एमडीयू रोहतक में होगा रंग महोत्सव, बसंत के स्वागत की हो रहीं खास तैयारियां

महोत्सव के तहत होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों के लिए जल्द ही टीम का गठन कर जिम्मेदारी सौंप दी जाएगी।

कोविड-19 के चलते विश्वविद्यालय में यूथ फेस्टिवल रद करना पड़ा था। विश्वविद्यालय में गत वर्ष पहली बार लोक विधाओं को समर्पित रंग महोत्सव कराया गया था। इस बार महोत्सव के लिए 40 लाख का बजट स्वीकृत किया गया है। हालांकि अभी शेड्यूल घोषित नहीं किया गया है।

Umesh KdhyaniSat, 27 Feb 2021 03:56 PM (IST)

रोहतक, जेएनएन। महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू) में एक बार फिर खास अंदाज में बसंत ऋतु का स्वागत किया जाएगा। कुलपति प्रो. राजबीर सिंह की पहल पर गत वर्ष शुरू किए गए रंग महोत्सव का आयोजन इस बार भी होगा। विश्वविद्यालय की युवा कल्याण समिति की बैठक में आयोजन पर मुहर लगी। फिलहाल शेड्यूल तय नहीं किया गया है। लेकिन, बजट पास कर दिया गया है। कुलपति के दिशा-निर्देश पर तैयारियां भी शुरू कर दी गई हैं। 

विद्यार्थी कल्याण कार्यालय के डीन प्रो. राजकुमार ने बताया कि 40 लाख रुपये का बजट महोत्सव के लिए तय किया गया है। यूथ फेस्टीवल नहीं होने से विद्यार्थियों में निराशा थी, रंग महोत्सव में विद्यार्थियों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा। महोत्सव के तहत होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों के लिए जल्द ही टीम का गठन कर जिम्मेदारी सौंप दी जाएगी। बता दें कि वर्ष 2020 में एमडीयू में बसंत ऋतु को समर्पित सात दिवसीय रंग महोत्सव का आयोजन पहली बार किया गया था। 29 फरवरी से छह मार्च 2020 तक चले महोत्सव की सराहना बाहरी दर्शकों ने भी की। 

लोक संस्कृति से रूबरू होगी युवा पीढ़ी

प्रो. राजकुमार ने बताया कि महोत्सव में रंग बहार, रंग सृजन, रंग सुर, रंग कलम, रंग रास, रंग व्यंजन अौर रंग तरंग उत्सव का समागम देखने को मिलेगा। प्रत्येक दिन बसंत के विविध रंग और लोग संस्कृति से युवा पीढ़ी रूबरू होगी। प्रत्येक उत्सव एक विशेष विधा को समर्पित रहेगा। गत वर्ष हुए महोत्सव में रंग बहार कार्यक्रम के तहत हुए फ्लावर शो विशेष रूप से सराहना मिली थी। विद्यार्थियों और प्रदेशभर से जुटे प्रतिभागियों व दर्शकों ने लोक संस्कृति और हरियाणवी धरोहर को नजदीक से अनुभव किया। फ्लावर शो, पेंटिंग वर्कशॉप, लिटरेरी, थियेटर, संगीत और फॉक फेस्ट थीम का फ्यूजन रंग महोत्सव में दिखेगा।  

विवि में हर तरफ खिले रंग-बिरंगे फूल

एमडीयू परिसर में हर तरफ रंगों को महसूस किया जा सकता है। गेट नंबर एक व दो से प्रवेश करने पर फूलों की महक स्वागत करती है। गेट नंबर एक पर स्वामी दयानंद सरस्वती चौक से यज्ञशाला तक सर्कल, डिवाइडर और फुटपाथ पर फूल खिले हुए हैं। यज्ञशाला से खेल विभाग और गर्ल्ज हॉस्टल दोनों ओर फूलों की सेज दिखाई पड़ती है। इसी तरह गेट नंबर दो से गर्ल्ज हॉस्टल तक फूल खिले हैं। इसकी बीच पड़ने वाले रोज गार्डन में विभिन्न तरह के गुलाब के फूल मन को प्रसन्न कर देते हैं। 

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.