सर्वेयर को दो हजार रिश्वत देने वाले पर केस दर्ज करवाने को कंपनी ने मांगी लीगल राय, पार्षद प्रतिनिधि बोला- केस हुआ तो करेंगे आंदोलन

जागरण संवाददाता हिसार : निजी सर्वे कंपनी के सर्वेयर पर अवैध वसूली के मामले में एफआइआर की सिफारिश होने के बाद अब कंपनी ने दूसरे पक्ष पर केस करवाने के लिए लीगल राय मांगी है। कंपनी के एमडी संजय गुप्ता ने कहा कि सर्वे के नाम पर पैसे लेने के मामले में जब हमारा सर्वेयर गुनेहगार है तो रुपये देने वाला व्यक्ति भी तो दोषी है। उसपर भी कार्रवाई हो इसके लिए मैंने जयपुर के वकील से लीगल राय मांगी है। ऐसे में अब कंपनी भ्रष्टाचार के सुबूत देने वाले पर कार्रवाई की प्लानिग कर रही है उधर इस मामले में पार्षद प्रतिनिधि ने भी स्पष्ट कहा कि भ्रष्टाचार की पोल खोलना गुनाह नहीं बहादूरी है। यदि भ्रष्टाचार को उजागर करने वाले के खिलाफ केस दर्ज हुआ तो आंदोलन करेंगे। यदि ऐसा होता है तो शिकायतकर्ता तो मैं हूं मुझपर भ्रष्टाचार को उजागर करने का केस पहले होना चाहिए। एक तो भ्रष्टाचार ऊपर से केस का डर दिखाकर जनता को चुप करवाने वाली कंपनी के खिलाफ अब सख्त कदम उठाया जाएगा। ऐसे में अब मामला आगामी समय में ओर पेचिदा होता नजर आ रहा है।

बता दें कि शहर में प्रॉपर्टी सर्वे किया जा रहा है। सर्वे जयपुर की एक निजी एजेंसी कर रही है। कंपनी के सर्वेयर ने वार्ड-20 में एक व्यक्ति से उनकी प्रॉपर्टी के सर्वे के नाम पर दो हजार रुपये की वसूली की। व्यक्ति ने सबूत पार्षद प्रतिनिधि सुशील शर्मा को सौंपे। सुशील शर्मा ने सीडी में सबूत के साथ शिकायत मेयर व कमिश्नर को सौंपे। जिसके बाद मेयर के आदेश पर कमिश्नर ने आरोपी सर्वेयर पर पुलिस कार्रवाई के लिए लिखा। उधर कंपनी ने भी सर्वेयर का भ्रष्टाचार उजागर होते ही पुलिस कार्रवाई के लिये लिख दिया।

पार्षद प्रतिनिधि सुशील शर्मा के अनुसार शहर में एक दो नही बल्कि कई प्रॉपर्टी संचालकों को सर्वे में गड़बड़ी का डर दिखाकर सर्वेयरों ने मोटी रकम वसूली है। इनमें एक व्यक्ति ने हिम्मत की इन भ्रष्टाचारियों का सच जनता के सामने लाने का। ऐसे में ये दबंग लोग जब भ्रष्टाचार में फंसे तो अब सबूत लेकर सामने आने वालों को चुप करवाने की प्लानिग हो रही है। इस भ्रष्टाचार के पर नहीं झुकेंगे अब तो हर हाल में कंपनी और इन भ्रष्टाचारियों पर सख्त कार्रवाई के लिए मांग की जाएगी।

--------------------------------

पहले भी कंपनी सर्वेयर कर चुके हैं भ्रष्टाचार

हिसार में ही नहीं बल्कि दूसरे शहर में भी सर्वेयर की ओर से सर्वे के नाम पर भ्रष्टाचार का मामला सामने आ चुका है। अपने आप को कंपनी एमडी बताने वाले संजय गुप्ता खुद मान चुके है इस प्रकार का भ्रष्टाचार फतेहाबाद में भी सामने आया था। उस मामले में भी सर्वेयर पर पुलिस कार्रवाई हुई थी। कंपनी एमडी के अनुसार हिसार में 65 हजार प्रॉपटी का सर्वे कर चुके है।

--------------------

एक्सपर्ट व्यू :-

जब किसी व्यक्ति की मजबूरी का लाभ उठाकर उससे रिश्वत ली जाती है तो उसकी पोल खेलने वाला दोषी नहीं हो सकता है। उस पर केस करवाने का यह केवल डर दिखाने का एक तरीका है। ताकि कोई भ्रष्टाचार के खिलाफ सामने न आए। इस मामले में यदि पुलिस गहराई से जांच करती है तो कंपनी और सर्वेयर दोनों पर कार्रवाई हो सकती है।

- लाल बहादुर खोवाल, एडवोकेट, हिसार।

-------------------------------------

कंपनी सवालों के घरे में आने पर अब प्रॉपर्टी रिकार्ड दुरुस्त करने के लिए निगम लगाएगा कैंप

शहरवासियों के लिए प्रॉपर्टी संबंधी की समस्याओं का समाधान करने के लिए सोमवार को नगर निगम द्वारा विशेष कैंप का आयोजन निगम परिसर में किया जाएगा। इस कैंप में प्रॉपर्टी की शु़द्धिकरण का काम किया जाएगा। जैसे प्रॉपर्टी आइडी में नाम गलत, प्रॉपर्टी आइडी में नाम न होना, गलत प्रॉपर्टी टैक्स होना सहित अन्य प्रकार की खामियों को ठीक किया जाएगा। इसलिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में शहरवासी कैंप में पहुंच कर अपनी समस्याओं का समाधान करवाये।

-------------------

यह दस्तावेज जरूरी

प्रॉपर्टी के साथ मालिक की फोटो

प्रॉपर्टी का पूरा पता , मोबाइल नंबर सहित

स्वयं सत्यापित शपथ पत्र

प्रॉपर्टी का लोकेशन मैंप

संपत्ति अदायगी की अंतिम रसीद या पुराना गृहकर नंबर

आधार कार्ड या वोटर कार्ड, या चालक लाइसेंस या पासपोर्ट की कॉपी

वसीयत के मामले में मृत्यु प्रमाण पत्र

संपत्ति बिकने पर स्वयं सत्यापित बयानों की प्रतियां के अलावा कई अन्य दस्तावेज।

------------------------------

वर्जन :-

प्रॉपर्टी टैक्स को लेकर शहरवासियों की कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में उन समस्याओं के समाधान व शुद्धिकरण के लिए सोमवार को नगर निगम परिसर विशेष कैंप का आयोजन किया जाएगा। 25 नवंबर को सुबह दस बजे से एक बजे तक कैंप लगाया जाएगा।

- हरदीप सिंह, ईओ, नगर निगम हमारा सर्वेयर भले ही दोषी है मगर उसे पैसा देने वाला भी दोषी माना जाएगा। इसके लिए हम जयपुर के वकील से लीगल राय ले रहे हैं।

- संजय गुप्ता, एमडी, प्रॉपर्टी सर्वे कंपनी

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.