HBSE: शिक्षा बोर्ड में घर से निकले कचरे से तैयार होगी कम्पोस्ट, रोजाना पैदा होता है एक क्विंटल कचरा

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के सचिव कृष्ण कुमार ने बोर्ड परिसर में कम्पोस्ट खाद तैयार करने के लिए लघु संयंत्र का उद्घाटन करने के बाद वहां के कर्मचारियों और उनके परिवार को सूखा व गीला कूड़ा अलग-अलग रखने के लिए जागरूक किया।

Naveen DalalWed, 01 Dec 2021 04:16 PM (IST)
कम्पोस्ट खाद तैयार करने के लिए बोर्ड कैंपस में लघु संयंत्र लगाया गया।

भिवानी, जागरण संवाददाता। भिवानी को स्वच्छ बनाने की मुहिम में हर कोई अपनी भागीदारी दे रहा है। नियमानुसार 100 किलों से ज्यादा कूड़ा जहां निकलता है उसे निस्तारण के लिए प्लांट लगाना होता है। उसी कड़ी में हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ने कदम बढ़ाए है। अब बोर्ड की कालोनी में मौजूद 250 घरों से निकलने वाले कूड़े से खाद तैयार होगी। यह खाद कैंपल में पेड़-पौधों में डाली जाएगी। 

शिक्षा बोर्ड के कैंपस में कूड़े-कचरे से कम्पोस्ट खाद तैयार करने का लगाया गया लघु संयंत्र

शिक्षा बोर्ड ने अपने कर्मचारियों के लिए आवासिय सुविधा दी हुई है। इसमें 250 घर है जिनसे हर रोज एक क्विंटल सूखा व गीला कूड़ा एकत्रित किया जाता है। इसके अलावा कैंप में लगे पेड़-पौधों के पत्ते जमीन पर गिरते है। उनको भी एकत्रित कर लिया जाता है। इस कूड़े के निस्तारण और उसका प्रयोग बेहतर ढंग से इसको लेकर बोर्ड ने कदम बढ़ा दिए है। उनकी तरफ से कैंपस परिसर में कम्पोस्ट खाद तैयार करने के लिए लघु संयंत्र लगाया गया है। इस संयंत्र के माध्यम से सूखा-गीला कूड़ा व पेड़-पौधों से गिरे पत्तों को उपयोग में लाकर कम्पोस्ट खाद तैयार की जाएगी, जिससे हमारा पर्यावरण दूषित न होकर शुद्घ होगा तथा साथ ही बनाई गई खाद भी पेड़-पौधों में डाली जा सकेगी।

कूड़ा अलग-अलग रखने के लिए किया जागरूक

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के सचिव कृष्ण कुमार ने बोर्ड परिसर में कम्पोस्ट खाद तैयार करने के लिए लघु संयंत्र का उद्घाटन करने के बाद वहां के कर्मचारियों और उनके परिवार को सूखा व गीला कूड़ा अलग-अलग रखने के लिए जागरूक किया। बोर्ड अध्यक्ष डा. जगबीर सिंह ने बताया कि भारत सरकार द्वारा सालिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल-2016 लागू किया गया है, जिसके तहत घर-घर सूखा व गीला कूड़ा अलग-अलग लेने का प्रावधान है। इसके अलावा जिन जगहों से प्रतिदिन 100 किलों से ज्यादा कूड़ा निकलता है उन्हें खुद अपने कचरे का निस्तारण करना होगा। उन्होंने बताया कि इस संयंत्र के लगने से बोर्ड को खाद खरीदने में वित्तीय बचत भी होगी। उन्होंने बताया कि कम्पोस्ट एक प्रकार की खाद है जो जैविक पदार्थों के अपघटन एवं पुन:चक्रण से प्राप्त की जाती है। यह जैविक खेती का मुख्य घटक है। कम्पोस्ट बनाने का सरल तरीका है-नम जैव पदार्थों का ढेर बनाकर कुछ काल तक प्रतीक्षा करना ताकि इसका विघटन हो जाए।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.