति संभालने का जिम्मा दिया है। शुगर मिल एमडी एचसीएस प्रवीन कुमार को ऑक्सीजन गैस सिलेंडर की रेडक्रॉस द्वारा दी जा रही डिलीवरी की व्यवस्था देखनी है। डा. नवनीत सिंह वैक्सीनेशन अभियान की जिम्मेदारी संभालेंगे तो डा. गोपाल गोयल, डा. रघुबीर पूनिया, डा. राजेश भोला जिला मुख्यालय के नागरिक अस्पताल की व्यवस्था देखने का काम करेंगे। डा. देवेंद्र कुमार को नरवाना, डा. नरेश वर्मा को जुलाना, डा. सुशील गर्ग को उचाना, डा. अरुण कुमार को कालवा, डा. मनदीप कुमार को खरकरामजी, डा. चांदबाला को अलेवा, डा. संदीप ढांडा को उझाना, डा. संदीप को मुआना, डा. जितेंद्र को कंडेला, डा. अरुण को सफीदों सीएचसी की जिम्मेदारी दी गई है। नागरिक अस्पताल के एसएमओ डा. राजेश भोला ने कहा कि प्रशासन द्वारा दी गई जिम्मेदारी को महामारी के दौर में पूर्ण निष्ठा के साथ निभाया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.