एचएयू से एमएचयू में विभागों के विलय को लेकर रोष, हौटा ने आज बुलाई पदाधिकारियों की बैठक

एचएयू से एमएचयू में विभागों के विलय को लेकर रोष, हौटा ने आज बुलाई पदाधिकारियों की बैठक

जागरण संवाददाता हिसार चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के आठ कृषि विज्ञान क

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 08:00 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, हिसार :

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के आठ कृषि विज्ञान केंद्र और दो विभागों को करनाल की महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय में विलय करने के मामले में हर दिन नया मोड़ आ रहा है। वीरवार को जहां कुलपति प्रो समर सिंह ने खुद इस मामले पर कहा था कि इस प्रकार का हम कोई निर्णय नहीं ले रहे हैं। तो दूसरी तरफ हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय शिक्षक एसोसिएशन (हौटा) के पदाधिकारियों ने इस मामले पर शनिवार को जनरलबॉडी की बैठक बुला ली है। हालांकि हौटा नई कार्यकारिणी चुनाव का एजेंडा भी इस बैठक का एक हिस्सा है। इस मामले को लेकर बैठक में शिक्षकों का विवि के इस फैसले के प्रति रोष सामने आ सकता है। वहीं दिन प्रतिदिन यह मामला सियासी रंग पकड़ता जा रहा है। किसान आंदोलन पहले से ही पीक पर है इधर अब प्रदेश की पहले कृषि विश्वविद्यालय को लेकर ऐसे निर्णय विपक्ष के लिए मुद्दा बन रहे हैं। ------------------ जागरण पड़ताल: विलय के पत्र की हकीकत जानिए विवि - यह पत्र दो महीने पहले जारी हुआ है, यह कोई मुद्दा ही नहीं है विवि प्रशासन की बातों पर भरोसा करें पड़ताल- जागरण के पास मौजूद पत्र जोकि इसी साल एक जनवरी को करनाल की महाराणा प्रताप बागवानी विवि के रजिस्ट्रार द्वारा एचएयू प्रशासन को लिखा गया है। ऐसे में यह दो माह पुराना नहीं है। --------- विवि- विलय शब्द पत्र में गलती से लिखा गया है पड़ताल- जब गलती से लिखा गया है तो इस गलती को सुधारकर पत्र विड्रा क्यों नहीं किया गया। प्रतिउत्तर में एचएयू प्रशासन ने जवाब क्यों नहीं दिया। इसके साथ ही इस पत्र के अनुसार जिस कमेटी का जिक्र किया है वह कमेटी भी गठित हुई है और उसकी एक बैठक भी हो चुकी है। ----------- विवि- शिक्षकों में कोई रोष नहीं है हमने उन्हें समझा दिया है कि वह एचएयू प्रशासन की बात का भरोसा करें पड़ताल- शिक्षकों में रोष है क्योंकि उनके पास कोई आधिकारिक रूप से जानकारी नहीं है। ----------- बागवानी और सब्जी विभाग का स्टॉफ कुलपति से मिला एचएयू के कुलपति प्रो. समर समर सिंह ने बताया कि इस मामले को लेकर दोनों ही विभागों के विज्ञानी हमारे पास आए थे, मैंने भरोसा दिलाया है कि एचएयू का स्वरूप बिलकुल नहीं बदलेंगे। एचएयू से एक टुकड़ा भी इधर से उधर नहीं करेंगे। एमएचयू को अलग से विकसित किया जाएगा। वहां के रीजनल सेंटर अलग से बनाए जा रहे हैं। एचएयू के कृषि विज्ञान केंद्रों में हम अपना स्टॉफ बैठा सकते हैं मगर एचएयू को बांटने वाला काम नहीं करूंगा। कृषि पूरे हरियाणा की है, जो एचएयू की ही रहेगी। शिक्षकों के रोष को लेकर मुझे जानकारी नहीं हैं, मेरे पास जो आ रहा है उसे समझा रहा हूं। ---------- वर्जन------------- धीरे-धीरे संस्थानों को अलग किया जा रहा है। सरकार को सकारात्मक रवैया अपनाना चाहिए। अगर एचएयू के स्वरूप में किसी भी तरह का बदलाव किया गया तो हम आंदोलन करेंगे और मजबूती से आवाज उठाएंगे। इस छेड़छाड़ को होने नहीं दिया जाएगा।

--------कुलदीप बिश्नोई, विधायक आदमपुर व सदस्य, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ----------- अभी तक हमें बताया है कि विलय नहीं हो रहा है, अगर भविष्य में विलय के निर्णय की जानकारी मिली तो हौंटिया खुलकर इस फैसले का पुरजोर तरीके से विरोध करेगी।

-दिनेश कुमार, प्रधान, एचएयू गैर शिक्षक संघ

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.