गौरव ने 10 लाख का कर्ज चुकाने के लिए खुद ही दोस्त के साथ मिलकर रची थी 50 लाख लूटने की कहानी

जागरण संवाददाता, हिसार/हांसी : हांसी में साढ़े 49 लाख लूटने की शिकायत देने वाला एफसी ज्वेलर्स का कर्मचारी गौरव ही मास्टरमाइंड निकला। गौरव ने अपने गांव करनाल के घरौंडा के दोस्त के साथ मिलकर लूट की साजिश रची थी। गौरव के सिर पर 10 लाख रुपये का कर्जा था। 10 लाख का कर्जा उतारने के लिए उसने अपने दोस्त दुष्यंत के साथ अगवा कर लूट की झूठी शिकायत की थी। गौरव को लगा कि अगर वह खुद से लूट की बात पुलिस को कहेगा तो पुलिस उस पर शक नहीं करेगी और उसका कुछ नहीं होगा। बकायदा इस घटना को अंजाम देने के लिए दो दिन पहले प्लानिग की गई। पुलिस ने गौरव और उसके दोस्त दुष्यंत को गिरफ्तार कर साढ़े 36 खर्च बरामद किए हैं।

करनाल के घरौंडा का रहने वाला गौरव दिल्ली के करोल बाग में एफसी ज्वेलर्स की ब्रांच में पिछले डेढ़ साल से काम करता है। वह शनिवार को दिल्ली से हिसार के एफसी ज्वेलर्स पर गहनों की डिलीवरी देने आया था। आभूषणों की डिलीवरी देने के बाद वह 49.50 लाख रुपये मिले थे।

------------

मैं शनिवार को दिल्ली से हिसार के एफसी ज्वेलर्स पर गहनों की डिलीवरी देने आया था। आभूषणों की डिलीवरी देने के बाद मुझे 49.50 लाख रुपये मिले थे। नकदी को लेकर मैं हिसार बस स्टैंड पर सुबह 11 बजे पहुंचा। सुबह 11 बजे कृष्णा बस से दिल्ली लिए रवाना हुआ। दोपहर को पीरागढ़ी के पास वह लघुशंका के लिए बस से उतरा। इसी दौरान एक व्यक्ति ने उसकी कमर में पिस्तौल लगा दी और गाड़ी में बैठने के लिए कहा। गाड़ी में पहले से तीन अन्य व्यक्ति भी मौजूद थे। चारों लुटेरों ने गाड़ी में बैठते ही उसका बैग छीन लिया व पिस्तौल के बल पर उसे गाड़ी की सीट के नीचे लिटा दिया। इसके बाद लुटेरों ने मारपीट कर गौरव को हांसी के बाइपास पर स्थित अमन ढाबा के पास छोड़ दिया। उसका पर्स व मोबाइल फोन भी बदमाशों ने लूट लिए।

- आरोपित गौरव द्वारा पुलिस को दी शिकायत

-------------

यह था पूरा मामला

दरसअल गौरव ने अपने गांव घरौंडा के दोस्त दुष्यंत के साथ मिलकर दो दिन पहले पैसे हड़पने की प्लानिग बनाई। गौरव अकसर गहनों की डिलीवरी देने हिसार आया करता था। गौवर को पता था कि शनिवार को भी उसे एफसी ज्वेलर्स पर डिलीवरी देने के लिए हिसार जाना है। इस डिलीवरी से उसे साढ़े 49 लाख रुपये मिलेंगे। गौरव ने इन रुपयों को हासिल करने के लिए पूरी प्लानिग बनाई। गौरव ने करनाल से अपने दोस्त को हिसार बुलाया। उसने हिसार बस स्टैंड आकर कृष्णा बस सर्विस की दिल्ली की टिकट लेकर जेब में डाल ली। वहीं उसने साढ़े 49 लाख रुपये की राशि अपने दोस्त दुष्यंत को पकड़ाकर उसे करनाल वापस भेज दिया। इसके बाद वह हांसी में उतरा और अपने अपहरण और लूट की सूचना पुलिस को दी। गौरव ने कपड़े मिट्टी से गंदे कर लिए और ऐसी हालत बना ली जिससे पुलिस को लगे उसका अपहरण कर लूट हुई है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची व गौवर को थाने में ले आई। सिटी थाना पुलिस ने मामले में जीरो एफआइआर दर्ज कर दिल्ली के पश्चिम विहार वेस्ट पुलिस थाना में भेजी दी।

-------------

हांसी पुलिस ने 24 घंटे में सुलझाया मामला

इस मामले में जांच के लिए हांसी पुलिस शनिवार को आरोपितों के गांव दिल्ली रवाना हो गई थी। पुलिस ने गौवर को तुरंत गांव जाकर गिरफ्तार कर लिया और उसके दोस्त दुष्यंत को भी गांव से ही दबोच लिया। गौरव ने 10 लाख रुपये तो कर्ज चुकाने के लिए दे दिए बाकि के रुपये तूड़ी के कोठे में छिपा दिए थे।

------------------

लूट की झूठी कहानी बनाने वाला मास्टरमांइड खुद ज्वेलर्स का कर्मचारी गौरव था। उसने अपने दोस्त के साथ मिलकर घटना का अंजाम दिया था।

- सुनील कुमार, एसएचओ, सिटी थाना, हांसी

---------

जिला पुलिस ने इस मामले को 24 घंटे से भी कम समय में सुलझा दिया है। खुद कर्मचारी ने ही दोस्त के साथ मिलकर लूट की वारदात की कहानी रची थी। दोनों को घरोंडा से गिरफ्तार कर लिया गया है। कल पुलिस कोर्ट में पेश कर रिमांड मांगेगी।

- सुभाष शर्मा, जिला पुलिस पीआरओ, हांसी।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.