किरण चौधरी बोलीं- हरियाणा में कोरोना के नाम पर हुआ है करोड़ों का घोटाला, RTI सबूत

किरण चौधरी ने कोराेना मरीजों पर दिखाए गए खर्च को लेकर सवाल खड़े किए हैं
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 07:58 PM (IST) Author: Manoj Kumar

भिवानी, जेएनएन। कोरोना को लेकर भी विपक्षी पार्टियों के नेताओं के खूब बयान आ रहे हैं। अब कांग्रेस विधायक एवं पूर्व मंत्री किरण चौधरी ने आरटीआइ के द्वारा मिली जानकारी के अनुसार कोरोना पर 345 करोड़ के खर्च पर सवाल उठाते हुए इसमें बड़ा घोटाला होने की आशंका जताई है। आरटीआइ के अनुसार प्रदेश सरकार ने करोड़ों रुपये खर्च होने की बात कही है जो प्रति मरीज 26355 रुपए होता हैं।

किरण ने कहा कि कोरोना संक्रमण के बाद ठीक हुए मरीजों से बात करने पर पता चला कि उन्हें दवाई के नाम पर 100-200 रुपए की दवाई देकर आइसोलेशन में रखा गया था। इसके साथ 4500 रुपए कोरोना टेस्ट को जोड़ दिया जाए तो 5000 रुपए भी खर्च नहीं होता तो फिर 26355 रुपए किस आधार पर एक मरीज के ऊपर खर्च कर दिया गया। उन्होंने कहा कि कोरोना के नाम पर खर्च पर आशंका का कारण यह भी है कि कोरोना से संक्रमित हुए ज्यादातर मरीजों को उनके घर पर ही आइसोलेट किया गया है।

किरण ने कहा कि गठबंधन सरकार घोटालों की पर्याय बन चुकी है। कोरोना की आड़ में घोटाले पर घोटाले किए जा रहे हैं और पूरी तरह लूट मचा रखी है। उन्होंने कहा कि कोरोना की आड़ में शराब घोटाला, धान घोटाला, रजिस्ट्री घोटाला करने वाली भाजपा-जजपा सरकार के नाम कोरोना घोटाला ओर जुडऩे जा रहा है। किरण ने सरकार से मांग करी है कि कोरोना के नाम पर हुए खर्च की निष्पक्ष जांच करवाई जाए और सच्चाई सामने लाई जाए।

वहीं किरण चौधरी ने किसान हमारे अन्नदाता हैं और भाजपा सरकार किसानों को पूंजीपतियों के हाथों बेचने के लिए काला कानून लेकर आई है। हरियाणा की गठबंधन सरकार किसानों की आवाज सुनने की बजाए पूंजीपतियों के आगे किसानों को झुकाने के लिए किसानों पर लाठीचार्ज कर रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.