बीजेपी ने की करसिधु में दोबारा से मतदान की मांग

संवाद सूत्र, उचाना: भाजपा उम्मीदवार प्रेमलता के चुनाव एजेंट जुगमिद्र कोच ने बताया कि जब वह करसिधु गांव के रजवाहा के पास राजकीय स्कूल में बूथ नंबर 71 पर पहुंचे तो वहां पर फर्जी वोटिग चल रही थी। जब फर्जी वोटिग रोकने का प्रयास किया तो वहां लोगों की भीड़ ने एकत्रित होकर मेरे साथ धक्का-मुक्की करते हुए स्कूल से बाहर निकाल दिया। उचाना आरओ राजेश कोथ को लिखित में शिकायत देते हुए कहा कि जिन लोगों ने धक्का-मुक्की है उनके खिलाफ कार्रवाई करने के साथ-साथ यहां पर दोबारा से मतदान करवाया जाए।

-------------------

छातर, घसो, मोहनगढ़ छापड़ा के बूथों पर बंद रही ईवीएम

संवाद सूत्र, उचाना : विधानसभा चुनाव को लेकर मतदाताओं में उत्साह दिखाई दिया। मतदान बूथों पर डीसी डॉ. आदित्य दाहिया, एसएसपी अश्विन शैणवी ने पुलिस बल के साथ मतदान केंद्रों का निरीक्षण भी किया। छातर गांव के बूथ नंबर 31 पर ईवीएम देरी से चलने पर मतदान देरी से शुरू हुआ। घसो कलां के बूथ नंबर 64 पर भी मतदान देरी से शुरू होने से मतदाताओं को इंतजार करना पड़ा। मोहनगढ़ छापड़ा में ईवीएम नहीं चलने पर करीब एक घंटे तक मतदान नहीं हो पाया। यहां पर नई ईवीएम रखी गई। उचाना खुर्द, करसिधु में भी मतदान को लेकर आपस में जेजेपी, बीजेपी कार्यकर्ताओं में काफी तनातनी हुई। जिले में सबसे अधिक 15 उम्मीदवार हॉट सीट उचाना में चुनाव मैदान में हैं। इस बार भी 2014 की तरह भाजपा उम्मीदवार प्रेमलता, जेजेपी उम्मीदवार दुष्यंत चौटाला के बीच मुकाबला है। 2014 में दुष्यंत चौटाला इनेलो की तरफ से उम्मीदवार थे। इस बार जेजेपी की तरफ से उम्मीदवार है। 2014 में प्रेमलता ने जीत दर्ज कर जिले में भाजपा का खाता खोला था। हलके के 65 गांवों में दो लाख पांच हजार 503 मतदाता है। इसमें पुरूष एक लाख 11 हजार 881 हैं, तो महिलाएं 93 हजार 622 मतदाता है।

--------------

बीरेंद्र, प्रेमलता व बृजेंद्र ने डूमरखां में डाला वोट

संवाद सूत्र, उचाना: डूमरखा कलां गांव में राजकीय स्कूल में बने मतदान केंद्र के बूथ नंबर 1 पर पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह भाजपा उम्मीदवार प्रेमलता, सांसद बृजेंद्र सिंह, अपनी पुत्रवधू जसप्रीत कौर के साथ मतदान करने के लिए पहुंचे। बीरेंद्र सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में प्रदेश में प्रचंड बहुमत से दोबारा से भाजपा की सरकार बनने का दावा करते हुए उचाना की जीत को इस बार 2014 में मिली जीत से दोगुना होने का दावा भी किया। बूथों पर मौजूद कार्यकर्ताओं का हौंसला बढ़ाने के लिए विभिन्न पार्टियों के नेता पहुंच रहे थे। पुलिस द्वारा बनाए गए नाकों पर वाहनों की जांच भी की गई। मतदान की पर्चियों को लेकर भी लोगों को परेशानी हुई। घरों में पर्चियां न पहुंचने से मतदान केंद्रों के बाहर अपनी पर्ची बनवाते मतदाता नजर आए।

-------------------

उचाना शहर में 160, 161 बूथ रहा पिक बूथ

संवाद सूत्र, उचाना : रेलवे रोड पर एसडी महिला महाविद्यालय में बना शहर का 160, 161 बूथ को पिक बूथ के लिए चुना गया। यहां पर मतदान के लिए आने वाले मतदाताओं के स्वागत के लिए रंगोली बनाई गई तो मेन रास्ते पर पिक रंग से गेट बनाया गया। अंदर भी मतदान के अनेकों स्लोगन के साथ-साथ गुब्बारों के अलावा सुंदर तरीके से सजाया गया। यहां पर सभी डयूटी पर कार्यरत कर्मचारी भी विभिन्न विभागों से महिलाए थी। प्राचार्य डॉ. आरके जैन, लेक्चरार मंजू खुराना ने बताया कि बूथ को गुलाबी रंगों से सजाया गया।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.