दो दिन से लापता हिसार के शिक्षक का अधजला शव मिलने पर बाकी हैं कई अनसुलझे सवाल, उलझती जा रही गुत्‍थी

हिसार में एक शिक्षक की जली हुई लाश मिली है वह दवा लेने के लिए घर से बाइक पर निकले थे मगर उनकी लाश तोशाम रोड पर मिली है। वे वहां कैसे पहुंचे क्‍या हुआ कैसे हुआ ये सवाल अभी तक पहेली बने हुए हैं।

Manoj KumarSun, 20 Jun 2021 09:44 AM (IST)
शिक्षक के स्वजनों ने शक जताया है कि बाइक पर सवार होकर निकले अजीत की हत्या की गई है

हिसार, जेएनएन। हिसार में तोशाम रोड स्थित सिद्धार्थ इंटरनेशनल स्कूल के सामने खाली प्लाट से अधजली हालत में मृत मिले अजीत डागर को उसके पिता रामफल डागर ने वीरवार रात को घर से निकलने के लिए मना किया था, लेकिन उस दिन अजीत उनकी बात काे अनसुना कर उन की दवाई लेने 7.30 बजे बाइक पर सवार होकर घर से निकल गया था। अजीत के पिता रामफल की डिस्क प्रॉब्लम के कारण पांव सुन्न है, जिसकी दवाई चल रही है। वीरवार शाम अजीत पिता के पांवों की मालिश कर रहा था तो उस दौरान दवा लाने का जिक्र किया, लेकिन अजीत को मना कर दिया था।

इसके बावजूद वह अपना फोन घर पर छोड़कर जल्दी में बाइक लेकर निकल गया, इसके दो दिन बाद शनिवार सुबह 10.30 बजे अजीत का अधजला शव तोशाम रोड पर सिद्धार्थ इंटरनेशनल स्कूल के सामने स्थित एक मारबल हाउस के साथ खाली प्लॉट से मिला है। अजीत चिकनवास गांव के सरकारी हाई स्कूल में विज्ञान विषय में पीजीटी केमिस्ट्री विषय के लेक्चरर था। शव मिलने पर पुलिस ने अजीत के शव को कब्जे में लेकर सिविल अस्पताल भिजवाया।

स्वजनों ने जताया हत्या का शक

मामले में स्वजनों ने हत्या का शक जताया है। स्वजनों का कहना है कि अजीत डागर की हत्या कर उसके शव की पहचान छिपाने के लिए आरोपितों ने शव काे जला दिया है, ताकि अपराधियों की पहचान ना हो और वे गिरफ्तारी से बचें रहे। मृतक के भाई अनूप डागर ने शक जताया कि उसके भाई की हत्या प्लानिंग के तहत की गई है। एचटीएम थाना पुलिस ने अनूप के बयान पर अब गुमशुदगी के मामले में धारा 302 और 201 को जोड़कर हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

मृतक के हाथों की बनावट और दस्तावेजों के जरिये हुई शिनाख्त

अधजला शव मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दो दिन पहले एचटीएम थाना में दर्ज हुए एक व्यक्ति की गुमशुदगी के मामले को जोड़कर देखा। पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज करवाने वाले स्वजनों को शव की शिनाख्त के लिए आने को कहा। जिसके बाद सूर्य नगर निवासी एडवोकेट अनूप सूचना पाकर वहां पहुंचे, एडवोकेट अनूप ने अपने भाई के लोवर की डबल जेब और उसके हाथों की बनावट से शव की शिनाख्त की, साथ ही पुलिस ने मौके से मृतक की बाइक से दस्तावेज जुटाए, जिससे मृतक की पहचान हो गई।

