Sukanya Samriddhi Yojana: रोहतक में डाकपाल ने की ठगी, सरकारी योजना के नाम पर ठगे साढ़े 13 लाख रुपये

रोहतक में ठगी का मामला सामने आया है। जहां एक डाकपाल ने सुकन्या समृद्धि योजना के नाम पर करीब साढ़े 13 लाख के गबन किया। डाकघर रोहतक मंडल के अधीक्षक की तरफ से फरमाणा शाखा के तत्कालीन डाकपाल के खिलाफ महम थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है।

Rajesh KumarSat, 25 Sep 2021 03:36 PM (IST)
रोहतक में सुकन्या समृद्धि योजना के नाम पर 13 लाख रुपये का गबन।

जागरण संवाददाता, रोहतक। सुकन्या समृद्धि योजना के नाम पर फरमाणा स्थित डाकघर में करीब साढ़े 13 लाख के गबन का मामला सामने आया है। डाकघर रोहतक मंडल के अधीक्षक की तरफ से फरमाणा शाखा के तत्कालीन डाकपाल के खिलाफ महम थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है। पुलिस को दी गई शिकायत में डाकघर अधीक्षक डीवी सैनी ने बताया कि जींद जिले के हथवाला गांव का रहने वाला नवीन फरमाणा डाकघर में डाकपाल के पद पर तैनात था। जो अक्टूबर 2013 से जुलाई 2020 तक कार्यरत रहा। इस दौरान नवीन ने खाताधारकों से उनके द्वारा खोले गए सुकन्या समृद्धि लेखा, बचत बैंक खाता और आवर्ती जमा खातों में जमा करने करने के लिए रकम लेता रहा, लेकिन खाताधारकों के खातों में रकम जमा नहीं कराई गई।

13 लाख से ज्यादा का गबन

जांच में सामने आया कि नवीन ने करीब 13 लाख 49 हजार 700 का गबन किया है। डाकपाल नवीन फिलहाल में हिसार मंडल के उप डाकघर ऐलनाबाद में डाकिया के पद पर तैनात है। पूरे मामले की जांच के बाद इस गबन का पर्दाफाश हुआ है। शिकायत के आधार पर महम थाना पुलिस ने आरोपित के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। थाना प्रभारी इंस्पेक्टर शमशेर सिंह ने बताया कि मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। जल्दी ही आरोपित को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

पासबुक में भी दर्ज कर दी जमा राशि

डाकपाल नवीन ने इतने शातिर तरीके से यह गबन किया है कि किसी को उस समय भनक तक नहीं लगी। वह खाताधारकों से रुपये लेता रहा और यहां तक कि उनकी पासबुक में भी राशि जमा की एंट्री दर्ज कर डाकघर की मोहर लगा देता था। जिससे खाताधारकों को भी लगता रहा कि उनकी राशि खातों में जमा हो रही है। अब यह गबन सामने आने के बाद खाताधारकों में भी हड़कंप की स्थिति बनी हुई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.