Fraud in Sirsa: पेट्रोल पंप दिलवाने के नाम पर ठगी, मांगे दस लाख रुपये, 3 के खिलाफ केस दर्ज

सिरसा में ठगी का मामला सामने आया है। पेट्रोल पंप दिलवाने के नाम पर सिरसा के हेमंत सोनी से 66 हजार रुपये की ठगी कर ली। पीड़ित ने की शिकायत पर सिविल लाइन थाना पुलिस में गुरुग्राम निवासी तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है।

Rajesh KumarFri, 24 Sep 2021 07:05 PM (IST)
सिरसा में पेट्रोल पंप दिलवाने के नाम पर ठगी।

जागरण संवाददाता, सिरसा। पेट्रोल पंप लगाने के नाम पर पुरानी कमेटी वाली गली रोड़ी बाजार की गली हेमंत सोनी से 66 हजार रुपये की ठगी कर ली। पीड़ित ने की शिकायत पर सिविल लाइन थाना पुलिस में गुरुग्राम निवासी तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस को दी शिकायत में हेमंत सोनी ने बताया कि बीते जून महीने 2021 में उसके पास गुरुग्राम निवासी अजीत वर्मा से फोन पर संपर्क हुआ बातचीत के दौरान उससे जिक्र किया कि उसे पेट्रोल पंप की जरूरत है। अजीत वर्मा ने ने बताया कि उसके फूफा प्रदीप कुमार इंडियन आयल रिफाइडरी पानीपत में मेन पोस्ट पर लगे हुए है। जो पेट्रोल पंप लेने का लक्ष्य पूरा हुआ तो मै तुम्हें सौ फीसद पंप दिलवा दूंगा और आपका कोई खर्चा भी नहीं होने दूंगा।

रिफंडेबल सिक्योरिटी के नाम पर मांगे पैसे

हेमंत ने बताया कि अजीत से उसका संपर्क हिसार निवासी रिश्तेदार दिनेश के माध्यम से हुआ था जोकि इस समय गुरुग्राम में नोकरी करते हैं। रिश्तेदार के बीच में होने के कारण उसको अजीत वर्मा पर विश्वा हो गया। इसके बाद आठ जून 2021 को अजीत ने उसे पेट्रोल पंप इंडियन आयल की रिफंडेबल सिक्योरिटी के लिए उससे गुरुग्राम में आइसीआइसीआइ बैंक खाते में 33 हजार रुपये जमा करवाए। इसके बाद दो जुलाई 2021 को सीएनजी पेट्रोल पंप की एवज में रिफंडेबल सिक्योरिटी के रूप में फिर 33 हजार रुपये जमा करवाए। इसके बाद अजीत ने जून में पेट्रोल पंप व सीएनजी पंप के बारे में उसके पते पर दो फार्म भेजे, जिसके उसने भरकर कोरियर के माध्यम से अजीत वर्मा के पास भेज दिये।

पेट्रोल पंप के नाम पर मांगे 10 लाख रुपये

इसके बाद बीती आठ सितंबर 2021 को अजीत ने उसे मैसेजिंग एप पर मैसेज किया कि आपके फार्म मिल गए हैं और सर्वे की तारीख 22 सितंबर है। जिसमें सुनील व आदित्य आपकी जगह का सर्वे करने के लिए आंगे। जिसके बाद बीती 23 सितंबर को अजीत ने उससे संपर्क किया और सर्वेवर को साथ लेकर सिरसा पहुंचने की जानकारी दी। 23 सितंबर को शाम को वे दिल्ली पुलिया पर अजीत वर्मा ने अपने दो साथियों से मिलवाया। उनके नियुक्तिपत्र दिखाकर अजीत ने कहा कि आप सर्वेवर को दस लाख रुपये दे देना।, आपका पेट्रोल पंप पक्का है। जिस पर उसे उन पर शक हुआ।

उसने अपने दोस्तों को बुलाया और गहन पूछताछ की तो पता चला कि वह सर्वेवर टीम नहीं थी बल्कि अजीत के सहयोगी सुनील सैनी उर्फ कालू निवासी आर्या पुरु गुाुग्राम व हुकम चंद निवासी गुरुग्राम के रूप में हुई। अजीत व उसके साथियों ने पेट्रोल पंप दिलवाने के बहाने झूठे दस्तावेज तैयार करके उसके साथ धोखाधड़ी की है। मामले की जांच खैरपुर चौकी प्रभारी एएसआइ जगमीत सिंह कर रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.