फूलों की खुशबू से महकी जीजेयू, युवाओं ने बांधा समां

फूलों की खुशबू से महकी जीजेयू, युवाओं ने बांधा समां

जागरण संवाददाता हिसार जीजेयू के हरियाणा स्कूल ऑफ बिजनेस विभाग के सामने का पार्क मंगल

JagranWed, 03 Mar 2021 06:20 AM (IST)

जागरण संवाददाता, हिसार : जीजेयू के हरियाणा स्कूल ऑफ बिजनेस विभाग के सामने का पार्क मंगलवार को फूलों की खुशबू से महक उठा। फूलों की खुशबू के साथ पंजाबी, हरियाणवी गानों पर थिरकते युवाओं ने मौसम को खुशमिजाज बना दिया। मौका था गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के बागवानी विभाग की तरफ से आयोजित किए गए 8वें पुष्प उत्सव का। पुष्प उत्सव में रंग-बिरंगे, औषधिजनक, खुशबू और साज सज्जा वाले पौधों के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान नए पुराने गानों पर थिरकते हुए युवाओं ने समां बांध दिया। खाने की स्टाल पर स्वादिष्ट व्यंजनों का लुत्फ भी युवाओं ने उठाया। हालांकि पुष्प उत्सव में कई प्रतिभागियों ने परिणाम पर सवाल भी उठाए। विवि कुलपति प्रो. टंकेश्वर कुमार समापन समारोह के मुख्यातिथि थे। पुष्प उत्सव का उद्घाटन विश्वविद्यालय के कुलसचिव डा. अवनीश वर्मा ने किया।

----------------------

मेडिसिन प्लांट और इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फूल-पौधे जैसे एलोवीरा, अश्वगंधा, गिलोय सहित अन्य औषधि बनाने वाले पौधों को भी पुष्प मेले में शामिल किया गया। वहीं कोरोना गाइडलाइन का भी पालन किया गया। इनमें खुशबू वाले पौधों में गुलाब, गेंदा, सुरजमुखी, आईस प्लांट, साइनेरिया, कैलेनडूला, डॉग फ्लावर आदि प्रमुख है। वहीं यहां कई वर्ष पुराने पौधों की प्रजातियां भी देखने को मिली।

--------------------

वेस्ट मटीरियल से सजावटी मटीरियल भी देखने को मिली

पुष्प उत्सव में वेस्ट मेटिरियल को सजावट करने के लिए इस्तेमाल किया गया था। रिसाइकिल किए हुए प्रोड्क्ट को पुष्प उत्सव के लिए तैयार किया गया है। वाहनों के पुराने टायरों पर पेंटकर सजाया गया है। ऐसे में पुष्प उत्सव में ये रिसाइकिल टायर आकर्षण का केंद्र जरूर होंगे। इसके अलावा जिस पार्क में फूलों की किस्मों को रखा जाना है। उसे भी लकड़ियों को पेंट कर सजाया गया है। इससे भी पुष्प उत्सव की शोभा बढ़ने वाली है।

---------------------

कुलपति ने कहा पुष्प उत्सव विश्वविद्यालय का गौरवपूर्ण आयोजन

कुलपति प्रो. टंकेश्वर कुमार ने कहा कि पुष्प उत्सव विश्वविद्यालय का गौरवपूर्ण आयोजन है। इस पुष्प उत्सव से विश्वविद्यालय में सकारात्मक ऊर्जा का संचार हुआ है। कोविड-19 जैसी महामारी से उत्पन्न परिस्थितियों ने पुष्प उत्सव के महत्व को और अधिक बढ़ा दिया है। उन्होंने कहा कि पुष्प प्रकृति का अतुलनीय उपहार हैं। हमें इनका आनंद लेना चाहिए। पर्यावरण सुरक्षा में भी पुष्पों का बहुत अधिक महत्व है। कुलसचिव डा. अवनीश वर्मा ने कहा कि पुष्प उत्सव ने विश्वविद्यालय में उत्साह भर दिया है।

-----------------

72 प्रतिभागियों की 703 प्रस्तुतियां आई

कार्यकारी अभियन्ता सुनील ग्रोवर ने बताया कि पुष्प उत्सव में तीन वर्गों में 48 उपवर्ग थे जिसमें 72 प्रतिभागियों की कुल 702 प्रस्तुतियां आई। निर्णायक की भूमिका डा. बीएस बेनीवाल, डा. ममता दिलबागी, प्रो. शबनम सक्सेना, नीरू वासुदेवा व डा. सोनू कुमारी ने निभाई। इस अवसर पर सलाहकार लैंडस्केप पाला राम उपस्थित रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.