किसान संगठनों की हिसा का चारो ओर विरोध, सामाजिक संगठनों ने इसे राजनीतिक षड्यंत्र बताया

जागरण संवाददाता हिसार कोविड-19 संक्रमितों के उपचार के लिए बनाए गए चौधरी देवीलाल संजीवन

JagranTue, 18 May 2021 07:30 AM (IST)
किसान संगठनों की हिसा का चारो ओर विरोध, सामाजिक संगठनों ने इसे राजनीतिक षड्यंत्र बताया

जागरण संवाददाता, हिसार : कोविड-19 संक्रमितों के उपचार के लिए बनाए गए चौधरी देवीलाल संजीवनी अस्पताल के लोकार्पण कार्यक्रम के दौरान हुई हिसा का चारों ओर विरोध शुरू हो गया है। इसी को लेकर शहर के सामाजिक संगठन एक मंच पर आ गए हैं। राजगढ़ रोड स्थित संत कबीर शिक्षा समिति के परिसर में विभिन्न सामाजिक संगठनों, महासभा और समितियों के पदाधिकारी एकजुट हुए और किसानों के धरने की आड़ में किसान संगठनों द्वारा किए गए विरोध और हिसा की कड़े शब्दों में निदा की। पदाधिकारियों ने कहा कि किसान आंदोलन की आड़ में यह एक राजनीतिक षड्यंत्र लग रहा है। उन्होंने किसान नेताओं व संगठनों को चेताया कि किसान आंदोलन की आड़ में डर का माहौल पैदा करने की कोशिश न करें। यदि हिसा व विरोध करने वाले नहीं माने तो आगामी समय में सभी सामाजिक संगठन एकजुट होकर उपद्रवियों का विरोध करेंगे।

संत कबीर शिक्षा समिति के परिसर में सोमवार को पत्रकारवार्ता में रविदास महासभा के प्रधान एसपी चालिया ने कहा कि वर्तमान की स्थिति देखकर लगता है कि किसान आंदोलन गलत दिशा में चल पड़ा है। किसान आंदोलन की आड़ में अब राजनीति होने लगी है। प्रदेश में भय का माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है। अस्पताल का लोकार्पण कार्यक्रम भाजपा पार्टी का कार्यक्रम नहीं था न ही वह कोई जनसभा थी। यह तो जनसुविधा के लिए एक कार्य का शुभारंभ था जिसका लाभ सभी जनता को मिलना था। ऐसे में सीएम के कार्यक्रम का विरोध कर हिसा करना निदनीय है। इससे तो किसान संगठन जन विरोधी कार्य करने पर उतर आए हैं, जिसे किसी भी सूरत में सहन नहीं किया जाएगा। यदि किसान जनता का ही भला नहीं चालते तो इसका मतलब तो आंदोलन अब जन विरोधी दिशा में चल पड़ा है । जो गलत है। ऐसे में ये सिलसिला अगर यूं ही जारी रहा तो उपद्रव करने वालों का विभिन्न समाज के लोग अपने स्तर पर विरोध करेंगे।

-------------

संकट के दौर में सभी करें सहयोग, विरोध नहीं होगा बर्दाश्त- चालिया

रविदास महासभा के प्रधान एसपी चालिया ने कहा कि संकट के इस दौर में सभी को सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हिसार में स्थापित किया गया 500 बेड का अस्पताल किसी पार्टी विशेष का अस्पताल न होकर हरियाणा सरकार द्वारा स्थापित अस्पताल है, जोकि कोरोना महामारी के संक्रमितों के उपचार की दिशा में काफी महत्वपूर्ण है। ऐसे में इस अस्पताल कार्यक्रम का विरोध किसी भी सूरत में जायज नहीं है। मंहगी एसयूवी गाड़ियों में बैठकर आने वाले लोग किसी राजनीति षड्यंत्र का हिस्सा हैं न की किसान आंदोलनकारी।

समाज के सभी लोगों को बराबरी से जीने का हक

एसपी चालिया ने कहा कि उनके समाज विशेषकर कबीर छात्रावास व रविदास महासभा को पहले भी अपनी महापुरूषों की जयतीं कार्यक्रमों में ऐसे विरोध झेलने पड़ें हैं, जोकि गलत है। समाज के सभी लोगों को बराबरी से जीने का हक है, इसलिए किसी के अधिकारी का हनन नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन के नाम पर धरने प्रदर्शन की बात तो सही है, लेकिन जनसुविधा का विरोध सरासर गलत है। जो सहन करने योग्य नहीं है। पत्रकारवार्ता के दौरान जांगड़ा सभा, स्वर्णकार सभा, पांचाल समिति, गुज्जर समाज, नाथ समाज, सैनी समाज, नामदेव सभा, सैन सभा, आल हरियाणा युवा कुम्हार फेडरेशन व अन्य समाज के प्रतिनिधि मौजूद थे। जिनमें कुलवंत सिंह जांगड़ा, मंगत राम, राजेश बगला, राजेंद्र सिंह जोगी, अंबिका प्रसाद, रूप राम गुज्जर, बीर कुमार बाल्मिकी, रामनिवास सोनी, रत्न कुमार बड़गुज्जर, कैप्टन तुलाराम, रामतीर्थ सुधार, सुधीर पांचाल, राजकुमार सैनी, विजेंद्र विश्वकर्मा, राममेहर सैन व सुखबीर सैन उपस्थित रहे।

---------

किसान धरने की आड़ में हुआ राजनीतिक षड्यंत्र : खुंडिया

संत कबीर शिक्षा समिति के सरंक्षक जोगीराम खुंडिया ने कहा यह समय मानवता का साथ देने का समय है न कि राजनैतिक षड्यंत्र के तहत किसी प्रकार की हिसा करने का। ऐसे समय में सरकार जहां कोविड अस्पताल, आइसोलेशन सेंटर और अन्य व्यवस्थाएं कर रही हैं, किसी भी स्तर का विरोध जायज नहीं है। उन्होंने कहा कि दिशाहीन आंदोलन समाज के लिए खतरनाक है, इसलिए आंदोलन की अगुवाई करने वालों को मंथन करना होगा।

---------

धरने की आड़ में लोगों को किया परेशान तो प्रशेश व्यापी छेड़ेंगे मुहिम : कंबोज

कंबोज सभा से प्रधान देशराज कंबोज ने कहा कि महज छोटी सी अवधि में 500 बेड के अस्पताल की स्थापना कर सरकार ने कोरोना संक्रमितों के उपचार की ठोस व्यवस्था की है। इसके लिए कंबोज सभी हरियाणा सरकार का धन्यवाद करती है। उन्होंने कहा कि आंदोलनकारियों को प्रजातांत्रिक व्यवस्थाओं में विश्वास करना होगा। यदि ऐसे ही लोगों को परेशान किया जाता रहा तो विभिन्न समाज के लोग प्रदेशव्यापी मुहिम आरंभ करेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.