हाकी में हिसार की शर्मिला का योगदान रहेगा याद

हिसार की शर्मिला को पहली बार हाकी स्टिक पकड़ाने वाली कोच प्रवीना ने बताए शर्मिला से जुड़े किस्से।

JagranSun, 01 Aug 2021 06:24 AM (IST)
हाकी में हिसार की शर्मिला का योगदान रहेगा याद

- हिसार की शर्मिला को पहली बार हाकी स्टिक पकड़ाने वाली कोच प्रवीना ने बताए शर्मिला से जुड़े किस्से जागरण संवाददाता, हिसार : ओलंपिक में ऐसा पहली बार हुआ है जब महिला और पुरुष हाकी की टीमें एक साथ क्वार्टर फाइनल मुकाबले में पहुंची हों। महिला टीम को आगे पहुंचाने में वंदना कटारिया के तीन गोल हमेशा याद किए जाएंगे। शर्मिला को स्कूल में पहली बार हाकी पकड़ाने वाली प्रवीना सिहाग बताती हैं कि मैच को जिताने वाले स्वर्णिम तीन गोल में हिसार की खिलाड़ी शर्मिला की भी अहम भूमिका रही है। तीनों गोलों में शर्मिला ने ही पास दिया, जिसके कारण वंदना गोल करने में सफल रही। मैदान पर दोनों की खिलाड़ियों की सूझबूझ से यह लक्ष्य हासिल हुआ। गौरतलब है कि यह कारनामा दोनों खिलाड़ियों ने भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच में हुए मैच के दौरान किया।

अनुभव कम फिर ब्रिटेन जैसी टीमों को दी टक्कर

फिजिकल इंस्ट्रक्टर प्रवीना बताती हैं कि शर्मिला ने ओलंपिक में अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। ब्रिटेन जैसी मजबूत टीमों के सामने जो कोई खिलाड़ी नहीं टिक पा रहा था उस स्थिति में शर्मिला की परफोर्मेंस ने काफी उत्साहित किया है। आयरलैंड के साथ भी उन्होंने कड़ी टक्कर ली। बाल लेकर रनवे करना, ये देखने से ही पता चलता है कि खिलाड़ी ने मेहनत की है। शर्मिला ने कई विपक्षी खिलाड़ियों के स्टिक से बाल झटकी है। कैमरी स्कूल में हाकी सीखना शुरू करने से लेकर इंडिया की टीम तक शर्मिला में कई बड़े बदलाव देखे जा रहे हैं। वह बताती हैं कि शर्मिला ने कई उतार चढ़ाव देखे हैं इन सबके बावजूद उन्होंने ओलंपिक में जगह बनाई साथ ही श्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

परिजनों को डर था, समझाने पर माने

प्रवीना बताती हैं कि जब वह शर्मिला को हाकी के लिए ले जाना चाहती थी तब परिजनों को चिता थी कि लड़की बाहर जाएगी कोई दिक्कत न हो जाए। मगर प्रवीना ने समझाया और चंडीगढ़ भेजा फिर आगे कई उतार चढ़ाव शर्मिला ने देखे। इसके बावजूद हार नहीं मानी तो भारतीय टीम में अपनी जगह बनाई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.