अग्रोहा धाम में स्थापित है सिद्ध ज्याेर्तिलिंग, शिव भक्त करते हैं पारद और स्फटिक शिवलिंग की पूजा

अग्रोहा धाम के रामेश्वरम धाम के मुख्य पुजारी प्रवीण शास्त्री ने बताया कि सालों से सावन माह लगते ही देश विदेश के हजारों श्रद्वालु पारद और स्फटिक शिवलिंग की पूजा करने अग्रोहा धाम में आते है। पुजारी ने बताया कि धाम में स्थापित पारद और स्फटिक शिवलिंग सिद्व है

Manoj KumarSun, 25 Jul 2021 05:30 PM (IST)
सावन माह में पारद और स्फटिक ज्योर्तिलिंगों के दर्शन करने दूर-दराज के लाखों शिव भक्त धाम में आते है

संवाद सहयोगी अग्रोहा : सावन माह लगते ही शिव भक्तों में भक्तिमय माहौल बना हुआ है। शिव मंदिरों में शिव भक्तों का तांता लगना शुरू हो जाता है। सावन माह में शिव भक्त भगवान भोले नाथ को श्रद्धालु उन्हें प्रसन्न करने में जुट गए है। अग्रोहा धाम में बने रामेश्वरम धाम में स्थापित बारह ज्योर्तिलिंगों के दर्शन और पूजा अर्चना के लिए श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया है। अग्रोहा धाम में बने रामेश्वरम धाम में श्रद्धालु बारह ज्यार्तिलिंगों जिनमें सोमनाथमल्लिकार्जुन,महाकालेश्वर,ओंकारेश्वर,केदारनाथ,भीमाशंकर,काशी,विश्वनाथ,त्र्यम्बकेश्वर,वैद्यनाथ,नागेश्वर,रामेश्वर,घृष्णेश्वर के दर्शन करने आते हैं। वंही रामेश्वरम धाम में काशी के प्रकांड पंडितों द्वारा स्थापित पारद और स्फटिक शिवलिंगों की विशेष पूजा और दर्शनों के लिए शिव भक्तों में उत्साह बना रहता है।

रामेश्वर धाम की विशेषता

शिव भक्त करते हैं पारद और स्फटिक शिवलिंग की पूजा

अग्रोहा धाम के रामेश्वरम धाम के मुख्य पुजारी प्रवीण शास्त्री ने बताया कि सालों से सावन माह लगते ही देश विदेश के हजारों श्रद्वालु पारद और स्फटिक शिवलिंग की पूजा करने अग्रोहा धाम में आते है। पुजारी ने बताया कि धाम में स्थापित पारद और स्फटिक शिवलिंग सिद्व है जिनके दर्शन मात्र से ही श्रद्वालुओं की मनोकामना पूरी होती है। पारद शिवलिंग के महत्व का वर्णन ब्रह्मपुराण, शिव पुराण, उपनिषद आदि अनेक ग्रंथों में किया गया है। रुद्र संहिता के अनुसार रावण रसायन शास्त्र का ज्ञाता और तंत्र-मंत्र का विद्वान था। उसने भी रसराज पारे के शिवलिंग का निर्माण एवं पूजा-उपासना कर शिवजी को प्रसन्न किया था। पारद शिवलिंग की पूजा अर्चना करने से जीवन में सुखशांति और सौभाग्य प्राप्त होता हैं। पारद शिवलिंग से धन-धान्य, आरोग्य, पद-प्रतिष्ठा, सुख आदि भी प्राप्त होते हैं।

नवग्रहों से जो अनिष्ट प्रभाव का भय होता है, उससे मुक्ति भी पारद शिवलिंग से प्राप्त होती है। ज्योतिर्लिंग के पूजन से जितना पुण्यकाल प्राप्त होता है उतना पुण्य पारद शिवलिंग के दर्शन मात्र से मिल जाता है। पारद शिवलिंग की पूजा एंव दर्शन बहुत ही पुण्य फलदायी और सौभाग्यदायक होते हैं। वहीं स्फटिक शिवलिंग सफेद, पारदर्शी, कांच के समान चमकदार होता है। स्फटिक शिवलिंग की आराधना तथा पूजन सभी सौभाग्यों को देने वाला है। इस शिवलिंग के पूजन से दरिद्रता, शोक, रोग समाप्त हो जाती है और लक्ष्मी अपने पूर्ण स्वरूप में विराजित होती हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.