अग्रोहा मेडिकल में हुआ पोस्टमार्टम

मृतक के शव का पहले सिविल अस्पताल की मोर्चरी में भिजवाया गया। वहां से अग्रोहा मेडिकल रेफर किया गया, अग्रोहा मेडिकल में दो डाक्टरों के बोर्ड ने पोस्टमार्टम किया। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव स्वजनों को सौंप दिया। पुलिस मामले में जांच के लिए फॉरेंसिक एक्सपर्ट की मदद ले रही है। वहीं मौके पर एसपी पहुंचे और उन्होंने टीमें बनाकर मामले में जांच के आदेश दिए। पुलिस इसे हत्या और आत्महत्या दोनों एंगल से जांच कर रही है। दीपक अजीत शादीशुदा था और उसका एक 7 साल का बेटा और पांच साल की बेटी है।

सीसीटीवी फुटेज में बाइक नजर आई

पुलिस ने इस मामले में करीब पांच किलोमीटर तक की सीसीटीवी फुटेज खंगाली है। वहीं घटनास्थल से एक फूटेज बरामद हुई है। जिसमें पुलिस को कुछ खास सबूत नहीं मिल पाए। इस फूटेज में नजर आया कि वीरवार को 7.50 बजे मारबल की दुकान के कोने पर एक बाइक आकर रुकती है, लेकिन इस फूटेज में बाइक का सिर्फ अगला टायर दिखाई दे रहा है। पुलिस इस रोड की अन्य फुटेज खंगालने में लगी है।

इस मामले में कुछ अनसुलझे सवाल

अजीत घर से दवाई लेने के लिए निकला, लेकिन उसका शव तोशाम रोड पर मिला। वह तोशाम रोड कैसे पहुंचा।- अजीत की हत्या अगर लूट के लिए की गई तो वहां से ना तो उसकी बाइक चोरी की गई और ना ही उसके पर्स से रुपये निकाले गए। अजीत के शव के पास से सीरिंज बरामद हुए है, लेकिन वहां से पिता की दवाई नहीं मिला।

छाबड़ा मेडिकल पर दवा लेने भी नहीं गया, फुटेज में हुआ खुलासा

छाबड़ा मेडिकल की सीसीटीवी फूटेज में सामने आया कि वहां अजीत दवा लेने ही नहीं पहुंचा। वहीं उसके घर के नजदीक से एक फूटेज में वह वीरवार को 6.30 बजे तीन लोगों के साथ गाड़ी में सवार होकर गया था। हालांकि कुछ देर में वापिस आ गया था। इसके बाद बाइक पर 7.30 बजे अकेला ही घर से निकला था।

घटनास्थल से यह सामान बरामद हुआ -

पुलिस ने घटनास्थल से अधजले शव के साथ मृतक की मोटरसाइकिल, एक नया चाकू, चाकू का रैपर, दो टीके, एक सिरिंज, दो प्लास्टिक के ढक्कन बरामद किए है। मौके से कोई पेट्रोल या तेल की कोई केन बरामद नहीं हुई है।

मृतक के पिता पूर्व और पत्नी वर्तमान में लाइब्रेरियन -

मृतक के भाई अनूप ने बताया कि उनके पिता रामफल डागर सीआर बीएड कॉलेज में पूर्व लाइब्रेरियन थे। वहीं मृतक अनूप की पत्नी जेवरा स्थित बीएड कालेज में लाइब्रेरियन है।

-- -- मृतक के शव का अग्रोहा मेडिकल में पोस्टमार्टम करवाकर शव स्वजनों को सौंप दिया है। स्वजनों के बयान पर हत्या का केस दर्ज किया गया है। मामले में जांच की जा रही है।

इंस्पेक्टर सुखजीत, प्रभारी, एचटीएम थाना।

-- - नियमित रुप से आ रहे थे स्कूल -

शिक्षक अजीत अच्छे इंसान थे, काम के प्रति लगन रखते थे, स्कूल में इन दिनों भी नियमित रूप से आ रहे थे, स्कूल में उनका कभी कोई झगड़ा नहीं हुआ और ना ही किसी ने उन पर किसी तरह का आरोप लगाया है।

सुनील कुमार, हैडमास्टर, सरकारी हाई स्कूल, चिकनवास।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.