महिला ने एसपी व आइजी से लगाई न्याय की गुहार

महिला ने एसपी व आइजी से लगाई न्याय की गुहार

इस मिल के तीन मालिक हैं जिनमें जयदेव भारद्वाज एक सरकारी अध्यापक है। यह अपनी भांजी के नाम से मिल में हिस्सेदार हैं। इसके अलावा संदीप और सुभाष भी हिस्सेदार हैं। रचना ने बताया कि 16 जून को मिल में जीएसटी टीम ने छापेमारी की थी।

Publish Date:Wed, 25 Nov 2020 08:24 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, हिसार : पति को धोखे से जीएसटी घोटाले में फंसाने पर महिला ने एसपी व आइजी से न्याय की गुहार लगाई। गांव भट्ठू निवासी रचना देवी ने मामले में एसपी व आइजी को शिकायत दी है।

शिकायत में उसने बताया कि उसके पति मनोज कुमार गोयल भट्टू मंडी स्थित तिरुपति बालाजी ऑयल मिल में मुनीम का काम करते थे। इस मिल के तीन मालिक हैं, जिनमें जयदेव भारद्वाज एक सरकारी अध्यापक है। यह अपनी भांजी के नाम से मिल में हिस्सेदार हैं। इसके अलावा संदीप और सुभाष भी हिस्सेदार हैं। रचना ने बताया कि 16 जून को मिल में जीएसटी टीम ने छापेमारी की थी। छापेमारी के बाद 17 जून को जीएसटी ऑफिसर अनिल बेनीवाल ने दो एफआइआर भट्टू थाना में दर्ज करवाई। एक एफआइआर एवी ट्रेडिग कंपनी के मालिक सिरसा निवासी बीर सिंह के खिलाफ और दूसरी एफआइआर यश ट्रेडिग कंपनी के मालिक सिरसा निवासी सुनील के विरुद्ध लिखवाई गई थी।

रचना देवी का आरोप है कि जो भी घोटाला हुआ है वो उपरोक्त कंपनी के मालिकों द्वारा किया गया है। उसके पति मनोज का इससे कुछ लेना-देना नहीं है। 19 सितंबर को सुबह 9 बजे प्रहलाद राय ने टीम के साथ श्री तिरुपति बालाजी ऑयल मिल में काम कर रहे मनोज को हिरासत में लिया था। 13 सितंबर को कोर्ट से दो दिन का रिमांड लेकर मनोज के साथ मारपीट की गई। इसके बाद भी उसके पति से कोई रिकवरी नहीं हुई थी।

उसके पति के पास न तो कोई प्रॉपर्टी है, न ही बैंक बैलेंस है और न कोई गाड़ी है। बैंक से लेन-देन का सारा काम जयदेव भारद्वाज की निगरानी में संदीप, सुभाष, मनोज कुमार, सुनील और राजू करते थे। जांचकर्ता ने मिल मालिकों से मिलकर साजिश के तहत मनोज कुमार की गिरफ्तारी की।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.