हिसार में सूखी ब्लू बर्ड झील में दो माह बाद आया पानी, अब नहीं होगी पानी की किल्लत

पर्यटन विभाग और जिला प्रशासन के तालमेल से अब झील को पानी की कोई किल्लत नहीं होगी। क्योंकि अभी तक एयरपोर्ट बनने के बाद सिंचाई विभाग की खाल बंद हो गई थी जिससे झील में पानी नहीं आना बिल्कुल बंद हो गया था।

Manoj KumarSun, 25 Jul 2021 02:03 PM (IST)
हिसार में ब्लू बर्ड झील में पानी आने के बाद का नजारा

जागरण संवाददाता, हिसार। ब्लू बर्ड झील में दो माह बाद पानी आ गया है। पर्यटन विभाग और जिला प्रशासन के तालमेल से अब झील को पानी की कोई किल्लत नहीं होगी। क्योंकि अभी तक एयरपोर्ट बनने के बाद सिंचाई विभाग की खाल बंद हो गई थी जिससे झील में पानी नहीं आना बिल्कुल बंद हो गया था। पानी लगातार गर्मी में हवा में उड़ता रहा तो झील का जलस्तर भी कम हो गया। ऐसे में जब दैनिक जागरण ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया तो पर्यटन विभाग के प्रबंधन निदेशक नीरज चड्ढा ने इस मामले पर एक्शन लेते हुए अधिकारियों को झील में पानी को लेकर स्थाई समाधान खोजने के आदेश दिए।

जिसके बाद अधिकारियों ने एस्टिमेट तैयार कर अब समाधान कर दिया है। सिंचाई विभाग ने झील का पानी मंजूर करके दे दिया है। जीएलएफ के अधिकारी चीफ सुप्रिटेंडेंट लालचंद रंगा व डिप्टी डायरेक्टर दयानंद शर्मा के सहयोग से नहरी पानी झील में पहुंचा। इसके साथ ही पर्यटन विभाग के एमडी ने पानी कमी के कारण ट्यूबल भी शुरू करवाया है। गौरतलब है कि ब्लू बर्ड झील का एतिहासिक महत्व है। हिसार में दर्शनीय स्थलों में इसे शामिल किया गया है।

ब्लू बर्ड में लाइट की दरकार

एक तरफ अभी तक ब्लू बर्ड की झील में पानी को लेकर समस्या चल रही थी जो दो माह बाद ठीक हुई है तो अब शहरवासी यहां लाइट लगाने की मांग कर रहे हैं। यह पर्यटन क्षेत्र काफी एतिहासिक है। ऐसे में अगर यहां लाइट की व्यवस्था हो जाए तो पर्यटकों का आना भी शुरू हो जाएगा। इसके लिए ब्लू बर्ड प्रशासन और टूरिज्म डिपार्टमेंट को जल्द ही शहर के लोग प्रार्थना पत्र लिखेंगे। झील के सौंदर्यीकरण काे लेकर पिछले कुछ दिनों में कोई विशेष कार्य नहीं हुआ है। अब नए प्रबंध निदेशक के आने के बाद झील का जीर्णोद्धार हो सकता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.