सिरसा के डबवाली में जलघर की 200 फीट ऊंची पानी की टंकी पर चढ़े तीन किसान, ये हैं मांगे

डबवाली में भारत माला प्रोजेक्ट के विरोध में 3 किसान जलघर की टंकी पर चढ़े हुए हैं इनमें सतनाम सिंह सुरजीत सिंह गांव जोगीवाला से हैं जबकि राकेश भगोरिया चौटाला गांव से हैं। किसान बूस्टिंग स्‍टेशन का ताला तोड़कर जलघर की टंकी पर चढ़ गए।

Manoj KumarThu, 25 Nov 2021 02:24 PM (IST)
सिरसा में मांगो को लेकर किसान पानी की टंकी पर चढ़ गए

जागरण संवाददाता, हिसार। सिरसा के डबवाली में भारत माला प्रोजेक्ट के विरोध में 3 किसान जलघर की टंकी पर चढ़े हुए हैं इनमें सतनाम सिंह, सुरजीत सिंह गांव जोगीवाला से हैं जबकि राकेश फगोडिया चौटाला गांव से हैं। किसान बूस्टिंग स्‍टेशन का ताला तोड़कर जलघर की टंकी पर चढ़ गए। किसानों का कहना है कि उनकी सहमति के बिना भूमि अधिग्रहण किया जा रहा है और उन्हें अभी तक भूमि अधिग्रहण की एवज में मिलने वाली राशि भी जारी नहीं हुई है।

विभागीय कर्मचारियों ने उनके पानी के खाले भी नष्ट कर दिए हैं। किसानों ने आरोप लगाया कि जिला प्रशासन और उस के दम पर कब्जा कर रहा है। अगर वह हाईवे जाम करते हैं तो इससे राहगीर प्रभावित होंगे इसलिए उन्होंने शांतिपूर्वक तरीके से विरोध करने का तरीका अपनाया है। इससे पहले सुबह किसानों ने गांव जोगेवाला में धरना देने का निर्णय लिया था बाद में गुपचुप तरीके से गांव डबवाली में पहुंच गए। मौके पर शहर वाली थाना प्रभारी उपनिरीक्षक ओम प्रकाश पहुंचे हुए हैं भारी संख्या में पुलिस बल वह सीआरपीएफ जवान भी मौजूद है।

इससे पहले 60 मीटर चौडे़ अमृतसर-जामनगर एक्सप्रेस-वे के लिए जमीन का कब्जा लेने के लिए मंगलवार को प्रशासन ने गांव शेरगढ़ के समीप सरसों की खड़ी फसल पर जेसीबी चलवा दी थी। कब्जा लेने के लिए एसडीएम राजेश पूनिया, दो डयूटी मजिस्ट्रेट तहसीलदार भवनेश कुमार तथा बीडीपीओ रमेश कुमार मिठरानी, दो डीएसपी संजय कुमार तथा कुलदीप सिंह सीआरपीएफ की दो कंपनियों तथा पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर रहे। 15 जेसीबी से शेरगढ़ तथा सकताखेड़ा गांव से कब्जा कार्रवाई शुरू हुई। सकताखेड़ा गांव में किसानों ने विरोध किया। जेसीबी के आगे आए चौटाला गांव निवासी राकेश फगोडिया को हिरासत में हिरासत में ले लिया था लेकिन किसानों के विरोध के बाद उसे छोड़ दिया गया। आज वो दो किसानों के साथ फिर पानी की टंकी पर चढ़ गया।

डबवाली में 34.08 किलोमीटर है एक्सप्रेस-वे

एक्सप्रेस-वे का निर्माण भारत माला परियोजना के तहत वर्ष 2019 से हो रहा है। नेशनल हाईवे अथोरिटी आफ इंडिया (एनएचएआइ) ने वर्ष 2025 तक इसे पूरा करना है। एक्सप्रेस-वे डबवाली में राजस्थान सीमा से पंजाब सीमा तक 34.08 किलोमीटर लंबा है। एनएचएआइ अधिकारियों का दावा है कि अमृतसर से जामनगर की दूरी 1430 किलोमीटर से घटकर 1256 रह जाएगी। एक्सप्रेस वे से गुजरात की जामनगर, राजस्थान की बाडमेर तथा पंजाब की बठिंडा रिफाइनरी आपस में जुड़ जाएंगी। इससे डबवाली इलाके के युवाओं को सीधा फायदा होगा। डबवाली के नौ गांव चौटाला, सकताखेड़ा, अबूबशहर, शेरगढ़, अलीकां, डबवाली, जोगेवाला, सुकेराखेड़ा तथा आसाखेड़ा की जमीन पर कब्जा कार्रवाई होनी है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.