देव यज्ञ से जड़ और चेतन दोनों देवता खुश होते : शिवकुमार

संवाद सूत्र, सफीदों : पुरानी अनाज मंडी में आर्य समाज सफीदों के तत्वावधान में आयोजित तीन दिवसीय वार्षिकोत्सव के प्रथम दिन का शुभारंभ यज्ञ के द्वारा किया गया। आर्य समाज सफीदों के धर्माचार्य कमलेश शास्त्री के सानिध्य में श्रद्धालुओं ने यज्ञ में आहुति डाली। यज्ञ के उपरांत धर्मसभा का आयोजन किया गया, जिसमें पं. शिवकुमार शास्त्री व बहन अंजली आर्या ने विशेष रूप से शिरकत की।

अपने संबोधन में पं. शिवकुमार व बहन अंजली आर्या ने कहा कि यज्ञ दोनों प्रकार के देवताओं की पूजा होती है। देव यज्ञ ही से जड़ और चेतन देवताओं को खुश किया जाता है। पितृ यज्ञ करने से जीवन में हर प्रकार का सुख प्राप्त होता है। कार्यक्रम में शांति पाठ के बाद लोगों ने प्रसाद वितरित किया गया। इस मौके पर आर्य समाज के प्रधान यादवेंद्र बराड़, उपप्रधान विष्णु भगवान मित्तल व मंत्री संजीव मुआना विशेष रूप से मौजूद थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.