आइआइएम रोहतक की सराहनीय पहल, जम्मू-कश्मीर के भविष्य की 64 महिला उद्यमी तैयार

राजनीतिक अस्थिरता से गुजर रहे कश्मीर के लोग अब इससे उबर रहे हैं। आइआइएम रोहतक ने कश्मीर की छात्राओं के लिए उज्जवल भविष्य के द्वार खोलते हुए मिसाल कायम की है। 64 छात्राओं को रेजिडेंशल इंटर्नशिप में मैनेजमेंट स्किल सिखाए गए।

Umesh KdhyaniSat, 12 Jun 2021 02:45 PM (IST)
जेएंडके की 64 छात्राएं इंटर्नशिप के लिए चुनी गई थीं। दो माह रोहतक कैंपस में प्रशिक्षण लिया।

रोहतक [केएस मोबिन]। जम्मू और कश्मीर (जेएंडके) में पिछले कुछ वर्षों की राजनीतिक हलचल से भले क्षेत्र के नागरिकों को थोड़ी परेशानी हुई। लेकिन, इससे तेजी से उबर रहे हैं। इसका ताजा उदाहरण भारतीय प्रबंधन संस्थान (आइआइएम) रोहतक में जेएंडके की 64 छात्राओं की इंटर्नशिप है। संस्थान के रोहतक कैंपस में छात्राओं ने दो माह की रेजिडेंशल इंटर्नशिप हाल ही में पूरी की है। इस दौरान आइआइएम की हाइली क्वालीफाइड फैकल्टी एवं एक्सपर्ट स्पीकर की देखरेख में छात्राओं को प्रशिक्षित किया गया। विशेष रूप से आंत्रप्रिन्योर एवं मैनेजमेंट स्किल छात्राओं को सीखाई गई।

महिला सशक्तिकरण के मद्देनजर आइआइएम रोहतक ने जेएंडके की छात्राओं के लिए यह पहल की थी। इसके तहत केंद्रशासित प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में इंटर्नशिप के लिए आवेदन मांगे गए। आइआइएम की इस इंटर्नशिप के लिए 350 छात्राओं के आवेदन आए, 64 का चयन हुआ। चयनित छात्राओं को आइआइएम रोहतक के कैंपस में छह से आठ सप्ताह का समय बिताने का अवसर दिया। छात्राओं को बिजनेस मैनेजमेंट एवं आंत्रप्रिन्योर की बारीकियां सीखाई गईं। बिजनेस अंडरस्टेंडिंग एवं निर्णय लेने की क्षमता संवर्धन के लिए क्लासरूम सेशन, एक्सपर्ट स्पीकर सेशन, प्रोजेक्ट वर्क, वाद-विवाद, असाइंमेंट आदि गतिविधियां इंटर्नशिप के दौरान कराई गई। एक ट्रेनी छात्रा ने अनुभव साझा करते हुए कहा कि आइआइएम रोहतक का इंफ्रास्ट्रक्चर शानदार है। यहां की शिक्षण पद्धति, फैकल्टी शानदार है। इंटर्नशिप ने असुविधा और चुनौतियों के साथ अधिक सहज बनने में मदद की है।

छात्राओं ने सीखा कैसे जुटाएं नए बिजनेस के लिए संसाधन

जेएंडके की ट्रेनी छात्राओं ने नया बिजनेस शुरू करने से लेकर प्राफिट मेकिंग तक के गुर एक्सपर्ट फैकल्टी से सीखे। बिजनेस के लिए लोन लेने की प्रक्रिया, संसाधनों के सही इस्तेमाल, बिजनेस प्लान बनाने, बिजनेस कानूनों की समझ, स्टार्ट अप लांच करने की प्रक्रिया आदि के लिए छात्राओं को प्रशिक्षण दिया गया। क्लासरूम सेशन में प्रतिष्ठित बैंक अधिकारियों एवं अन्य विशेषज्ञों से इंडस्ट्री के चैलेंज एवं उनसे निपटने के बारे में जाना।

94 फीसद ने प्रोफेशनल कोर्स करने की जताई इच्छा

आइआइएम रोहतक में इंटर्नशिप करने वाली छात्राओं में 94 फीसद ने प्रोफेशनल करियर आप्शन चुनने की इच्छा जताई है। किसी मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट से पीएचडी करने के लिए 60 फीसद आगामी नेट (नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट) में शिरकत करेंगे। लगभग सभी इंटर्न ने आइआइएम रोहतक से उच्च शिक्षा ग्रहण करने की इच्छा जाहिर की।

जम्मू-कश्मीर के भविष्य की नींव रखेंगी छात्राएं

आइआइएम रोहतक के निदेशक प्रो. धीरज शर्मा ने कहा कि संस्थान में इंटर्नशिप करने वाली यह छात्राएं जम्मू एंव कश्मीर के भविष्य की नींव रखेंगी। मैं छात्राओं के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। भविष्य की महिला उद्यमी बनकर यह उभरेंगी। जोकि, जम्मू एवं कश्मीर में विकास पथ को बढ़ावा देंगी।

हिसार की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.