Rohtak Wonder Boy: ग्लोब ब्वाय बना 11 वर्ष का आदित्य, चुटकी में बता देता है सभी महाद्वीपों की सटीक जानकारी

रोहतक के छठी कक्षा के छात्र आदित्य को न सिर्फ सभी महाद्वीपों बल्कि उनके देशों के नाम भी याद है। मानचित्र पर इन देशों की लाकेशन भी आदित्य सेकंड में बता देते हैं। भौगोलिक रेखाओं और पड़ोसी देशों की समझ भी विकसित कर ली है।

Manoj KumarWed, 15 Sep 2021 09:03 AM (IST)
रोहतक के आदित्य की भूगोल की जानकारी को लेकर स्मरण शक्ति हैरान करने वाली है।

केएस मोबिन, रोहतक : आप विश्व के बारे में कितना जानते हैं। ज्यादा से ज्यादा सभी महाद्वीपों के नाम जानते होंगे। मानचित्र और ग्लोब पर महाद्वीपों की लाकेशन पता होगी। क्या सभी महाद्वीपों के देश के नाम आपको याद हैं। उनकी सही लाकेशन, मानचित्र पर बता पाएंगे। आपमें से ज्यादातर का जवाब होगा 'नहीं'। कुछ को ये असंभव भी लग रहा होगा। लेकिन, रोहतक के सेक्टर-14 निवासी, ग्लोब ब्वाय अादित्य राज पन्नू के लिए यह काम चुटकियों का है।

छठी कक्षा के छात्र आदित्य को न सिर्फ सभी महाद्वीपों बल्कि उनके देशों के नाम भी याद है। मानचित्र पर इन देशों की लाकेशन भी आदित्य सेकंड में बता देते हैं। भौगोलिक रेखाओं और पड़ोसी देशों की समझ भी विकसित कर ली है। आदित्य के पिता विक्रम पन्नू ने बताया कि सैटेरा वेबसाइट (भूगोल को समर्पित वेबसाइट) के आनलाइन मैप क्विज में विश्व के टाप-टेन प्रतिभागियों में बेटा जगह बना चुका है। पिता का दावा है कि इतनी कम उम्र में विश्व के मानचित्र की इतनी सही जानकारी वाले किसी और व्यक्ति की जानकारी गूगल पर भी नहीं मिली।

आदित्य की स्मरण शक्ति हैरान करने वाली है। यूनाइटेड नेशन्स के 220 देशों के नाम और उनकी मानचित्र पर लाकेशन बताने में महज कुछ मिनट का समय उसे लगता है। अादित्य को विभिन्न देशों के बारे में जानने की दिलचस्पी है। इसलिए मानचित्रों को याद करना शुरू किया। किताबों के साथ ही इंटरनेट की मदद ली।

55 सेकेंड में बता दिए अमेरिका के 50 राज्य

हमने आदित्य की प्रतिभा को परखने के लिए सैटेरा वेबसाइट पर खुद टेस्ट लिया। कंप्यूटर स्क्रीन पर नार्थ अमेरिका महाद्वीप के देश यूनाइटेड स्टेट्स (यूएस) राज्यों की लाकेशन पूछी। करीब 55 सेकेंड में आदित्य ने यूएस के सभी 50 राज्यों के नाम व लाकेशन बता दिए। जिसके बाद तत्काल अन्य देशों की लाकेशन पूछी, एक भी लाकेशन गलत नहीं हुई। टैब की स्क्रीन को जूम करके देशों के नाम पूछने पर भी किसी प्रकार की समस्या आदित्य को नहीं हुई।

राजधानी की लाकेश याद कर रहे आदित्य

आदित्य के पिता विक्रम ने बताया कि बेटा अब प्रत्येक देश की राजधानी के नाम व मानचित्र पर लाकेशन याद कर रहा है। वह इस पर काम शुरू कर चुका है। पिता ने बताया कि उन्होंने आदित्य को किसी प्रकार का लक्ष्य नहीं दिया है। वह खुद ही विश्व के बारे में जानना चाहता है। सैटेरा वेबसाइट या एप पर मानचित्र की समझ विकसित करने पर भी उसकी खुद की मेहनत है। पढ़ाई में अपने बेटे की मदद मां निशा करती हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.