Tokyo Olympics: अब हरियाणा के बॉक्‍सर अमित पंघाल और पूजा बोहरा पर टिकी पदक की आस

हरियाणा से दो ही बाक्सर अमित पंघाल और पूजा बोहरा से पदक की आस रह गई है। दो बाक्सर मनीष कौशिक और विकास कृष्णन पहले ही राउंड में हारकर बाहर हो चुके हैं। अमित पंघाल और पूजा बोहरा काफी चर्चा में बने हुए हैं।

Manoj KumarTue, 27 Jul 2021 03:50 PM (IST)
हरियाणा के दो बाक्सर मनीष कौशिक और विकास कृष्णन हो चुके हैं बाहर, पंघाल और बोहरा से उम्‍मीद

ओपी वशिष्ठ, रोहतक : टोक्यो ओलंपिक में बाक्सिंग में अब हरियाणा से दो ही बाक्सर अमित पंघाल और पूजा बोहरा से पदक की आस रह गई है। दो बाक्सर मनीष कौशिक और विकास कृष्णन पहले ही राउंड में हारकर बाहर हो चुके हैं। खास बात यह है कि अमित पंघाल के भार वर्ग में राउंड 32 के मुकाबले खत्म हो गए हैं। अब राउंड 16 के मुकाबले होंगे, जिनमें दुनिया के टाप 16 बाक्सर भिड़ेंगे। इसी तरह पूजा बोहरा भी राउंड 16 के लिए रिंग में उतरेंगी। अमित और पूजा को दो-दो मैच जीतते ही पदक पक्का हो जाएगा।

पुरूष वर्ग में दुनिया के नंबर-1 बाक्सर अमित पंघाल को पहले मैच में बाई मिल गई थी। अब 52 किग्रा भार वर्ग में 16 बाक्सर हैं, जो क्वार्टर फाइनल के लिए रिंग में उतरेंगे। अमित का मुकाबला 31 जुलाई को कोलंबिया के बाक्सर से होगा, जो 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर मेडलिस्ट है। कोलंबिया के बाक्सर रिवास के साथ अमित पंघाल को अभी तक मुकाबला नहीं हुआ है। इटली में ट्रेनिंग के दौरान जरूर दोनों के बीच प्रैक्टिस जरूर हुई है।

सेना में अमित के कोच जय पाटिल ने बताया कि इस मुकाबले में अमित के जीतने के चांस ज्यादा है। अमित का प्रदर्शन पूर्व में बेहतर रहा है। पहले अटैकिंग और बाद में डिफेंसिव अमित का मजबूत पक्ष है। अमित पंघाल ने गुरु पूर्णिमा पर अपने निजी कोच अनिल धनखड़ से भी वीडियो काल करके आशीर्वाद लिया और देश के लिए पदक जीतने का भरोसा भी दिया है। कोच अनिल धनखड़ ने उनको कुछ खास टिप्स भी मुकालबे में उतरने से पहले दिए हैं।

पूजा के दो मैच जीतते ही पदक पक्का

भिवानी की बाक्सर पूजा बोहरा पहली बार ओलिंपिक में देश का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। पूजा (75 किग्रा) का पहला मुकाबला 28 जुलाई को अल्जीरिया की इचरक चाईब से होगा। इस मैच में पूजा के जीतने के चांस ज्यादा है। पूजा के भार वर्ग में 16 ही बाक्सर हैं। इसलिए दो मैच जीतने के बाद ही पदक पक्का हो जाएगा। पूजा दो बार एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड जीत चुकी हैं, जिसमें चीन की बाक्सर को हरा चुकी है।

मनु-सौरव और यशस्वनी- अभिषेक की जोड़ी कर सकती हैं कमाल

ओलंपिक में सिंगल स्‍पर्धा में भारतीय शूटर कुछ खास नहीं कर पाए। हालांकि हरियाणा की मनु भाकर ने बेहतर प्रदर्शन किया था। लेकिन उनकी पिस्टल में तकनीकी खराब आने से लक्ष्य से चूक गई। दस मीटर एयर पिस्टल के मिक्स में दोनों जोड़ी के पदक जीतने की संभावना जताई जा रही थी मगर यहां भी निराशा ही हाथ लगी। पहले राउंड में बढ़त बनाने के बावजूद मनु और जोड़ीदार बाहर हो गए। मनु ने पिता रामकिशन भाकर से फोन पर बातचीत भी की और पहले इवेंट में पिछड़ने की कमी इस इवेंट में पूरी करने का हौसला भी दिया था। मनु का अब 25 मीटर इंवेंट में ही हाथ आजमाना बाकी रह गया है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.