जागृति यात्रा साइकिल रैली पंहुची झज्जर, डीघल टोल प्लाजा पर हुआ भव्य स्वागत

राजकीय स्नातकोत्तर नेहरू कालेज झज्जर व गांव कबलाना की चौपाल पर छात्राओं व महिलाओं को किया उनके अधिकारों के प्रति जागरूक

JagranWed, 24 Nov 2021 05:58 PM (IST)
जागृति यात्रा साइकिल रैली पंहुची झज्जर, डीघल टोल प्लाजा पर हुआ भव्य स्वागत

जागरण संवाददाता, झज्जर : महिला सशक्तीकरण एवं सुरक्षा के संबंध में सामाजिक जागरूकता बढ़ाने के लिए शुरू की गई साइकिल रैली 'जागृति यात्रा' बुधवार को झज्जर पहुंची। महिला निरीक्षक माया देवी के नेतृत्व में पहुंची साइकिल रैली का अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक झज्जर भारती डबास के नेतृत्व में गांव डीघल के पास टोल प्लाजा पर जोरदार स्वागत किया गया।

अपनी बात रखते हुए डबास ने बताया कि पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार अग्रवाल ने 15 नवम्बर को पुलिस मुख्यालय पंचकूला से यात्रा को रवाना किया था। एसीपी पंचकूला ममता सौदा के नेतृत्व में इस साइकिल रैली में शामिल सिपाही से लेकर इंस्पेक्टर रैंक तक की 16 महिला पुलिस साइकिलिस्ट शामिल हैं। जागृति यात्रा की टीम 25 दिनों में 23 जिलों के शहर व गांव के क्षेत्रों को कवर करते हुए करीब 1,194 किलोमीटर का सफर तय करेगी। यात्रा की इस पहल का उद्देश्य महिलाओं एवं लड़कियों को उनके अधिकारों के सम्बन्ध में जागरूक करना, महिला विरुद्ध अपराधों के प्रति सजग करना तथा महिलाओं की सुरक्षा में पुलिस व अन्य एजेंसियों की भूमिका के बारे में शिक्षित करके महिला सुरक्षा को बढ़ावा देना है। राजकीय स्नातकोत्तर नेहरू कालेज में आयोजित क्रार्यक्रम में महिला निरीक्षक माया देवी ने छात्राओं को महिलाओं से संबंधित अपराधों के बारे जानकारी देकर बताया कि किसी भी अपराध के घटित होने पर पीड़ित के चुप रहने से अपराध और अपराधी का हौसला दोनों बढ़ते हैं। महिलाओं एवं छात्राएं को पता होना चाहिए कि अपराध क्या है और महिला विरुद्ध अपराध के संबंध में रिपोर्ट कहां और कैसे की जाए।

इसके पश्चात गांव कबलाना में स्थित चौपाल पर आयोजित जागरूकता कार्यक्रम में गांव की महिला सरपंच सुनीता देवी, बड़ी संख्या में गांव की महिलाओं, मौजिज ग्रामीणों व छात्राओं द्वारा महिला साइकिलिस्ट का भव्य स्वागत किया गया। मौजूद रहे पुलिस अधिकारियों ने कहा कि मानसिकता बदलने से ही देश तरक्की करेगा। छोटी-छोटी बातों पर फैसला लेना सीखें। जब तक नारी मन और शरीर से मजबूत नहीं होगी, उसका सशक्त होना संभव नहीं। माता-पिता अपने बच्चों को अच्छे संस्कार दें ताकि बच्चे महिलाओं व लड़कियों का सम्मान करना सीखें। महिलाओं को अपने अधिकारों की जानकारी होना बहुत जरूरी है। अगर महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होंगी तो किसी भी तरह की आपराधिक घटना की सूचना तुरन्त पुलिस को दे सकेंगी। जागरूकता से ही महिला विरुद्ध अपराधों में कमी आएगी और अपराधियों को सजा भी दिलवाई जा सकेगी। इस अवसर पर महिला थाना प्रबंधक झज्जर निरीक्षक कविता, महिला सैल प्रभारी झज्जर उप निरीक्षक किरण, थाना प्रबंधक दुजाना निरीक्षक शेर सिंह व अन्य पुलिस जवान मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.