Research: एमडीयू की शोधार्थी की रिसर्च, कोरोना से मार्च 2020 तक सहम गई थी दुनिया की 70 फीसद आबादी

एमडीयू की शोधार्थी संगीता रानी ने कोरोना वायरस को लेकर रिसर्च की है। उन्होंने ट्वीटर पर लोगों की प्रतिक्रियाओं का सेंटीमेंटल एनालिसिस किया है। ये रिसर्च चीन भारत अमेरिका सहित 10 देशों के नागरिकों के 1-7 मार्च 2020 तक के ट्वीट पर की गई स्टडी पर है।

Rajesh KumarSat, 11 Sep 2021 05:01 PM (IST)
हरियाणा की एमडीयू की शोधार्थी ने की रिसर्च, ट्वीटर पर लोगों की प्रतिक्रियाओं का किया सेंटीमेंटल एनालिसिस।

रोहतक(केएस मोबिन)। कोविड-19 के महामारी घोषित होने से पहले ही दुनिया की 70 फीसद से भी अधिक आबादी इस जानलेवा वायरस से डर गई थी। चीन में वायरस के आउटब्रेक के बाद जैसे ही अन्य देशों में संक्रमित मरीज पाए जाने लगे तो लोगों में भय का माहौल विकसित होने लगा था। सोशल मीडिया साइट्स पर भी कोरोना वायरस को लेकर अपना डर यूजर्स जाहिर कर रहे थे। मार्च 2020 तक दुनिया के ज्यादातर देशों के अाम नागरिकों में भी कोरोना वायरस को लेकर चर्चाएं शुरू हो गई थी।  

एमडीयू की शोधार्थी संगीता रानी ने की रिसर्च

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू) की शोधार्थी संगीता रानी की एक रिसर्च में यह तथ्य सामने आया है। सोशल मीडिया साइट ट्वीटर पर मार्च 2020 के पहले सप्ताह में कोरोना वायरस को लेकर की गई लोगों की प्रतिक्रियाओं पर शोधार्थी ने स्टडी की। जिसमें सामने आया कि कोरोना वायरस के आने से ज्यादातर लोगों में नकारात्मकता का भाव आ गया था। विश्व के 10 सबसे प्रभावित शहरों के नागरिकों के ट्वीट का सेंटीमेंटल एनालिसिस किया । चीन, इटली, ईरान, साउथ कोरिया, जर्मनी, फ्रांस, अमेरिका, जापान, स्विट्जरलैंड और भारत के दिल्ली, ग्रेटर नोएडा, मुंबई, चेन्नई, असम और केरल के थ्रिसूर के नागरिकों के ट्वीट शोध के लिए डाउनलोड किए। शोधार्थी का रिसर्च आर्टिकल इंटरनेशनल जर्नल ऑफ एडवांस साइंस एंड टेक्नोलाजी में भी प्रकाशित हो चुका है। 

वुहान के 81, ग्रेटर नोएडा में 73 फीसद यूजर्स के ट्वीट रहे नेगेटिव

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 11 मार्च 2020 को कोविड-19 को महामारी घोषित कर दिया था। ट्वीटर पर कोरोना वायरस की-वर्ड के साथ किए गए ट्वीट की स्टडी में सामने आया कि मार्च के पहले सप्ताह में चीन के वुहान शहर के 81.4 फीसद लोगों को वायरस ने भयभीत कर दिया था। ट्वीटर पर इन लोगों की प्रतिक्रियाएं वायरस को लेकर नेगेटिव थी। अमेरिका के 80.3 और ईरान के 79.4 फीसद लोगों के ट्वीट में नेगेटिविटी रही। भारत के ग्रेटर नोएडा में इस समय अवधि तक 73.9 और दिल्ली में 73.5 फीसद यूजर्स ने ट्वीटर पर नेगेटिव प्रतिक्रियाएं दी थीं।   

विश्व के दस सबसे प्रभावित शहरों में ट्वीट के सेंटिमेंट्ल एनालिसिस में यह तथ्य आए सामने

शहर/ देश नेगेटिव प्रतिक्रिया वाले ट्वीट (फीसद में)

बीजिंग, चीन 79.1

वुहान, चीन 81.4

विनेटो, इटली 70.1

कोडोगनो, इटली, 65.5

ईरान         79.4

अन्याग, साउथ कोरिया 74.4

साउथवेस्ट, जर्मनी 69.9

पेरिस, फ्रांस 75.2

अमेरिका 80.3

जापान 73.3

स्विट्जरलैंड 74.3

दिल्ली, भारत 74.3

भारत में असम में सबसे कम व ग्रेटर नोएडा में सबसे ज्यादा रही नकारात्मक प्रतिक्रियाएं

शहर/ राज्य नेगेटिव प्रतिक्रिया वाले ट्वीट (फीसद में)

ग्रेटर नोएडा 73.9

मुंबई 70.2

दिल्ली 73.5

चेन्नई 69.9

असम 68.0

थ्रिसूर, केरल 71.2

वुहान, बीजिंग और जापान को छोड़ प्रत्येक शहर के 1000 ट्वीट पर की स्टडी

प्रत्येक शहर की 200 मील की दूरी में किए गए एक हजार ट्वीट को डाउनलोड किया गया। चीन और जापान के शहरों में ट्वीटर के कम उपयोग होने के कारण ट्वीट की संख्या भी कम रही। वुहान शहर के 250, बीजिंग के 150 और जापान के 57 ट्वीट ही शामिल किए गए। कुल 9457 ट्वीट का सेंटीमेंटल एनालेसिस किया गया। 

सेंटीमेंटल स्कोर के लिए डिक्सशनरी बेस्ड सेंटीमेंटल क्लासिफायर का किया प्रयोग

ट्वीट के सेंटीमेंटल स्कोर की गणना के लिए डाउनलोड करने के बाद प्रत्येक ट्वीट की प्री-प्रोसेसिंग की गई। सिर्फ अंग्रेजी भाषा के ट्वीट ही शामिल किए गए। प्री-प्रोसेसिंग में यूआरएल, रि-ट्वीट और अन्य गैर-जरूरी संकेतों को हटाया गया। ट्वीट के प्रत्येक शब्द का सेंटीमेंट एनालिसिस के बाद स्कोर दिया गया। 

वुहान में सबसे कम नेगेटिव प्रतिक्रियाएं आई

एमडीयू रोहतक में कंप्यूटर साइंस विभाग की शोधार्थी संगीता रानी चीन और जापान में ट्वीटर पर यूजर कम होने की वजह से सैंपल साइज कम रहा। वहीं अन्य शहरों में एक हजार रेंडम ट्वीट डाउनलोड किए। प्रत्येक शब्द के लिए सेंटीमेंटल एनालेसिसि के बाद स्कोर दिया गया। डिटेल्ड स्टडी में वुहान में सबसे ज्यादा और असम में सबसे कम नेगेटिव प्रतिक्रियाएं ट्वीटर पर की गई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.