भाई की दुकान पर नहीं जाता व्यापारी तो बच जाती जान, बौखलाहट में मारी थी बदमाश ने गोली

रोहतक में भाई की दुकान पर पहुंचे व्‍यापारी की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी
Publish Date:Sun, 25 Oct 2020 01:28 PM (IST) Author: Manoj Kumar

रोहतक, जेएनएन। रोहतक में गांधी कैंप में 12 दिन पहले हुए स्क्रैप व्यापारी विजय हत्याकांड का पर्दाफाश हो गया। पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है, जबकि गोली मारने वाला तीसरा आरोपित अभी फरार चल रहा है। आरोपित स्क्रैप व्यापारी के भाई की दुकान पर लूटपाट करने आए थे, बीच में आने पर उन्होंने गोली मारकर स्क्रैप व्यापारी की हत्या कर दी थी। डीएसपी हेडक्वार्टर गोरखपाल राणा ने बताया कि 12 अक्टूबर को गांधी कैंप निवासी स्क्रैप व्यापारी विजय की हत्या कर दी गई थी।

आर्य नगर थाना पुलिस के साथ सीआइए-2 को भी इसकी जिम्मेदारी दी गई थी। सीआइए-2 की टीम ने जांच के बाद बहादुरगढ़ से दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों की पहचान कमला नगर निवासी अमन और पंजाब के अबोहर जिला निवासी प्रिंस के रूप में हुई। जिन्हें अपने तीसरे साथी बहादुरगढ निवासी नीरज के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था। वारदात के बाद से ही आरोपित बहादुरगढ़ में छिपे हुए थे। पूछताछ में सामने आया कि वारदात के समय आरोपित अमन बाइक चला रहा था, जबकि नीरज और प्रिंस पीछे बैठे हुए थे। नीरज व प्रिंस स्क्रैप व्यापारी विजय के भाई अजय की परचून की दुकाान पर गए।

इसके बाद आरोपितों ने उससे करीब दो लाख रुपये लूट लिए। इसी बीच स्क्रैप व्यापारी विजय दुकान पर पहुंच गया। स्क्रैप व्यापारी ने पीछे से आकर आरोपित नीरज के कंधे पर हाथ रख दिया। तभी आरोपित नीरज ने स्क्रैप व्यापारी के चेहरे पर सीधी गोली मार दी थी। जिसमें स्क्रैप व्यापारी की मौत हो गई थी। आरोपित वहां पर लगे सीसीटीवी कैमरे में भी भागते समय कैद हो गए थे। गोली मारने वाला आरोपित नीरज अभी फरार चल रहा है।

वारदात से भी पहले की थी रेकी, तब दिया अंजाम

आरोपितों का मकसद लूट की वारदात को अंजाम देना था। इसके लिए उन्होंने अजय की दुकान पर रेकी की थी। पहले तीनों आरोपित दुकान पर पहुंचे थे। इसके कुछ मिनट बाद दो आरोपित दोबारा दुकान पर आए, जिन्होंने मुंह पर कपड़ा बांधा हुआ था। तब उन्होंने लूट की वारदात को अंजाम दिया।

पहले भी की थी लूट की वारदात

आरोपितों से पूछताछ के बाद चिन्योट कालोनी में हुई लूट की वारदात का भी पर्दाफाश हुआ है। आरोपितों ने अपने साथियों के साथ मिलकर 26 सितंबर की रात दुकान संचालक सतीश से पिस्तौल के बल पर करीब 28 हजार रुपये और मोबाइल लूट लिया था। आरोपितों के साथ इस वारदात में कई अन्य भी शामिल थे। यह मामला पीजीआइ थाने में दर्ज है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.