कनपटी पर पिस्तौल रखकर बदमाशों ने पीटा, पत्नी के कान की बालियां छीनी, झज्‍जर के गांव में खौफ

डीएसपी नरेश कुमार की अगुवाई में पुलिस टीम ने किया मौका मुआयना, दिया आश्वासन

सुरेंद्र किन्हा ने बताया कि रात के इस मंजर को ताउम्र नहीं भुला पाएंगे। 10 से अधिक संख्या में पहुंचे बदमाशों ने किसी भी तरह से संभलने का मौका नहीं दिया। इधर दिन निकलने के बाद डीएसपी नरेश कुमार की अगुवाई में पुलिस ने गांव में मौका मुआयना किया

Manoj KumarMon, 12 Apr 2021 12:50 PM (IST)

झज्‍जर/माछरोली, जेएनएन। बदमाशों ने कनपटी पर पिस्तौल रखी हुई थी। साथ में वे मुझे पीट भी रहे थे। विरोध करता तो शायद गोली ही चला देते। इसीलिए, मैं मार खाता रहा। कारण कि रात के समय में फायर की आवाज सुनकर घर से बाहर आया था तो मेरे साथ ऐसा व्यवहार हुआ। पत्नी और बेटी बाहर आई तो दोनों के कानों की बालियां छीन ले गए। रविवार की रात एक से तीन बजे तक करीब दो घंटे गांव में चोरी के इरादे से आए बदमाशों ने अपनी खूब दबंगई दिखाईं। चार घरों में चोरी का प्रयास किया। जहां पर भी किसी तरह का विरोध हुआ। वहां आवाज को दबाने के लिए मारपिटाई की और दहशत फैलाने के लिए फायरिंग की।

इन्हीं पीड़ितों में से एक किसान सुरेंद्र किन्हा ने बताया कि रात के इस मंजर को ताउम्र नहीं भुला पाएंगे। 10 से अधिक संख्या में पहुंचे बदमाशों ने किसी भी तरह से संभलने का मौका नहीं दिया। इधर, दिन निकलने के बाद डीएसपी नरेश कुमार की अगुवाई में पुलिस की विभिन्न टीमों ने गांव में मौका मुआयना करते हुए तथ्य जुटाएं हैं। एफएसएल की टीम भी जांच में जुटी है। घटना के बाद से ग्रामीणों में भारी रोष है। ग्रामीणों का गुस्सा जांच के लिए पहुंची पुलिस टीम के समक्ष भी दिखाई दिया। जिस पर डीएसपी ने आश्वस्त करते हुए कहा कि आरोपित शीघ्र ही पुलिस की जद में होंगे। किसी भी स्तर पर दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा।

चोर नहीं लुटेरे बनकर आए बदमाश, खूब फैलाई दहशत

गांव माछरोली में रविवार की रात की घटना के बाद से दहशत का माहौल है। घटना पूरे गांव में चर्चा का विषय बनी हुई है। पुलिस की गाड़ियां गांव में दौड़ रही हैं। ग्रामीण बता रहे है कि वे चोर नहीं लुटेरे बनकर आए थे। जो-जैसा भी मन में आया। वैसा ही दुव्र्यवहार उन्होंने किया। ग्रामीण मंजीत पुत्र भूप सिंह के घर में घुसकर करीब 25 हजार रुपये नगद, एक चांदी की पांजेब और मंगलसूत्र साथ ले गए है। मंजीत के मुताबिक वह अपने चौबारे पर सो रहा था। रात को जब उठा तो देखा कि बाहर का दरवाजा खुला हुआ है। नीचे उतरा तो पाया कि चोर अंदर घुसे हुए है। एक ने पिस्तौल दिखाते हुए फायर कर दिया। जिससे वह बाल-बाल बचा। लाठी उठाई तो हाथापाई की नौबत आ गई। शोर मचाया तो वे भाग निकलें। किसी तरह से अपनी जान बचाईं।

- ग्रामीण भूपेंद्र पुत्र सुंदर ने बताया कि वह अपने पुराने मकान में सो रहे थे। नया मकान जो बंद था। वहां का ताला तोड़कर चोर कुछ सामान चोरी कर ले गए है। ग्रामीण कृष्ण पुत्र मंगतू के घर में घुसते हुए चोरों ने उनकी पत्नी कृष्णा के कानों की बालियां और गले में पहना हुआ हार भी ले गए। जबकि, परिवार के अन्य सदस्य दूसरे कमरे में सोए हुए थे, उन्हें बाहर से बंद कर दिया। विरोध करने पर घर की रसोई में ही रखे चाकू को दिखाकर डराया।

पीड़ित सुरेंद्र किन्हा की बेटी ने बताया कि उन्होंने रात के समय में पुलिस को कॉल किया था। मदद के लिए  फोन करने पर जवाब मिला कि अगर फायर की बात झूठ पाई तो उन्हीं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जिस पर वह काफी नाराज दिखीं। कहना था कि रात के समय में जरुरत पर ही फोन किया जाता है। इस बात को उन्होंने डीएसपी के समक्ष भी उठाया। इधर, डीएसपी ने गांव में ठीकरी पहरा लगाए जाने के आदेश दिए हैं। साथ ही ग्रामीणों की मांग पर एक विशेष टीक की तैनाती किए जाने की बात भी कही।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.