Haryana Politics: ऐलानाबाद सीट से भाजपा की टिकट से दो बार चुनाव लड़ने वाले पवन बैनीवाल कांग्रेस में शामिल

पवन बैनीवाल कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गये हैं। उन्होंने हरियाणा कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा की अगुवाई में कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र से दो बार भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ने

Rajesh KumarMon, 13 Sep 2021 01:26 PM (IST)
कुमारी शैलजा की मौजूदगी में पवन बैनीवाल कांग्रेस में शामिल।

जागरण संवाददाता, सिरसा। ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र से दो बार भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ने वाले पवन बैनीवाल कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गये हैं। हरियाणा कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा की अगुवाई में कांग्रेस पार्टी के अंदर शामिल हुए है। पवन बैनीवाल भाजपा में सात साल रहने के बाद 21 अप्रैल 2021 को भाजपा पार्टी छोड़ी थी। सिरसा के शहीद भगत सिंह खेल स्टेडियम में किसानों का समर्थन करते हुए भाजपा पार्टी छोड़ने की घोषणा की थी। उस समय पवन बैनीवाल ने कहा कि पिछले कई महीनों से भाजपा में घुटन महसूस कर रहा था। ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र में विकास करवाने की कोई मांग रखी गई। मगर अभी तक कोई मांग पर ध्यान नहीं दिया गया।

इनेलो नेता अभय सिंह ने दोनों बार हराया

पवन बैनीवाल ऐलनाबाद विधानसभा सीट से दो बार भाजपा की टिकट से चुनाव लड़ चुके हैं। हालांकि दोनों बार पवन बैनीवाल इनेलो नेता अभय चौटाला के सामने चुनाव लड़कर हार चुके हैं। इनेलो नेता अभय चौटाला ने ऐलनाबाद सीट से इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद अब हल्के में विधानसभा चुनाव होना है। ऐलनाबाद में कांग्रेस के प्रत्याशी भरत सिंह बैनीवाल चुनाव लड़ते रहे हैं। ऐसे में अब उपचुनाव में पार्टी किसको प्रत्याशी बनाकर चुनाव मैदान में उतरेगी। यह फैसला अब पार्टी ही तय करेगी।

सात साल पहले इनेलो छोड़कर भाजपा में हुए शामिल  

पवन बैनीवाल इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला के सबसे करीबी दोस्त रहे हैं। उन्होंने इनेलो पार्टी को वर्ष 2014 में अलविदा कह दिया था। इसके बाद भाजपा में शामिल हो गये। भाजपा ने वर्ष 2014 के विधासभा चुनाव में ऐलनाबाद से प्रत्याशी बनाकर मैदान में उतारा। इस चुनाव में हार गये। भाजपा ने हारने के बाद हरियाणा बीज विकास निगम का चेयरमैन भी बनाया। इसके बाद फिर से वर्ष 2019 के चुनाव में इनेलो नेता अभय सिंह के सामने चुनाव में मैदान में उतरा। इस चुनाव में भी पवन बैनीवाल को हार का सामना करना पड़ा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.