विशेषज्ञों की सलाह : एसी व दूसरे घरेलू सामान से भी बढ़ रहा प्रदूषण, जिंदगी बचानी है तो घर में लगाएं पौधे

कोरोना काल में एचएयू विशेषज्ञ बीआर कंबोज दे रहे घरों में पौधे लगाने की सलाह, ताकि हवा रहे प्रदूषण मुक्त

हम फिजूल खर्च और शानो-शौकत पर काफी पैसा खर्च करते हैं लेकिन घर में स्वच्छ हवा मिले ऐसे इंडोर प्लांट लगाने के बारे में आम लोग कम ही सोचते हैं। बंगलों और कोठियों में इंडोर प्लांट देखने को मिलते हैं लेकिन अब हर व्यक्ति को लगाने चाहिए।

Manoj KumarWed, 12 May 2021 01:24 PM (IST)

हिसार [गौरव त्रिपाठी] कोरोना महामारी में ऑक्सीजन की कमी से संक्रमित मरीजों की सांसों की डोर टूट रही है। अपनों की जिंदगी बचाने के लिए ऑक्सीजन के इंतजार में तीमारदारों की लंबी लाइन लगी है। हालांकि कोरोना संक्रमितों को जरूरत पडऩे पर मेडिकल ऑक्सीजन ही देनी पड़ेगी, लेकिन महामारी के इस दौर में सांस की तकलीफ को देखते हुए अब हमें पर्यावरण के प्रति जागरूक होना ही पड़ेगा। इसकी शुरुआत हमें अपने घर से करनी होगी। इसके लिए दैनिक जागरण घर घर बनेगी ऑक्सीजन प्लांट अभियान शुरू कर रहा है।

हिसार स्थित चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के एग्रो टूरिज्म सेंटर के इंचार्ज डा. अरविंद मलिक बताते हैं कि प्रदूषण बाहर ही नहीं घर के अंदर भी है। घर की रसोई में भोजन बनाने, लैपटॉप, कंप्यूटर, टैबलेट, मोबाइल, एलईडी, एसी, फ्रिज व अन्य कई तरह के उपकरणों से प्रदूषण फैलता है। आजकल हर घर की जरूरत बन चुके इन उपकरणों से कई प्रकार की हानिकारक गैसों का उत्सर्जन होता है।

घर के अंदर की हवा को शुद्ध रखने और हवा में घुलनशील हानिकारक केमिकलों को खत्म करने के लिए इन दिनों बाजार में एक उपकरण आ गया है। उसका नाम है इलेक्ट्रिक एयर प्यूरीफायर। पांच हजार से लेकर 40 हजार रुपये तक में मिलने वाले इलेक्ट्रॉनिक एयर प्यूरीफायर के काम करने को लेकर सभी कंपनियों के अलग-अलग दावे हैं, लेकिन एक 50 रुपये का पौधा इन हजारों रुपये के एयर प्यूरीफायर से बेहतर हवा शुद्ध कर सकता है।

बस इन पौधों को जरूरत होती है थोड़े से पानी और देखभाल की। घर के अंदर की हवा को शुद्ध रखने के लिए हमें प्रचुर मात्रा में ऑक्सीजन छोडऩे वाले पौधे लगाने होंगे। इंडोर प्लांट लगाकर हम स्वस्थ हवा के साथ ऑक्सीजन की प्रचुर मात्रा भी ले सकते हैं। इंडोर प्लांट कार्बन मोनो ऑक्साइड व बेंजीन जैसी विषैली हवा को घर से बाहर निकालने में मदद करते हैं।

प्रकृति से करना होगा प्रेम

हम फिजूल खर्च और शानो-शौकत पर काफी पैसा खर्च करते हैं, लेकिन घर में स्वच्छ हवा मिले ऐसे इंडोर प्लांट लगाने के बारे में आम लोग कम ही सोचते हैं। बंगलों और कोठियों में रहने वालों के घरों में इंडोर प्लांट देखने को मिलते हैं, लेकिन अब हर व्यक्ति को अपने घर में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन छोडऩे वाले और घर के अंदर की विषैली गैसें बाहर निकालने वाले पौधे लगाने होंगे। हमें प्रकृति से प्रेम करने की आदत डालनी पड़ेगी।

एक व्यक्ति को हर घंटे 50 लीटर ऑक्सीजन की जरूरत होती है

विज्ञानियों के अनुसार एक व्यक्ति को हर घंटे 50 लीटर ऑक्सीजन की जरूरत होती है। पेड़ या पौधे की एक पत्ती से एक घंटे में पांच मिलीलीटर ऑक्सीजन प्रति घंटा बनती है। इस हिसाब से जरूरी ऑक्सीजन की पूॢत के लिए एक कमरे में 10 हजार पत्तियां होनी चाहिए और 300 से 500 पौधों से जरूरी मात्रा में ऑक्सीजन मिल पाएगी। पीपल का पेड़ अन्य पेड़ों के मुकाबले ज्यादा ऑक्सीजन देता है। यह दिन में 22 घंटे से भी ज्यादा समय तक ऑक्सीजन देता है।

हवा को फ्रेश करने में बांस का पेड़ काम आता है। यह अन्य पेड़ों के मुकाबले 30 फीसद अधिक ऑक्सीजन छोड़ता है। पीपल के पेड़ की तरह नीम व बरगद के पेड़ भी अधिक मात्रा में ऑक्सीजन देते हैं। नीम, बरगद, तुलसी एक दिन में 20 घंटों से ज्यादा समय तक ऑक्सीजन का निर्माण करते हैं। शायद इसीलिए सनातन धर्म में इन सभी पेड़ों को पूजनीय बताया गया है।

ऑक्सीजन छोड़ने वाले इंडोर प्लांट की उपलब्धता बढ़ाने पर विशेष जोर दिया जा रहा है। साथ ही लोगों में पौधे लगाने के प्रति जागरूकता बढ़ाने पर भी काम किया जा रहा है। विश्वविद्यालय के एग्रो टूरिज्म सेंटर और बॉटिनिकल गार्डन में कई पौधे तैयार किए जा रहे हैं। लोग इन केंद्रों से पौधे खरीद सकते हैं।

प्रो, बीआर कंबोज, कुलपति, चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार

ये भी जानें

20 किलो धूल एक सामान्य पेड़ सालभर में सोखता है

700 किलोग्राम ऑक्सीजन का उत्सर्जन एक पेड़ सालभर में करता है

20 टन कार्बन डाई ऑक्साइड एक पेड़ प्रति वर्ष सोखता है

4 डिग्री तक औसतन तापमान गॢमयों में एक बड़े पेड़ के नीचे कम रहता है

80 किलोग्राम पारा, लिथियम, लेड आदि जैसी जहरीली धातुओं को सालभर में सोखने की क्षमता एक पेड़ में होती है

1 लाख वर्ग मीटर में दूषित हवा को एक पेड़ सालभर में साफ करता है।

इन पौधों को घर में लाएंगे तो नहीं रहेगी ऑक्सीजन की कमी

नाग पौधा, एरेका पाम, सिंगोनियम, क्रोटोन, मनी प्लांट, एलोवेरा, स्पाइडर प्लांट, लेडी पाम, बोस्टन फर्न, पाइथीफाइलम, गोल्डन पोथेस, मदर-इन-लॉ टंग, रबड़ प्लांट, तुलसी, बैंबू पाम

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.