बहादुरगढ़ में दर्दनाक हादसा: छत गिरने से नीचे बंधी 5 गायों समेत 8 पशुओं की मौत

गांव खरमाण गांव में स्थित श्री कृष्ण गोधाम फार्म में आज सुबह एक फार्म की छत का लेंटर गिर गया जिसके नीचे दबने से 8 पशुओं की मौत हो गई। वहीं सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे

Manoj KumarThu, 22 Jul 2021 02:06 PM (IST)
बहादुरगढ़ के गांव में छत गिरने से नीचे दबे पशुओं को बचाने के लिए राहत कार्य में जुटे लोग

जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़। गांव खरमाण में दुल्हेड़ा रोड पर वीरवार सुबह श्रीकृष्ण गोधाम फार्म के नाम से बनाई गई डेयरी का लेंटर गिरने से आठ पशुओं की मौत हो गई जबकि दो गंभीर हो गए। लेंटर गिरते समय पशुपालक, उसकी मां और पांच-छह अन्य कामगारों ने भागकर अपनी जान बचाई।

डेयरी का लेंटर इतनी जल्द धड़ाम से गिरा कि पशुपालक अपने पशुओं को खोलकर उन्हें बाहर भी नहीं निकाल पाए। डेयरी का लेंटर गिरने की सूचना मिलते ही बीडीपीओ युद्धवीर सिंह, पुलिस व फायरब्रिगेड कर्मी मौके पर पहुंचे। दो जेसीबी मशीन व दो क्रेनों की मदद से लैंटर को काटकर उखाड़ा गया और उसके नीचे मृत पशुओं को निकाला गया। दोपहर बाद मृत पशुओं को गांव की बणी में दफना दिया गया। पशुपालक व ग्रामीणों ने प्रशासन से पानी की निकासी कराने तथा घटना को लेकर मुआवजा देने की मांग की है। इस घटना में पशुपालक को लाखों रुपये का नुकान हुआ है।

गांव खरमाण निवासी अक्षय पुत्र कृष्ण ने बताया कि उसने दुल्हेड़ा रोड अपने खेतों में श्रीकृष्ण गोधाम फार्म नाम से डेयरी कर रखी है। यहां पर वह गाय-भैंस से दूध बेचने का काम करता है। चार साल पहले उसने डेयरी बनाई थी। यहां पर हर साल बारिश के मौसम में भारी मात्रा में पानी भर जाता है। इस बार भी पानी भर गया। पानी की वजह से उनकी डेयरी की दीवारें काफी कमजोर हो गईं। जलभराव की शिकायत भी कई बार कर चुके हैं।

सुबह साढ़े सात बजे हुआ हादसा

जलभराव के कारण ही वीरवार सुबह करीब साढ़े सात बजे अचानक उनकी डेयरी का लेंटर धड़ाम से गिर गया। अक्षय ने बताया कि उस दौरान उसकी मां रेणु, छोटा भाई विनय व पांच-छह कामगार डेयरी में थे। उन्होंने सुबह देखा कि अचानक दीवारों में काफी गैप आ गया है और ये कभी भी गिर सकती हैं। ऐसे में उन्होंने एक बार पशुओं को खोलने की सोची लेकिन अचानक दीवारें और लेंटर भर-भराकर गिरने लगे। वे तुरंत डेयरी से बाहर निकले। इसी बीच पूरा लेंटर गिर गया। लेंटर के गिरने से उसके नीचे काफी संख्या में पशु दब गए। लेंटर गिरने की सूचना तुरंत गांव में आग की तरह फैल गई। ग्रामीण मौके पर पहुंचे और लेंटर को हटाकर पशुओं को निकालने की सोची लेकिन वे इसमें कामयाब नहीं हो सके।

दो जेसीबी व दो क्रेनों की मदद से चलाया रेस्क्यू

सूचना पाकर तुरंत बीडीपीओ बहादुरगढ़ युद्धवीर पुलिस व फायर ब्रिगेड के साथ मौके पर पहुंचे। दो जेसीबी व दो क्रेनों की मदद से पांच-छह घंटे तक चलाए गए रेस्क्यू अभियान में पशुओं को बाहर निकाला गया। लेंटर के नीचे दबकर पांच गाय व तीन भैंसों की मौत हुई है। दो कटड़े गंभीर हैं। अक्षय ने बताया कि उसकी डेयरी में 15-16 पशु थे। कुछ बाहर बंधे हुए थे, जो बच गए। मेरी मां, भाई व पांच-छह कामगारों ने भागकर जान बचाई है। अक्षय ने बताया कि इस घटना से उसे लाखों रुपये का नुकसान हुआ है।

जलभराव के कारण कमजोर हो गई थीं दीवारें

बहादुरगढ़ के बीडीपीओ युद्धवीर ने बताया कि खरमाण में डेयरी का लेंटर गिरने से पांच गाय व तीन भैंसों की मौत हुई है। दो कटड़े घायल हुए हैं। डेयरी के आसपास पानी होने की वजह से दीवारें कमजोर हो गई थीं। इस कारण लेंटर गिर गया। हमने दलबल के साथ मौके पर पहुंचकर राहत कार्य किया। मृत पशुओं को तुरंत लेंटर के नीचे निकाला। उनकाे दफनाया गया है। उन्होंने घटना की रिपोर्ट बनाकर एसडीएम को सौंप दी है।

हिसार की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.