top menutop menutop menu

कांवड़ नहीं ला सके तो पेट के बल सीसवाल धाम पहुंचे श्रद्धालु

संवाद सहयोगी, मंडी आदमपुर : कोरोना काल में राज्य सरकारों द्वारा इस बार कांवड़ यात्रा पर प्रतिबंध लगाया गया है। आदमपुर क्षेत्र से सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु सावन के महीने में कांवड़ लेकर आते हैं। हरिद्वार से करीब 350 किलोमीटर का सफर तय कर सीसवाल धाम में गंगाजल चढ़ाते हैं। कांवड़ यात्रा बंद होने के चलते आदमपुर से अनेक श्रद्धालु पेट के बल पर सीसवाल धाम में जलाभिषेक करने पहुंचे। श्रद्धालु संदीप भादू व अमित कुमार ने बताया कि वे हर वर्ष सावन माह में अपने दोस्तों के साथ कांवड़ लाते हैं। सरकार ने ऐहतियात के तौर पर कावड़ यात्रा पर रोक लगा रखी है। इसलिए उन्होंने कावड़ की जगह पेट के बल चलकर अपने आराध्य देव के दर्शन कर जलाभिषेक करने का निर्णय लिया। आदमपुर से शनिवार शाम को वे सीसवाल धाम के लिए चले थे। सोमवार सुबह उन्होंने प्राचीन शिवलिग पर जलाभिषेक किया। इस दौरान परिवार की अनेक महिलाएं भजनों पर झूमते हुए मंदिर प्रांगण पहुंचीं। मंदिर कमेटी की ओर से प्रधान घीसाराम जैन ने श्रद्धालुओं को पटका पहनाकर सम्मानित किया। प्रधान घीसाराम जैन ने बताया कि मंदिर कमेटी की ओर से सभी श्रद्धालुओं को मास्क पहनकर आने के लिए बोला गया है। श्रद्धालु शारीरिक दूरी का पालन करते हुए मंदिर में जलाभिषेक कर रहे है। इस मौके पर सुभाष गोयल ऐलनावाद, रोहताश अग्रवाल, पटवारी भजनलाल, कृष्ण दागड़िया, नरसिंह भादू, विजेंद्र, निखिल, अनूप, विष्णु, मनोज, सुनील, पवन, रोहित, अशोक आदि मौजूद रहे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.