दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

किसान आंदोलन : दुष्‍कर्म मामले में पुलिस ने संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े संगठन के दो किसान नेताओं से की पूछताछ

किसान आंदोलन में आई पश्चिम बंगाल की युवती से दुष्‍कर्म होने के मामले में पुलिस पूछताछ में जुटी है

पश्चिम बंगाल की युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में जांच तेजी से आगे बढ़ रही है। पुलिस ने बुधवार को संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े संगठन के दो किसान नेताओं पूछताछ की है। किसान नेता राजेन्द्र और किसान नेत्री जसबीर कौर से पूछताछ हुई है।

Manoj KumarWed, 12 May 2021 03:45 PM (IST)

बहादुरगढ़, जेएनएन। टिकरी बॉर्डर मोर्चे पर आई पश्चिम बंगाल की युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में जांच तेजी से आगे बढ़ रही है। पुलिस ने बुधवार को संयुक्त किसान मोर्चा से जुड़े संगठन के दो किसान नेताओं पूछताछ की है। किसान नेता राजेन्द्र और किसान नेत्री जसबीर कौर से पूछताछ हुई है। जसबीर कौर ने बताया एक आरोपित महिला ने उसे बताया था कि पीड़िता के साथ छेड़खानी हुई है। पीड़िता ने भी उपचार के दौरान बताया था कि अनिल मलिक ने छेड़खानी की है। पुलिस पूछताछ में किसान नेत्री जसबीर कौर ने बताया कि आरोपित महिला योगिता अपना अलग संगठन बनाकर संयुक्त किसान मोर्चा से भी जुड़ना चाह रही थी।

बता दें कि माममे में कुछ छह आरोपितों में शामिल दो महिलाओं मे से एक आरोपित महिला ने पुलिस पूछताछ में बंगाल की युवती से छेड़खानी होने की जानकारी किसान नेता राजेन्द्र और जसबीर कौर को होने की बात कही थी। अब जसबीर कौर का इस घटना के बारे में बताने से यह बात साफ हो चुकी है।

उधर आरोपित हिसार निवासी और आप नेता अनूप चनौत के पक्ष में दुहन खाप से जुड़े और आरोपित से जुड़े परिजन टिकरी बॉर्डर पहुंचे। टिकरी बॉर्डर के किसान नेताओ से भी मुलाकात की। मुलाकात के बाद भी पूछने पर मुलाकात होने से किसान नेता जोगेन्दर नैन इनकार करते रहे। आरोपित अनूप के वीडियो जारी करने पर जोगेन्दर नैन ने कहा कि जब तक वो पुलिस गिरफ्त से बाहर है कुछ भी कहता रहे वो स्वतंत्र है। जोगेन्दर नैन ने कहा कि टिकरी बॉर्डर कमेटी पीड़िता के पिता के साथ शुरुआत से खड़ी है और हमेशा खड़ी रहेगी।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान बीजेपी के खिलाफ प्रचार करने के गए आप नेता और दो युवतियों के संग एक पश्चिम बंगाल की 24 वर्षीय युवती भी टिकरी बॉर्डर पर पहुंची थी। ट्रेन से वापस लौटते वक्‍त ही उससे छेड़छाड़ हो गई। मगर वह चुप रही। मगर टिकरी बॉर्डर पर रहने के दौरान युवती ने एक वीडियो अपने पिता को भेजा और उसमें कहा कि उसके साथ खराब काम हुआ है। इसके बाद युवती को रक्‍तस्राव भी हो गया। मगर इसे माहवारी मान लिया गया। युवती फिर कोरोना से संक्रमित हो गई और इलाज के दौरान करीब दस दिन पहले उसने दम तोड़ दिया। किसानों ने कोरोना संक्रमित इस युवती के शव की शव यात्रा भी निकाली। कोरोना से किसाना आंदोलन में होने वाले यह पहली मौत थी।

युवती के पिता और माता बंगाल से टिकरी बॉर्डर लौटे और इस सबंध में किसान नेताओं से बात की। बात नीचे ही नीचे चलती रही मगर उपर नहीं आई। किसान संयुक्‍त मोर्चा भी इस बात के बारे में जान गया तो किसान नेता योगेंद्र यादव तक भी बात पहुंची। आखिर में पीडि़त युवती के पिता पुलिस के पास पहुंचे और दो दिन पहले चार युवकों पर दुष्‍कर्म समेत दो युवतियों पर अन्‍य धाराओं में केस दर्ज करवाया गया।

हिसार निवासी आप नेता अनूप चानौत ने भी एक वीडियो जारी की और खुद को निर्दोष बताया और दोषी पाए जाने पर जूतों से पिटाई करने की बात कही। पश्चिम बंगाल की युवती से दुष्कर्म समेत विभिन्न धाराओं में छह लोगों पर केस दर्ज किया गया है। इनमे चार किसान नेता और दो आंदोलन से जुड़ी महिला वॉलंटियर शामिल हैं। आरोपित किसान सोशल आर्मी से जुड़े हैं। आरोपितों की पहचान अनिल मालिक, अनूप सिंह, अंकुश सांगवान, जगदीश बराड़, और कविता, योगिता दो युवतियों के रूप में हुई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.