जींद में दिल्ली-पटियाला हाईवे पर बने अवैध निर्माणों पर चली जेसीबी मशीन

जिला नगर योजनाकार विभाग की टीम द्वारा डीटीपी अरविद्र ढुल के नेतृत्व में दिल्ली-पटियाला हाईवे पर बड़ी कार्रवाई की। इस दौरान अवैध निर्माण ढहाए।

JagranSat, 24 Jul 2021 09:19 AM (IST)
जींद में दिल्ली-पटियाला हाईवे पर बने अवैध निर्माणों पर चली जेसीबी मशीन

संवाद सूत्र, नरवाना : जिला नगर योजनाकार विभाग की टीम द्वारा डीटीपी अरविद्र ढुल के नेतृत्व में दिल्ली-पटियाला हाईवे पर बड़ी कार्रवाई करते हुए यहां अवैध रूप से बने तीन टाइल फैक्ट्री, एक सर्विस गैराज, दो ढाबों और छह दुकानों समेत चार एकड़ में रोड नेटवर्क को ध्वस्त किया। अवैध निर्माण को जेसीबी की सहायता से गिराने के दौरान लोगों ने विरोध भी किया, लेकिन भारी पुलिस बल के चलते लोगों को पीछे हटा दिया गया।

ड्यूटी मजिस्ट्रेट एवं डीटीपी अरविद्र ढुल ने बताया कि सीएम विडो की शिकायत पर अवैध निर्माण को हटाया गया है। अवैध निर्माण हटाने के लिए पहले नोटिस भी दिया गया था। सिरसा ब्रांच नहर पुल के पास बने काफी संख्या में होटल, ढाबे, ब्लाक फैक्ट्रियां, दुकानें बनी हुई हैं। इनके निर्माण से पहले जिला नगर योजनाकार विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना होता है लेकिन विभाग की तरफ से एनओसी नहीं ली गई। कृषि योग्य जमीन पर जिला नगर योजनाकार विभाग की अनुमति के बिना किसी भी तरह का निर्माण नहीं किया जा सकता। अगर कृषि योग्य जमीन को कार्मिशयल में बदलना है या रिहायशी इलाका बनाना है तो उसके लिए पहले सीएलयू लेनी होती है। लेकिन यहां किसी भी तरह की सीएलयू नहीं ली गई। अवैध निर्माण के खिलाफ सीएम विडो पर शिकायत आई हुई थी, उसी पर एक्शन लिया गया और तीन टाइल फैक्ट्री, दो ढाबे, एक सर्विस गैराज के साथ छह दुकानों और चार एकड़ में रोड नेटवर्क को जेसीबी की सहायता से ढहाया गया। अवैध निर्माण को बचाने के लिए ढाबा संचालकों व अन्य ने गुहार भी लगाई, लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं की गई। इस दौरान सदर एसएचओ राजकुमार, जेई जसबीर, हरिप्रकाश, गौरव, नवीन, प्रवेश मौजूद थे।

नप के पूर्व वाइस चेयरमैन को लिया हिरासत में

नगर परिषद के पूर्व वाइस चेयरमैन राजू प्रजापति ने जिला नगर योजनाकार विभाग के एक तरफा कार्रवाई करने का विरोध जताया। उन्होंने कहा कि एक गरीब के आशियाने को तो गिराया जा रहा है। लेकिन अमीर घराने के दुकानों, होटलों व अन्य निर्माण को नहीं गिराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह सब एक तरफा कार्रवाई की जा रही है। जब उनके द्वारा विरोध किया जा रहा था, तो डीटीपी अधिकारी अरविद्र ढुल ने उनको एक तरफ हटने के लिए कहा। लेकिन राजू प्रजापति ने कहा कि जब तक समान रूप से कार्रवाई नहीं की जाती, तब तक वे पीछे नहीं हटेंगे। जिस पर अरविद्र ढुल ने पुलिस को बुलाकर उसको ले जाने के लिए कहा। जिसके बाद सदर पुलिस द्वारा राजू प्रजापति को सदर थाना ले गई।

सामान निकालने तक नहीं मिला मौका

कृष्णा होटल के मालिक संदीप ने बताया कि डीटीपी विभाग द्वारा उनको सामान निकालने का तो मौका दिया जाना था, लेकिन एकदम आकर जेसीबी से उसको गिरा दिया गया। नीलकंठ होटल के मालिक ने बताया कि वह पिछले 10 साल से यहां होटल चलाकर अपने बच्चों का पेट भर रहे थे, लेकिन अब उसके होटल को गिराकर सड़क पर लाने का काम कर दिया गया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.